Day: August 8, 2019

निचली अदालतों में तेज हो नियुक्ति प्रक्रिया (दैनिक ट्रिब्यून)

अनूप भटनागर केन्द्र सरकार ने हाल ही में उच्चतम न्यायालय में न्यायाधीशों के स्वीकृत पदों की संख्या बढ़ाने का निर्णय लिया क्योंकि वहां काम का दबाव अधिक है। क्या उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों पर काम का दबाव कम है जो उनकी स्वीकृत संख्या बढ़ाने के बारे में कोई निर्णय नहीं लिया गया? उच्च न्यायालयों की...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बहुमत का करिश्मा (दैनिक ट्रिब्यून)

लंबे समय से कहा जा रहा था कि भाजपा नवंबर 2020 तक उच्च सदन राज्यसभा में अपने बूते बहुमत जुटा लेगी। मगर हाल ही में राजग सरकार ने कई ऐसे विधेयक राज्यसभा से सफलतापूर्वक पारित करवा लिये, जिनके पारित होने की दूर-दूर तक संभावना नजर नहीं आ रही थी। इन विधेयकों के अंतर्विरोध व विपक्षी...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

गतिशील सोच में ही महिलाओं की इज्जत (दैनिक ट्रिब्यून)

रंजीत पोवार पंजाब के तरनतारन में 29 जुलाई को तिहरा हत्याकांड हुआ। ये हत्याएं एक लड़का-लड़की के अंतरजातीय विवाह करने के प्रतिकर्म के रूप में की गईं। हालांकि दोनों ही परिवार उस सिख संप्रदाय के अनुयायी हैं, जिसमें जाति-पाति के बीच भेद न करने की बात कही जाती है। पिछले तीन सालों में देशभर में...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ताकि दूर हो सुस्ती (नवभारत टाइम्स)

भारतीय रिजर्व बैंक ने लगातार चौथी बार रेपो रेट घटाई है। इसे 0.35 फीसदी घटाकर 5.40 प्रतिशत पर ला दिया गया। रेपो रेट वह ब्याज दर है, जिस पर रिजर्व बैंक कमर्शल बैंकों को कर्ज देता है। अभी तक आरबीआई अपनी दरों में बदलाव चौथाई फीसदी को ही इकाई मानकर करता रहा है। इस बार...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Self flagellation In Pakistan (The Indian Express)

Written by Khaled Ahmed India’s revoking of Articles 370 and 35A to absorb the Indian state of Jammu and Kashmir into the Union was not liked by anyone across the world. The most effective objection came from India’s own secularists and liberals who took note of the rise of Hindutva under the BJP government as...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Now, win the peace (The Indian Express)

Written by Tavleen Singh A pall of despair hung over Srinagar when I was there in May just days before the election results. It should have been high season with houseboats and hotels bursting with visitors, pleasure boats on the Dal Lake and shops filled with the noise of eager shoppers. Instead, on this perfect...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अनुच्छेद 370 बेअसर होने पर पाक बौखलाया, गर्जन-तर्जन के बाद उसने भारत से व्यापारिक संबंध तोड़ लिए (दैनिक जागरण)

अनुच्छेद 370 को बेअसर करके जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाने की भारत सरकार की ऐतिहासिक पहल पर पाकिस्तान जिस तरह भड़का हुआ था उसे देखते हुए यह तय था कि वह कुछ न कुछ करेगा। तमाम गर्जन-तर्जन के बाद उसने जिस तरह भारत से राजनयिक संबंधों का दर्जा कम करने और व्यापारिक संबंध तोड़ने...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

J&K को अनुच्छेद 370 से आजादी तो मिल गई, लेकिन घाटी में शांति और सुरक्षा की मोदी सरकार के सामने एक चुनौती (दैनिक जागरण)

[ राजीव मिश्रा ]: जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 और 35 ए से आजादी मिल गई, लेकिन दशकों की हिंसा ने प्रदेश में एक खाली स्थान पैदा किया है। इस खाली स्थान पर अलगाववादियों और पाकिस्तानपरस्त तत्वों ने कब्जा करने की कोशिश की है। उन्होंने यह कोशिश इसीलिए की, क्योंकि मुख्यधारा के राजनीतिक दल रह-रह कर...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आकाशगंगा सी सुषमा स्वराज: उनका अचानक जाना भरी दुपहरी में अंधेरे का अहसास करा गया (दैनिक जागरण)

[ तरुण विजय ]: जिसने भी सुना, यकीन नहीं कर पाया। बार-बार सोचता और शायद यही मनाता कि खबर झूठी हो, लेकिन नियति को कुछ और स्वीकार था। सुषमा स्वराज का अचानक जाना भरी दुपहरी में अंधेरे का अहसास क्यों करा गया? कारण है सिर्फ उनका स्वभाव, उनकी विद्या और वाणी का सारस्वत प्रभाव, उनकी...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Cutting policy rates won’t revive the economy (Hindustan Times)

The Indian economy is in the midst of a slowdown. There is reason to believe that this is not just a cyclical phenomenon. The most significant pointer to this is that, including today, the Reserve Bank of India has reduced policy rates four times since February. The cumulative year to date reduction is 110 basis...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register