Day: April 10, 2019

वादों से भरमाने का अंतहीन सिलसिला (दैनिक ट्रिब्यून)

ज्ञाानेन्द्र रावत आजकल देश में जैसे-जैसे मतदान की तिथि नजदीक आती जा रही है, चुनावी प्रचार तेजी पकड़ता जा रहा है। राजनीतिक दल लोकलुभावन नारों, वादों और सब्जबागों से भरे चुनावी पिटारे रूपी अपने चुनावी घोषणा पत्रों का ऐलान कर रहे हैं। चुनाव आयोग स्पष्ट कर चुका है कि राजनीतिक दल चुनाव में मुफ्त उपहार...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बिना लहर सत्ता की सवारी की आस (दैनिक ट्रिब्यून)

राजकुमार सिंह केंद्र और ज्यादातर राज्यों में सत्तारूढ़ भाजपा ने सत्रहवीं लोकसभा के चुनावों के लिए फिर एक बार मोदी सरकार को अपनी मुख्य चुनावी थीम बनाया है। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों में अबकी बार मोदी सरकार का नारा इस कदर चल निकला था कि केंद्र में भाजपानीत राजग सरकार ही नहीं बनी, देश...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

भरोसे का चुनाव (दैनिक ट्रिब्यून)

इक्कीस विपक्षी दलों ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व में आम चुनाव के दौरान ईवीएम से मतदान के बाद वीवीपैट से पचास फीसदी पर्चियों की गणना की मांग को लेकर जो याचिका दायर की थी, उस पर शीर्ष अदालत ने संतुलित फैसला दिया है। दरअसल, विपक्ष की मांग से चुनाव प्रक्रिया में...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हथियारों के बीच (नवभारत टाइम्स)

यह सुनकर शायद आप चौंक जाएं कि दुनिया भर में मौजूद 1 अरब 1 करोड़ छोटे हथियारों का 84.6 प्रतिशत सिविलियंस यानी आम नागरिकों के पास है। आम नागरिक, यानी पुलिस और सशस्त्र बलों को छोड़कर बाकी सब। दूसरे शब्दों में कहें तो निजी सुरक्षा कंपनियों, गैर सरकारी सशस्त्र संगठनों और गिरोहों को भी इसमें...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चाल-चेहरे में बदलाव (राष्ट्रीय सहारा)

उत्तर प्रदेश में चुनावी गठबंधन के लिए साथी का गठन और उसके प्रचार के लिए एक चिह्न भारत की चुनावी राजनीति में हो रहे दिलचस्प बदलाव का एक नमूना है। इस सूबे में समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल ने 2019 के लोक सभा चुनाव के लिए गठबंधन किया है। इसका नया...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

I dream of change (The Indian Express)

Written by Rohini Salian Being an independent citizen of India and an advocate by profession, it is my duty to uphold the Constitution of India, bow before the judiciary, salute our armed forces and respect all our countrymen, irrespective of their diversity or difference of opinions on national issues. We, the countrymen and women, have...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

A PM for the people (The Indian Express)

Written by Ram Madhav Julius Caesar, the great Roman ruler, is remembered for his last words to his old friend Brutus, as recorded by the Roman historian Suetonius: “You too, my child?”. His victory in the Roman Civil War leading to the capture of Rome and ascension to the throne is remembered for the “Crossing...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Gamification of Indian politics (The Indian Express)

Written by Ali Khan Mahmudabad The BJP is deceiving India with a PUBG meets Fortnite meets a cartoon NaMo election campaign. They are constantly adding game-like or, indeed, virtual elements to everyday life, so that people start mistaking propaganda for objectivity and retweets for real accomplishments. Memes, created by paid-for operatives, are spread across WhatsApp...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

‘Anti-national’ thoughts (The Indian Express)

Written by Pranab Bardhan The headlines say that the ruling party manifesto emphasises nationalism (“nation first”), and, on the economic front, it will aspire to make India the third-largest economy in the world by the end of the next decade, to make it reach the list of top 50 countries in the ranking of Ease...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Analysis: राजनीतिक दलों के चुनावी घोषणापत्र और मुफ्तखोरी की खतरनाक प्रवृति (दैनिक जागरण)

त्रिलोचन शास्त्री। मुफ्तखोरी की प्रवृत्ति किस तरह अप्रत्याशित रूप से बढ़ रही है, इसका एक प्रमाण यह है कि 2014 से अब तक 1.9 लाख करोड़ रुपये की कर्ज माफी की जा चुकी है। आम चुनाव से पहले केंद्र सरकार छोटे किसानों को सालाना 6,000 रुपये देने की योजना लेकर आई। इस योजना में सालाना...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register