Day: May 24, 2019

मोदी की दोबारा ताजपोशी में खाई और मौका दोनों निहित (बिजनेस स्टैंडर्ड)

ए के भट्टाचार्य सत्रहवीं लोकसभा के लिए सात चरणों में संपन्न आम चुनाव के परिणामों के बाद नरेंद्र मोदी का दोबारा प्रधानमंत्री बनना तय है। एग्जिट पोल आने के अगले ही दिन शेयर बाजारों के सूचकांकों में करीब चार फीसदी की उछाल आ गई थी। गुरुवार को चुनाव परिणाम आने के दिन भी सेंसेक्स ने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मोदी-शाह ने कांग्रेस और अन्य दलों को पीछे छोड़ा (बिजनेस स्टैंडर्ड)

शेखर गुप्ता लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों से नजर आने वाले बिंदु मेरे हिसाब से इस तरह हैं: 1. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस दोनों ने ही बुनियादी तौर पर अलग रणनीतियों पर चुनाव लड़ा। भाजपा इसे राष्ट्रपति-शैली का चुनाव बनाना चाहती थी। वहीं कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों ने इसे 543 सीटों पर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मोदी की जीत (बिजनेस स्टैंडर्ड)

तीन दशक पहले कांग्रेस केंद्रित राजनीतिक व्यवस्था में बदलाव आया और हिंदू लामबंदी की शुरुआत हुई। उसके बाद की चौथाई सदी में नए जाति आधारित क्षेत्रीय दलों का उदय हुआ। फिर गठबंधन सरकारों का दौर आया। अब वह बदलाव पूरा हो चुका है और भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर तथा पश्चिमी भारत पर कब्जे के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Time the RBI moved afresh on bankruptcy (The Economic Times)

The Reserve Bank of India (RBI) should swiftly come out with its revised directive on the resolution of stressed assets, given that the country direly needs the Insolvency and Bankruptcy Code (IBC) to restore the health of the financial system. The revised directive will replace RBI’s February 12, 2018, circular that was struck down by...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Bang in the middle of the on creating jobs Narendra Modi decade (The Economic Times)

On becoming prime minister in 2014, Narendra Modi had asked India’s electorate to give him at least 10 years to put India on a path of progress and prosperity. Five years later, India’s voters have agreed — resoundingly, unhesitatingly. The results are a rousing victory for the PM, BJP, and party president and organisational meister...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

युद्ध की धमकी क्यों? (यूएसए टुडे, अमेरिका)

जब यूरोप में द्वितीय विश्व युद्ध छिड़ गया था, तब एक रेडियो चैट में राष्ट्रपति फ्रेंकलिन रूजवेल्ट ने फ्रांस और इंग्लैंड के समर्थन में भावी संकेत दिए थे। जब भी किसी संघर्ष में देश उलझा है, अमेरिकी राष्ट्रपति देश से विस्तृत संवाद करते रहे हैं। जब अमेरिका और ईरान के बीच तनाव तेजी से बढ़...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मोदी विरोध की विपक्षी राजनीति का ध्वस्त होना (हिन्दुस्तान)

मदन जैड़ा ब्यूरो चीफ, हिन्दुस्तान लोकसभा चुनावों में एनडीए के शानदार प्रदर्शन से विपक्ष के मंसूबों पर पानी फिर गया है। भाजपा को घेरने की उसकी रणनीति पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। विपक्ष ने आम चुनावों में मोदी सरकार को घेरने के लिए गठबंधन किए। बेरोजगारी, किसानों के मुद्दे, राफेल, जीएसटी एवं नोटबंदी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ऐतिहासिक जीत (हिन्दुस्तान)

जो जीता वही सिकंदर की कहावत पुरानी है, लेकिन कम से कम वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लागू नहीं होती। वह इसलिए सिकंदर नहीं हैं कि जीत गए, बल्कि वह इस बार की चुनावी लड़ाई के अकेले सिकंदर थे, इसलिए उनका जीतना तो शायद लड़ाई शुरू होने से पहले ही तय था। उनका खुद का...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

त्वरित टिप्पणी: ‘आनंद का दिन’ और ‘नैतिक जीत’ के निहितार्थ (हिन्दुस्तान)

शशि शेखर ‘जो जीता वही सिकंदर’ और ‘हारे को हरिनाम’- ये दो ऐसी कहावतें हैं,जिन्हें हम चुनाव दर चुनाव पढ़ते-सुनते आए हैं। गुजरात के परिणामों ने इन्हें नए मायने दे दिए हैं। भाजपा जीत गई है, उसका मत प्रतिशत बढ़ा है पर सीटें गिरी हैं। कांग्रेस मत प्रतिशत और सीट वृद्धि के बावजूद सरकार बनाने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जाति के समीकरण का टूटना (हिन्दुस्तान)

मनीषा प्रियम राजनीतिक विश्लेषक गुरुवार को आए चुनावी नतीजे भारतीय लोकतंत्र के लिए काफी अहम हैं। नरेंद्र मोदी, भाजपा और उनका राष्ट्रवाद अब केंद्र में एकछत्र शासन कर सकने की स्थिति में हैं। कांग्रेसवाद और क्षेत्रवाद, दोनों का एक साथ पतन हुआ है। बेशक कभी इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस के लिए कहा जाता...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register