Day: September 9, 2019

निर्भीक पत्रकारिता जारी रहे (प्रभात खबर)

पवन के वर्मा लेखक एवं पूर्व प्रशासक pavankvarma1953@gmail.com पवन जायसवाल एक पत्रकार हैं, जिन्होंने कुछ ही दिनों पूर्व यूपी के मिर्जापुर जिले के जमालपुर प्रखंड स्थित सियुर प्राथमिक विद्यालय में मध्याह्न भोजन योजना के अंतर्गत रोटी और नमक खाते बच्चों का वीडियो अपने मोबाइल पर रिकॉर्ड किया था. इस जिले के जिलाधिकारी अनुराग पटेल के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जुर्माने के जोर से सुधारने की कोशिश (प्रभात खबर)

आशुतोष चतुर्वेदी प्रधान संपादक, प्रभात खबर नये मोटर वाहन कानून लागू कर दिया गया है और जुर्माने की भारी-भरकम राशि को लेकर देशभर में कोहराम मचा हुआ है. नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों और यातायात पुलिस के कर्मचारियों के बीच हाथापाई की घटनाएं भी सामने आने लगी हैं. यह दलील लोगों के गले...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जेएनयू और रोमिला थापर (प्रभात खबर)

रविभूषण वरिष्ठ साहित्यकार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की स्थापना संसद एक अधिनियम द्वारा 1966 में हुई थी. अपनी स्थापना के तीन वर्ष बाद 22 अप्रैल, 1969 को यह अपने अस्तित्व में आया. अपने स्वर्णजयंती वर्ष में अपने यहां 49 वर्ष से सेवा दे रही विश्व प्रसिद्ध भारतीय इतिहासकार रोमिला थापर (30 नवंबर, 1931) से इसने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय: मिशन और उम्मीद (जनसत्ता)

चंद्रयान-2 के साथ गया लैंडर ‘विक्रम’ भले चांद की सतह पर नहीं उतर पाया हो, लेकिन इसे अभियान की असफलता मानना उचित इसलिए नहीं होगा क्योंकि मिशन का बड़ा लक्ष्य हासि कर लिया गया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों ने जिस लगन और कड़ी मेहनत से पूरे चंद्रयान-2 अभियान को इस मुकाम...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय: नादानी भरी जिद (जनसत्ता)

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद तीन सौ सत्तर समाप्त किए जाने के बाद पाकिस्तान सरकार कई नादानी भरे कदम उठा चुकी है। उन्हीं में एक है भारत से उड़ान भरने वाले या भारत को जाने वाले विमानों को अपने हवाई क्षेत्र का इस्तेमाल न करने देना। भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और स्लोवेनिया की...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अफ्रीका के साथ रिश्ते: लीक से हटकर और कल्पनाशील पहल के विपरीत (अमर उजाला)

सुरेंद्र कुमार, पूर्व राजदूत विदेश नीति के क्षेत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लीक से हटकर और कल्पनाशील पहल (2014 में अपने शपथ ग्रहण समारोह में सार्क नेताओं को बुलाने और नवाज शरीफ के जन्मदिन पर अचानक लाहौर पहुंचने) के विपरीत, जिसके नतीजे मिले-जुले रहे, उनकी सोची-समझी और अफ्रीका तक पहुंच बनाने पर केंद्रित नीति...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कश्मीरी पंडितों की त्रासदियां: आखिर क्यों कश्मीर छोड़ भागने को होना पड़ा मजबूर? (अमर उजाला)

रामचंद्र गुहा कश्मीरी पंडितों का जब नरसंहार हुआ था, तब मैं दिल्ली में रहता था और इंस्टीट्यूट ऑफ इकोनॉमिक ग्रोथ (आईईजी) में काम करता था। आईईजी के निदेशक जाने-माने समाजशास्त्री त्रिलोकी नाथ मदान थे, जो कि घाटी में ही पले-बढ़े थे और उन्होंने पंडितों के जीवन पर नृवंशविज्ञान से संबंधित क्लासिक काम किया। प्रोफेसर मदान...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कमजोर पड़ा देश का सबसे सक्षम हथियार (बिजनेस स्टैंडर्ड)

शेखर गुप्ता देश इस समय बढ़ते रणनीतिक खतरे का सामना कर रहा है। यह खतरा नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान द्वारा नई ब्रिगेड तैनात करने या उसके किसी मिसाइल परीक्षण से जुड़ा नहीं है। न ही यह चीन द्वारा किसी तरह की नई घुसपैठ है। यह खतरा तीन तरह का नहीं है। यह न तो सैन्य...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आगामी 100 दिन (बिजनेस स्टैंडर्ड)

नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल की सरकार ने गत सप्ताह अपने 100 दिन पूरे किए। हालांकि सरकार ने अपने लिए कोई लक्ष्य तय नहीं किए लेकिन सरकार की दिशा और उसके समक्ष मौजूद नीतिगत चुनौतियों का आकलन करना अपने आप में अहम काम है। इसमें दो राय नहीं कि शुरुआती 100 दिनों में सरकार का...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

स्कूली बच्चों का निवाला छीनने वालों के खिलाफ कार्रवाई और खबर दिखाने वाले पत्रकार का अभिनंदन हो (अमर उजाला)

विजय विद्रोही मिड-डे मील में रोटी-नमक की मिर्जापुर की कहानी पर बवाल बचा हुआ है। लेकिन मिड-डे मील को लेकर पहली बार गड़बड़ी हुई हो, ऐसा नहीं है। फर्क सिर्फ इतना है कि पहले गड़बड़ी की बात सामने आने पर प्रशासन से लेकर सरकारें लीपापोती में जुट जाती थी, इस बार उस पत्रकार के खिलाफ...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register