Day: March 27, 2019

सालती है राजनीतिक दलों की खामोशी (नवभारत टाइम्स)

ज्ञाानेन्द्र रावत आज पर्यावरण क्षरण की भयावहता का सवाल समूचे विश्व के लिए गंभीर चिंता का विषय है। इस चुनौती से निपटना आसान भी नहीं है। समूचे विश्व में इस चुनौती का मुकाबला करने की दिशा में हरसंभव कोशिशें जारी हैं लेकिन इसके बावजूद सफलता कोसों दूर है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतारेस की चिंता...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चाल-चेहरा बदलने का चुनावी मौसम (नवभारत टाइम्स)

राजकुमार सिंह सत्ता केंद्रित वर्तमान राजनीति में चरित्र की चर्चा तो बहुत प्रासंगिक नहीं लगती लेकिन चुनावी मौसम में जिस तरह चेहरा और चाल बदली जा रही है, वह चौंकाने वाली है। सत्तासीन होते ही जन कल्याण से जुड़े हर सवाल पर अर्थशास्त्र समझाने वाले राजनीतिक दलों और नेताओं को चुनाव आते ही गांव-गरीब की...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आमदनी की गारंटी (नवभारत टाइम्स)

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दुनिया की सबसे बड़ी न्यूनतम आय गारंटी योजना का ऐलान कर चुनाव को राष्ट्रवाद जैसे भावनात्मक मुद्दे से हटाकर सामाजिक-आर्थिक मुद्दे पर केंद्रित करने की कोशिश की है। कांग्रेस की मुख्य प्रतिद्वंद्वी पार्टी बीजेपी के अलावा नीति आयोग ने भी इस पर सवाल उठाए हैं लेकिन चुनाव पर इसके असर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

राहुल ने बनाई बढ़त या.. (राष्ट्रीय सहारा)

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की इस घोषणा के बाद चुनावी र्चचा में एक नया आयाम जुड़ गया है कि यदि चुनाव बाद कांग्रेस सत्ता में आएगी तो वह हर गरीब को न्यूनतम आय की गारंटी देगी। स्थिति यह है कि राजनीतिक दलों से लेकर समाचार चैनलों तक इसकी र्चचा गर्म है। जहां भारतीय जनता पार्टी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

उभरता हुआ समीकरण (नवभारत टाइम्स)

आम चुनाव का परिदृश्य काफी कुछ साफ हो गया है। हाल तक लग रहा था कि देश की तमाम राजनीतिक ताकतों की गोलबंदी सत्ता या विपक्ष के इर्द-गिर्द ही होगी और इस तरह दो बड़े गठबंधनों के बीच निर्णायक मुकाबला होगा, पर ऐसा नहीं हुआ। सत्ता और विपक्ष से अलग कोई तीसरा-चौथा मोर्चा भी इस...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

राहुल ने बनाई बढ़त या.. (राष्ट्रीय सहारा)

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की इस घोषणा के बाद चुनावी र्चचा में एक नया आयाम जुड़ गया है कि यदि चुनाव बाद कांग्रेस सत्ता में आएगी तो वह हर गरीब को न्यूनतम आय की गारंटी देगी। स्थिति यह है कि राजनीतिक दलों से लेकर समाचार चैनलों तक इसकी र्चचा गर्म है। जहां भारतीय जनता पार्टी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Dead end on the left (The Indian Express)

Written by Manmohan Vaidya A young girl I met at the Jaipur Literature Festival (JLF) this year mentioned that the Left influence was quite evident in the selection of topics as well as speakers. She also narrated a conversation she had with her team leader, a self-proclaimed left activist. The team leader told her that...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Tolerating the corrupt (The Indian Express)

Written by Fali S Nariman Has the campaign against corruption succeeded? I am not at all sure it has. Let me tell you why. When talking of corruption, we always make a common mistake — to use the number of laws enacted or convictions obtained as an index of the fight against corruption. Wrong. The...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

If you want to help the poor (The Indian Express)

Written by Jayati Ghosh The Congress party’s recent declaration that, if voted to power, it will seek to ensure a minimum income to 20 per cent of the poorest households in the country, is laudable in intent. It also brings back policy attention to the penury and insecurity that continue to plague much of India’s...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

An act of realism (The Indian Express)

Written by K P Nayar The Pakistan National Day reception at their High Commission in New Delhi had been an irritant in bilateral relations for so long that it is best the Narendra Modi government finally drew the curtains on Indian participation in the celebration last week. For decades, so much thought has been wasted...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register