Day: July 7, 2018

आदिवासियों के धर्म का मुद्दा (प्रभात खबर)

II डॉ अनुज लुगुन II सहायक प्रोफेसर, दक्षिण बिहार केंद्रीय विवि, गया anujlugun@cub.ac.in कुछ दिन पहले राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित, पद्मश्री सोनाम त्सरिंग लेपचा से साथियों के साथ कलिंगपोंग में मेरी लंबी मुलाकात हुई थी. वे लेपचा आदिवासी समुदाय के महान लोक संगीतकार हैं. उन्हें एक साथ आदिवासी दार्शनिक, इतिहासकार और पुरातत्ववेत्ता कहा जा सकता […]

बैंक ऑफ चाइना पर रहें सजग (प्रभात खबर)

II डॉ अश्विनी महाजन II एसोसिएट प्रोफेसर, डीयू ashwanimahajan@rediffmail.com बीते 4 जुलाई, 2018 को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने चीन के सबसे बड़े बैंक ‘बैंक ऑफ चाइना’ को लाइसेंस जारी कर भारत में व्यवसाय करने की अनुमति दे दी है. बताया जा रहा है कि बैंक ऑफ चाइना को यह लाइसेंस हाल ही में शंघाई […]

सेक्युलर शिक्षा की ओर (राष्ट्रीय सहारा)

पिछले कुछ सालों में देश में अल्पसंख्यक समुदायों के खिलाफ हिंसा की घटनाओं में तेजी से वृद्धि हुई है। शायद ही ऐसा कोई दिन गुजरता हो, जब देश के किसी हिस्से से अल्पसंख्यकों के खिलाफ हिंसा और हत्या की खबर न आती हो। कभी गोरक्षा के नाम पर तो कभी लव जेहाद के नाम पर […]

सपनों को पंख (दैनिक ट्रिब्यून)

सारे जहां से अच्छा-पहले भारतीय अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा की यही प्रतिक्रिया थी जब उन्होंने अंतरिक्ष से भारत को पहली बार निहारा था। 2 अप्रैल 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने विंग कमांडर राकेश शर्मा, जिन्होंने रूसी सोयूज टी 11 अंतरिक्ष यान में उड़ान भरी थी, से पूछा था कि वहां से भारत कैसा […]

Merkel’s deal (The Hindu)

Angela Merkel, now in her fourth term as German Chancellor, has weathered many crises without jeopardising the stability of the government in Berlin, or the integrity of the eurozone. After an inconclusive election in September 2017, she held firm against the demands of smaller parties that seemed incompatible with her moderate and accommodative stance. In […]

A political ploy: on the hike in MSPs (The Hindu)

The Centre has cleared a hike in the minimum support prices (MSPs) for the kharif summer crop, ranging from a modest 3.7% increase for urad to as much as a 52.5% for the cereal ragi over the previous season. The NDA government says this ‘redeems’ its promise of assuring farmers a price at least 150% […]

बदलाव किसके लिए (पत्रिका)

यह बात भले ही कड़वी लगे पर सच है कि विकास और भ्रष्टाचार के बीच चोली-दामन जैसा संबंध बन चुका है। जब भी भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने की बात होती है, कथित विकास अवरुद्ध होने लगता है। समय-समय पर सरकारों ने भ्रष्टाचार विरोधी कानूनों की अनदेखी करते हुए विकास की गाड़ी को आगे बढ़ाकर अपना […]

किसानों के कर्ज माफी ने देश में राजनीतिक बीमारी का रूप ले लिया (दैनिक जागरण)

कर्नाटक सरकार की ओर से किसानों के 34 हजार करोड़ रुपये के कर्ज माफ करने की घोषणा यही बता रही है कि कर्ज माफी ने किस तरह एक राजनीतिक बीमारी का रूप ले लिया है। यह एक ऐसी राजनीतिक बीमारी है जो बैैंकिंग व्यवस्था के साथ-साथ देश की आर्थिक सेहत पर भी बुरा असर डाल […]

पाकिस्तान के लिए नापाक हरकतों का खामियाजा भुगतने का वक्त (दैनिक जागरण)

[कमलेंद्र कंवर]। हमारा देश लंबे समय से पाकिस्तान-प्रायोजित आतंकवाद के दंश झेल रहा है। अब वक्त आ गया है कि हम इसका तगड़ा प्रतिकार करें और पाकिस्तान को बता दें कि उसे अपनी नापाक हरकतों का खामियाजा भुगतना ही होगा। हम बीते कई वर्षों से लगातार कह रहे हैं कि यह पड़ोसी मुल्क आतंकियों की […]

तेल पर भारी सियासत (अमर उजाला)

स्टेनली रीड जब वियना में हुई पिछली बैठक में प्रमुख तेल उत्पादकों ने कहा था कि तेल का उत्पादन बढ़ाकर कीमतों पर काबू करेंगे, तो फिर तेल की कीमत में उछाल क्यों जारी है? पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन के अधिकारियों और रूस जैसे अन्य प्रमुख तेल उत्पादकों ने पिछले वर्ष वैश्विक तेल आपूर्ति के […]



संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016