Day: February 27, 2019

लोक-लुभावन बजट (दैनिक ट्रिब्यून)

संसदीय चुनावों के ठीक बाद साल के अंत तक हरियाणा में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। लेकिन भाजपा को नगर निकायों और जींद के उपचुनाव में मिली भारी कामयाबी के घोड़े पर सवार वित्तमंत्री ने वित्तीय दूरदर्शिता की कीमत पर लोकलुभावने वादों के आगे घुटने टेकने से परहेज किया है। यह खट्टर सरकार का अंतिम...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ज़िंदगियां लीलती आपराधिक लापरवाही (दैनिक ट्रिब्यून)

हर्षदेव एक ही महीने में नकली ज़हरीली शराब की तीसरी घटना ने 120 से ज्यादा लोगों की ज़िंदगी छीन ली। यह दर्दनाक कांड असम के जोरहाट और गोलाघाट जिलों के पांच क्षेत्रों के करीब 40 कि.मी. इलाके की गरीब बस्तियों में कहर बरपा गया। इस त्रासदी का शिकार बने लगभग 400 लोग अस्पतालों में मौत...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

आतंक के आका अभी जिंदा हैं (दैनिक ट्रिब्यून)

राजकुमार सिंह भारत ने आखिरकार पुलवामा का बदला भी ले लिया। पुलवामा में 14 फरवरी को पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 42 जवान शहीद हो गये थे, जबकि लगभग इतने ही गंभीर रूप से घायल हो गये। 11 दिन बाद 26 फरवरी को तड़के साढ़े तीन-चार बजे के बीच भारतीय...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आतंकवाद पर प्रहार (नवभारत टाइम्स)

भारतीय वायुसेना ने नियंत्रण रेखा पार करके जैश-ए-मोहम्मद के कई आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया। हालांकि पाकिस्तान ने किसी तरह के नुकसान से इनकार किया है। मंगलवार तड़के भारतीय वायुसेना के करीब 12 मिराज विमानों ने पाकिस्तान के मुजफ्फराबाद, बालाकोट और चकोटी में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कई ठिकानों पर भीषण बमबारी कर उन्हें...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ऐतिहासिक कार्रवाई (राष्ट्रीय सहारा)

भारतीय वायुसेना के विमानों द्वारा पाकिस्तान की सीमा में घुसकर आतंकवादी ठिकानों को नष्ट करना आतंकवादी हमलों के खिलाफ आज तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। पुलवामा आतंकवादी हमले को भारत यों ही नहीं जाने देगा, यह तो साफ था लेकिन इस तरह पाकिस्तान सहित दुनिया को भौंचक्क करने वाली कार्रवाई होगी यह अनुमान किसी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अब तो सबक ले पाकिस्तान (राष्ट्रीय सहारा)

भारत ने पाकिस्तान के अंदर घुसकर हमला करके अपने धूर्त पड़ोसी देश को उसकी औकात बता ही दी। सोमवार को देश ने रणभूमि के वीरों के स्मारक का उद्घाटन किया था और उसके अगले ही दिन अल सुबह पाकिस्तान में जैश ए मोहम्मद के 300 से भी •यादा आतंकियों को ढेर कर पुलवामा के आतंकी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Decisive and restrained (The Indian Express)

Written by Arjun Subramaniam In a calibrated, decisive and yet restrained show of force, the Indian Air Force (IAF) converted Prime Minister Narendra Modi’s promise of punitive action into reality as it pounded jihadi training camps in Pakistan-Occupied Kashmir (PoK) in a series of coordinated air strikes in the wee hours of Tuesday. Seen in...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Memories stirred by Pulwama (The Indian Express)

Written by Shalini Langer The saw mill at the start of the lane. In my growing-up years, the beginning and end of my summer holidays were marked by this mill, a few metres from my grandparents’ house in Jammu. It was never much, just an open shed with a tin roof. But in the dusty,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Cities at crossroads: Small town, cleaner future Written by Isher Judge Ahluwalia, Almitra Patel (The Indian Express)

Written by Isher Judge Ahluwalia, Almitra Patel Cynics often point out that old habits die hard. They tell us that it is going to be impossible to get residents of Indian cities to keep different types of waste separate. Yet, we know this is essential for municipalities to find a sustainable solution to the problem...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Remembrance and foreboding (The Indian Express)

Written by K M Chandrasekhar Amid war cries, memories flood my mind of wartimes past. In 1961, the Chinese streamed into the Northeast and marched relentlessly towards Tezpur, driving back an inadequately armed, ill-equipped Indian army, used to years of peace and a threat-free environment. Those were the days when India believed Jawaharlal Nehru was...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register