Day: July 2, 2019

युवा वर्ग नशे की चपेट में: देश को बर्बादी के रास्ते पर ले जाने वाले नशे की आमद रुकनी चाहिए (दैनिक जागरण)

अटारी सीमा पर पकड़ी गई 532 किलो हेरोइन के पीछे अगर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ का हाथ दिख रहा है तो इस पर हैरानी नहीं। आइएसआइ एक अर्से से भारत में पंजाब और जम्मू-कश्मीर के रास्ते हेरोइन और अन्य मादक पदार्थ भेजने में लगी हुई है। इसका मकसद युवा पीढ़ी को नशे की लत लगाकर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Modi must walk the talk on water conservation (Hindustan Times)

In the first Mann Ki Baat programme after assuming office in his second term, Prime Minister Narendra Modi on Sunday spoke on one of the biggest challenges facing India today: an acute water crisis. There are three key points to take away from his speech. One, people must help the government in its water conservation...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Stop violence against doctors in India (Hindustan Times)

Sporadic violence against doctors and health workers occurs across the world, but it’s usually limited to threats and abuse by patients under the influence of alcohol or illegal drugs. Violence against medical professionals in India is unique because it’s not perpetrated by patients, but by their families and friends, strangers who join out of misplaced...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

‘विष बेल की तरह बढ़ रही’ हमारे राजनीतिक ‘नेताओं की दबंगई’ (पंजाब केसरी)

देश में राजनीतिक दलों के नेताओं और कार्यकत्र्ताओं की गुंडागर्दी तथा दबंगई का एक दुष्चक्र सा चल पड़ा है और प्रभावशाली लोगों द्वारा अपने पद के दुरुपयोग का रोग विष बेल की तरह ही फैलता जा रहा है। अभी भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय द्वारा 26 जून को इंदौर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संकट में पश्चिमी देशों से सऊदी अरब की दोस्ती (पंजाब केसरी)

कुछ दिनों से सऊदी अरब के लिए एक के बाद एक बुरी खबरें आई हैं। बुधवार को संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट ने पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या में सऊदी अरब के क्राऊन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की भूमिका की जांच की सिफारिश की। अगले दिन अमेरिकी सीनेट ने सऊदी अरब को अरबों डॉलर के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

India Inc on water watch (Livemint)

The government reportedly plans to ask companies to conduct a water audit of their operations in order to assess their consumption, and then evolve a policy framework for industry-wise benchmarks for business consumption. Though belated, this is a good step, given the acute water shortage that India is faced with. Such a policy must mandate...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

A level transacting field, please (Livemint)

A waiver of the fee charged by banks on fund transfers kicked in this week, following a Reserve Bank of India directive. Separately, payment gateway Paytm has denied levying any transaction charges on users transferring money to their wallets from any source, as some media reports had conveyed. The two developments, though unrelated, have something...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जी-20 में भारत की कूटनीति (प्रभात खबर)

प्रो सतीश कुमार अंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकार विश्व राजनीति की दिशा को तय करने के लिहाज से कई अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं बनीं और बिखर गयीं. कई बार संस्थाएं जिस उद्देश्य से बनायी गयीं, उस पर काम हुआ ही नहीं. जी-20 सम्मेलन भी उसी श्रेणी का हिस्सा है, जो अपने मूल मकसद से हट गया. हालांकि, भारत...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ट्रंप की रणनीति (जनसत्ता)

अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच पिछले दो साल के घटनाक्रम हैरत में डालने वाले रहे हैं। कोई लंबा वक्त नहीं बीता, जब दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर था और लग रहा था कि तीसरे विश्व युद्ध के हालात बन रहे हैं। दोनों में से अगर किसी भी देश ने जरा भी संयम...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संरक्षणवाद और गोलबंदी (जनसत्ता)

जापान के शहर ओसाका में जी-20 देशों के सम्मेलन की सबसे बड़ी उपलब्धि तो यही रही कि प्रमुख सदस्य देशों के बीच कोई गंभीर मतभेद नहीं दिखा, बल्कि सबने भविष्य के लिए एक अच्छी और रचनात्मक शुरुआत का संकल्प किया। यों सभी राष्ट्रों के समक्ष आंतकवाद, जलवायु संकट और अन्य मुद्दे थे, लेकिन वैश्विक कारोबार...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register