Day: May 3, 2019

हिम मानव यानी येती के पदचिन्ह देखने को लेकर आलोचकों ने सेना के पर्वतारोही दल पर साधा निशाना (दैनिक जागरण)

[ तरुण विजय ]: खुद को लिबरल और सेक्युलर बताने वाले लोग कोई ऐसा मौका और मुद्दा नहीं छोड़ते जिसका सहारा लेकर वे आग्रही भारतनिष्ठों पर आक्रमण न करें। इन्हें कभी हमने नक्सली हिंसा में शहीद होने वाले जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए अथवा नक्सली और जिहादी हिंसा का निषेध करते हुए मुश्किल से देखा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

We must question the CAS ruling on Semenya (Hindustan Times)

On Thursday, the Court of Arbitration for Sport (CAS) ruling over South African athlete, Caster Semenya, made for poignant reading. In a media release — the actual 165-page verdict is confidential — CAS both agreed and disagreed with Semenya, the 28-year-old current world champion in 800 metres. Although CAS agreed that the regulations for female...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

भले ही पाक मसूद अजहर के खिलाफ कोई कार्रवाई न करे तब भी उस पर पाबंदी भारत की बड़ी कामयाबी है (दैनिक जागरण)

[ विवेक काटजू ] : मसूद अजहर के अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित होने के साथ ही यह तय हो गया कि चीन जैश ए मुहम्मद के इस सरगना की ढाल नहीं बनेगा। चीन कई वर्षों से उसे बचाता आ रहा था, मगर आखिरकार उसने अपना रवैया बदला। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के बाकी सदस्य देशों की...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सरकारी अध्यापकों को कक्षाओं में मोबाइल का इस्तेमाल न करने का सही निर्देश (पंजाब केसरी)

मोबाइल फोन इस शताब्दी का अभूतपूर्व चमत्कार है जिसके अनेक लाभों के साथ-साथ इसकी कई हानियां भी हैं। विशेष रूप से सड़क दुर्घटनाओं में मोबाइल फोन का बहुत योगदान है और इनके माध्यम से अश्लीलता का प्रसार भी हो रहा है लेकिन स्कूलों में मोबाइल फोन का जिस प्रकार दुरुपयोग हो रहा है उस पर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Hubris comes before an expensive fall in India (Livemint)

The way the cost of financial misconduct has been rising globally, a $158 million fine may seem like loose change. However, the Securities and Exchange Board of India (Sebi) has delivered much more than a slap of the wrist with its disgorgement order against the National Stock Exchange of India Ltd. over an algorithmic trading...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

किसान नहीं पेप्सिको है दोषी (प्रभात खबर)

डॉ अश्विनी महाजन, एसोसिएट प्रो, डीयू विदेशी कंपनियों द्वारा भारत के किसानों से मुनाफा वसूली नयी बात नहीं है. बीटी कपास के बीज पर बिना पेटेंट अधिकार के मोनसेंटो नामक अमेरिकी कंपनी द्वारा भारत के किसानों से सात हजार करोड़ रुपये से भी ज्यादा रॉयल्टी की वसूली अभी तक की जा चुकी है. अब नया...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आपदा के वक्त (जनसत्ता)

प्राकृतिक आपदा को रोकना मनुष्य के वश की बात नहीं। बस उससे होने वाले नुकसान से बचने के एहतियाती उपाय किए जा सकते हैं। आधुनिक तकनीक और संचार माध्यमों से एक सुविधा यह जरूर हुई है कि आपदा का पूर्व अनुमान लगाना संभव हो गया है। इससे समय रहते लोगों को सावधान रहने और आपदा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नफरत का दायरा (जनसत्ता)

उम्मीद की गई थी कि दुनिया में जैसे-जैसे विज्ञान और तकनीक के साथ-साथ आधुनिक वैज्ञानिक सोच का विकास और विस्तार होगा, वैसे-वैसे अलग-अलग मत को मानने वालों के बीच पसरी संकीर्णताओं की दीवारें टूटेंगी और इंसानी समाज ज्यादा सभ्य और संवेदनशील बनेगा। लेकिन इससे बड़ी विडंबना क्या होगी कि एक ओर दुनिया की उत्पत्ति के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

विशाखा मामले में तय मानकों को लांघने की कोशिश (बिजनेस स्टैंडर्ड)

कनिका दत्ता उच्चतम न्यायालय ने वर्ष 1997 में यौन उत्पीडऩ शिकायतों पर हरेक संगठन में आंतरिक समिति बनाने के बारे में ििनर्देश देकर महिला अधिकारों के लिए नई जमीन तैयार की थी। विशाखा केस के रूप में चर्चित इन निर्देशों को वर्ष 2013 में कानून का रूप दिया गया। ऐसा लगता है कि वर्ष 2019...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

दिवालिया निपटारे से जुड़ी आशंकाओं का सच होना (बिजनेस स्टैंडर्ड)

देवाशिष बसु तीन वर्ष पहले, मैंने नई ऋणशोधन अक्षमता एवं दिवालिया संहिता (आईबीसी) पर नौ आलेखों की शृंखला का पहला आलेख लिखा था। उस समय मैंने अपने आलेख में जो दलील और तर्क प्रस्तुत किए थे उन्हें विचित्र बताया गया था क्योंकि उस वक्त एक प्रतिबद्घ दिख रही सरकार नया कदम उठा रही थी। माना...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register