Day: June 21, 2019

मानवता के सर्वांगीण कल्याण का मंत्र (दैनिक ट्रिब्यून)

योगेश कुमार गोयल विश्व स्तर पर योग को वैसे तो औपचारिक रूप से वर्ष 2015 में अपनाया गया था किन्तु भारत में योग का इतिहास सदियों पुराना है। साक्ष्यों की बात करें तो योग करीब पांच हजार वर्ष पुरानी भारतीय परम्परा है। 2700 ईसा पूर्व वैदिक काल में और उसके बाद पतंजलि काल तक योग...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अस्पतालों के जोखिम से भी बचिए (दैनिक ट्रिब्यून)

आर. कुमार अस्पतालों को अच्छे स्वास्थ्य और खुशियों का ठिकाना मानने की बजाय बीमारी और मौत का स्मारक कहा जाता है। रोगियों को रोग-दर्द से निजात दिलवाने या इसमें और ज्यादा इजाफा न होने पाए, इसलिए अस्पताल ले जाया जाता है। अस्पतालों में भर्ती हुए चंद खुशकिस्मत अपने जख्मों या अन्य बीमारियों से निजात पाने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अतार्किक पहल (दैनिक ट्रिब्यून)

परिवहन मंत्रालय के उस फैसले पर कई परिवहन विशेषज्ञों ने हैरानी जतायी है, जिसमें कहा गया है कि रोजगार के अवसरों में वृद्धि के लिये ट्रक चालकों के लिये निर्धारित आठवीं कक्षा पास होने की अहर्ता समाप्त की जायेगी। दरअसल अभी तक भारी वाहन ट्रक-बस आदि के चालकों को लाइसेंस आठवीं पास होने पर ही...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चुनौतियों पर नजर (नवभारत टाइम्स)

संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने गुरुवार को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की प्राथमिकताओं की एक झलक दे दी। कहने को राष्ट्रपति का अभिभाषण एक औपचारिकता है लेकिन इससे सरकार की आत्मछवि का एक अंदाजा मिल जाता है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सरकार के कुछ बड़े हालिया...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सामाजिक अभियान चले (राष्ट्रीय सहारा)

राजेश मणि पूरा देश जल संकट से जूझ रहा है। देशके अधिकतर राज्यों में त्राहि-त्राहि मची हुई है। कह सकते हैं कि वह दिन दूर नहीं जब हम जल संकट को लेकर किंकर्त्तव्यविमूढ़ हो जाएंगे। यह हम सबकी जानकारी में है, लेकिन हम हैं कि मौन साधे बैठे हुए हैं। पता नहीं किस दिन का...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Let’s strike a balance (The Indian Express)

Written by M Venkaiah Naidu As over 170 countries around the world celebrate the fifth International Yoga Day on June 21, it is a good moment to reflect on this treasure of ancient India and a unique part of the world’s intangible heritage. Practised in various forms around the world and continuing to grow in...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Man on a mission (The Indian Express)

Written by Gautam Gambhir Cricket and Prime Minister Narendra Modi are the flavours of the season. There is a cricketing analogy that applies to PM Modi. The difference between a good batsman and a truly great batsman is not just about averages but is also about certain aspects on the field. A good batsman gets...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

A coup and a crisis (The Indian Express)

Written by Bhaskar Chakravorti The elections made one thing amply clear: It’s NOT the economy, stupid. Neither the lowest quarterly GDP growth in 20 quarters nor the highest unemployment rate in 45 years could put the brakes on Narendra Modi’s thunderous return to South Block. And now, with the election in the history books, it...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

One man show (The Indian Express)

Written by Christophe Jaffrelot, Shreyya Rajagopal The just-concluded Lok Sabha elections were won by Narendra Modi, not the BJP. This is evident from the exit poll conducted by Lokniti-CSDS, which shows that one-third of the BJP voters would have chosen a different party had Modi not been the PM candidate. This state of affairs —...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

यदि कांग्रेस में जिम्मेदारी की भावना विकसित नहीं हुई तो अगले चुनाव में भाजपा और अधिक सीटें पा सकती है (दैनिक जागरण)

[ सुरेंद्र किशोर ]: मन का दाग मिटाने की जगह सिर्फ कायापलट की कोशिश से कांग्रेस का कोई कल्याण होता नजर नहीं आ रहा है। 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद एंटनी कमेटी ने कांग्रेस आलाकमान को एक तरह से ‘आत्मा की बैटरी चार्ज करने’ की सलाह दी थी। मगर पिछले पांच वर्षों में आलाकमान...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register