Day: June 6, 2018

सूख चली सदानीराएं (हिन्दुस्तान)

शशि शेखर नई दिल्ली का सरकारी तंत्र इन दिनों संयुक्त राष्ट्र संघ के नुमाइंदों की अगवानी की तैयारियों में व्यस्त है। दुनिया भर के लोग पर्यावरण दिवस के मौके पर 5 जून को यहां इकट्ठा होंगे। इस बार की थीम है- प्लास्टिक हटाओ। मेजबान होने के नाते हिन्दुस्तान का दायित्व बनता है कि वह इस […]

संपादकीयः संदेश और सवाल (जनसत्ता)

राष्ट्रपति भवन में संपन्न दो दिवसीय राज्यपाल सम्मेलन एक रस्मी आयोजन बन कर रह गया, तो इसमें कुछ भी हैरानी की बात नहीं है। राज्यपाल की संवैधानिक जिम्मेदारियां क्या हैं और उन्हें निभाने में वे कितने खरे साबित हो रहे हैं, सबसे मौजूं सवाल तो यही था। पर यह सवाल किसी ने नहीं उठाया, क्योंकि […]

संपादकीयः शिलांग की चिनगारी (जनसत्ता)

मेघालय की राजधानी शिलांग पांच दिन से कर्फ्यू की गिरफ्त में है। हिंसक घटनाएं जारी हैं। हालात से निपटने के लिए सेना और अर्धसैनिक बलों को बुलाना पड़ा है। केंद्र ने सीआरपीएफ के एक हजार जवान भेजे हैं। इससे स्थिति की गंभीरता का अंदाजा लगाया जा सकता है। एक मामूली-सी घटना इतना बड़ा और हिंसक […]

आधुनिक समाज में भी पीड़ित है नारी – तसलीमा नसरीन (नईदुनिया)

आजकल मैं सुबह हाथ में चाय की प्याली लेकर ऑनलाइन पत्र-पत्रिकाओं, फेसबुक, टि्वटर, वॉट्सएप इत्यादि से ही जान लेती हूं कि दुनिया में क्या गतिविधियां चल रही हैं। हाल में वायरल हुआ एक वीडियो देखा कि बांग्लादेश के किसी गांव में करीब 80 साल के एक बूढ़े की शादी महज 19-20 साल की एक लड़की […]

राज्यपालों की भूमिका (नईदुनिया)

प्रधानमंत्री की यह अपेक्षा पूरी होना आसान नहीं कि राज्यपाल केंद्रीय योजनाओं का लाभ आम लोगों तक पहुंचाने में मदद करें। मौजूदा सियासी माहौल में यह आशंका अधिक है कि यदि राज्यपाल इस अपेक्षा के अनुरूप अपनी सक्रियता दिखाते हैं, तो गैर-भाजपा दलों द्वारा शासित राज्यों की सरकारें अपनी आपत्ति प्रकट कर सकती हैं। वे […]

आलेख : अपनी तबाही की इबारत लिखता पाक – आरपी सिंह (नईदुनिया)

यह किसी से छिपा नहीं कि पाकिस्तान का वजूद सेना के जनरलों की दया पर निर्भर है। अब स्थिति यह है कि पाकिस्तानी फौज भी उन आतंकियों से सशंकित रहती है, जिन्हें उसने ही जन्म दिया है। ये आतंकी इस्लामिक कानूनों के मुताबिक देश चलाना चाहते हैं। वैसे वे भी अपने विरोधियों से चिंतित रहते […]

‘एक अदद आइडिया’ का मामला (प्रभात खबर)

II आरके सिन्हा II राज्यसभा सदस्य rkishore.sinha@sansad.nic.in चंडीगढ़ से संबंध रखनेवाले सचिन बंसल ने बीते दिनों तब हंगामा खड़ा कर दिया था, जब उन्होंने अपनी कंपनी फ्लिपकार्ट में अपनी हिस्सेदारी को लगभग तीन हजार करोड़ रुपये में अमेरिका की वॉलमार्ट कंपनी को बेच दिया. उन्होंने लगभग 11 वर्ष पहले फ्लिपकार्ट को बेंगलुरु में दो कमरों […]

पहली चिंता लोकतंत्र की (प्रभात खबर)

II मृणाल पांडे II ग्रुप सीनियर एडिटोरियल एडवाइजर, नेशनल हेराल्ड mrinal.pande@gmail.com मोदी सरकार के गुजिश्ता चार सालों की तुलना अगर किसी से की जा सकती है, तो शायद लालबहादुर शास्त्री के राज के पहले साल से. कृपया चौंकें नहीं. विदेश नीति (कच्छ के मरुस्थल)में हमारी शर्मनाक हार, हिंदी भाषा थोपे जाने के मुद्दे पर भारतीय […]

संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016