Day: April 15, 2019

सरकारी स्कूलों में विश्वास बहाली की पहल (दैनिक ट्रिब्यून)

क्षमा शर्मा हरियाणा के फतेहाबाद के गांव ढाणी ढाका-ईस्सर के लोगों ने फैसला किया है कि वे अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में ही पढ़ाएंगे। उन्होंने तय किया है कि वे अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में भेजेंगे, निजी स्कूलों में नहीं। यहां के लोगों ने पंचायत बुलाकर भी इस निर्णय पर पंचायत की मोहर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सफलता निखारने के लिए सतत प्रयास (दैनिक ट्रिब्यून)

रेनू सैनी कोई भी व्यक्ति चाहे वह कितना ही चतुर, प्रतिभाशाली और गुणवान क्यों न हो, पहली बार किसी भी कार्य को शत-प्रतिशत सही नहीं कर पाता। इसमें कुछ अपवाद अवश्य हो सकते हैं। लेकिन वास्तविकता यही है कि पहली बार में कार्य उतनी कुशलता से नहीं हो पाता, जितना कि बार-बार प्रयास करने के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नए मिजाज के अफसर (नवभारत टाइम्स )

केंद्र सरकार ने अपने विभिन्न मंत्रालयों में 9 प्रफेशनल्स को संयुक्त सचिव के रूप में नियुक्त किया है। इनमें से ज्यादातर प्राइवेट सेक्टर से हैं। नौकरशाही को नया रूप देने के मकसद से पिछले साल सरकार ने लैटरल एंट्री के जरिए लोगों को उच्च प्रशासनिक सेवा में मौका देने का निर्णय किया था। इसका मतलब...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ब्रिटेन का रवैया (राष्ट्रीय सहारा)

ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेजा मे का जालियांवाला बाग नरसंहार की सौंवीं वार्षिकी पर इसे ब्रिटिश इतिहास का शर्मनाक धब्बा कहना महत्त्वपूर्ण है। हालांकि उन्होंने जिस तरह मीडिया को बुलाकर बयान दिया, उससे साफ लगता है कि वो भारत के साथ संबंधों के महत्त्व को समझतीं हैं। उनको लगता है कि जालियांवाला बाग की पीड़ा आज भी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नया बवंडर (राष्ट्रीय सहारा)

फ्रांस के एक समाचार पत्र द्वारा अनिल अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस कम्युनिकेशंस की अनुषांगिक कंपनी को निर्धारित करों में छूट की खबर का भारत में राजनीतिक मुद्दा बनना बिल्कुल स्वाभाविक है। जिस तरह विपक्षी दल और कुछ मीडिया संस्थान राफेल को भ्रष्टाचार का मुद्दा बनाने पर तुले हैं, उसमें यह खबर उनके लिए मुंहमांगा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सम्मान के मायने (राष्ट्रीय सहारा)

अवधेश कुमार भारत के आम चुनाव में दुनिया की कितनी अभिरुचि है, उसका आभास प्रमुख देशों की मीडिया कवरेज से चल जाता है। पाकिस्तान की र्चचा यहां नहीं करूंगा क्योंकि वहां की मीडिया का तो इस समय मख्य मुद्दा ही भारत का चुनाव है। इमरान खान ने प्रथम चरण के चुनाव के ठीक पहले एक...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Health of a nation (The Indian Express)

Written by K Srinath Reddy The World Health Organisation (WHO) sought to highlight the importance and urgency of achieving Universal Health Coverage (UHC) when choosing this year’s theme for the World Health Day. It called for “UHC — for everyone everywhere”. This echoes the target set by the United Nations Sustainable Development Goals (SDGs) that...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

New Dalit, New India (The Indian Express)

Written by Guru Prakash The Dalit debate in India today has multiple layers. It is no longer viewed from the lens of affirmative action, politics of patronage and symbolism. Dalit thought has evolved with ever-changing social narratives and political landscapes. There are two vectors through which to decipher the Dalit imagination in the present context....

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

From Plate to Plough: Promises to the farmers (The Indian Express)

Written by Ashok Gulati, Ritika Juneja The festival of democracy started with the first phase of polling on April 11. Ideally, it should be celebrated like Holi, forgetting past enmity and embracing each other with love. But, unfortunately, it is being fought like the battle of Kurukshetra in the epic, Mahabharata. All the weapons of...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Poll machine and the people (The Indian Express)

Written by M. Rajivlochan Elections in India are conducted entirely by the machinery of the government, which is taken over for the purpose by the Election Commission. This has resulted in the common people of the country having no experience of how polling actually takes place. Keeping the common people away from the actual conduct...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register