Day: February 22, 2019

अर्थव्यवस्था : निकट आते भारत-अमेरिका (राष्ट्रीय सहारा)

जयंतीलाल भंडारी यकीनन जहां एक ओर भारत और अमेरिका के बीच कारोबार संबंधों में तनाव में कमी लाने का परिदृश्य दिखाई दे रहा है, वहीं नियंतण्र आर्थिक अध्ययनों के तहत भारत और अमेरिका के बीच कारोबार बढ़ने की खासी संभावनाओं की रिपोर्ट्स भी प्रस्तुत हो रही हैं। वित्तीय सेवा परामर्श कंपनी पीडब्लयूसी और इंडो-अमेरिकन चेंबर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Looking beyond Pulwama (The Indian Express)

The death of 40 Central Reserve Police Force (CRPF) personnel in a suicide bomb attack in Pulwama, Jammu and Kashmir, has shocked the nation, as it was unprecedented in recent times. An explosion of this magnitude was not ever presaged. The CRPF has already ordered a court of inquiry into the lapses that may have...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Lethal And Autonomous (The Indian Express)

Written by Trisha Ray In March 2014, hundreds of mysterious gunmen in camouflage appeared on the streets of Crimea and began taking over local government buildings. While Russia initially denied the existence of the “little green men”, as they came to be known, President Vladimir Putin admitted that they were Russian military at the one-year...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

View from the Valley (The Indian Express)

Written by Naeem Akhtar Quite understandably, the Valentine’s Day atrocity in Pulwama, which caused the biggest ever loss of lives of security forces to violence in the three-decade-old strife in Kashmir, sent shockwaves across the world. The outrage and anger were unprecedented, given the fact that the fallen bravehearts came almost from every state. The...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

When figures are suspect (The Indian Express)

Written by R Nagaraj Economic statistics have a public good character — their use is non-rival and non-excludable. Such information is necessary for evidence-based policymaking and informed discussion in democracies where citizens seek accountability from their government. The use of scientific methods for collection and estimation and their timely dissemination are, therefore, public services. Universally,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आखिर कब थमेगा राफेल सौदे पर गड़बड़ी को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई का सिलसिला (दैनिक जागरण)

राफेल सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर पुनर्विचार याचिकाओं की सुनवाई तय हो जाने से यह भी पता चल रहा है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े गंभीर मामलों को राजनीतिक रंग देकर किस तरह न्यायपालिका के जरिये खींचने की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है। राफेल सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पाकिस्तान से निपटने के लिए पूरा देश एक है ओर एक स्वर में बदले की मांग उठ रही है (दैनिक जागरण)

[ कैप्टन आर विक्रम सिंह ]: इसमें संदेह की कोई गुंजाइश नहीं कि जैश-ए-मोहम्मद द्वारा अंजाम दिए गए पुलवामा हमले के पीछे पाकिस्तानी सेना का हाथ है। भारत के कड़े रुख के बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान वीडियो संदेश में सुबूत मांगते दिखे, लेकिन उन्हें इस घटना पर कोई अफसोस नहीं है। इधर हमले का...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पाकिस्तान से निपटने के लिए पूरा देश एक है ओर एक स्वर में बदले की मांग उठ रही है (दैनिक जागरण)

[ डॉ. एके वर्मा ]: असहमति की संवैधानिक आधारशिला पर स्थापित भारतीय लोकतंत्र की एक बड़ी खूबी यह है कि जब भी देश पर कोई गंभीर संकट आता है तो पूरा देश सुरक्षा और प्रतिरक्षा के मुद्दों पर एक स्वर में बोलता है। उड़ी, पठानकोट के जख्म से हम उबरे भी नहीं थे कि पाकिस्तान...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Analysis : समझनी होगी मातृभाषा की महत्ता (दैनिक जागरण)

[अतुल कोठारी]। वर्ष 1952 में इसी दिन यानी 21 फरवरी को बांग्लादेश (तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान) के ढाका विश्वविद्यालय, जगन्नाथ विश्वविद्यालय और चिकित्सा महाविद्यालय के छात्रों द्वारा बांग्ला को राष्ट्रभाषा घोषित किए जाने हेतु आंदोलन किया गया जिसमें अनेक छात्रों ने पुलिस की गोलियों का शिकार होकर अपनी मातृभाषा के लिए प्राण न्योछावर किए। मातृभाषा के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पूर्व पत्नी रेहम का खुलासा ‘सेना जैसा कहती है इमरान वही बोलता और करता है (पंजाब केसरी)

पाक समर्थित आतंकवादी गिरोह ‘जैश-ए-मोहम्मद’ द्वारा पुलवामा में कायरतापूर्ण हमले के लिए अधिकांश विश्व समुदाय पाकिस्तान की आलोचना कर रहा है और भारत को हरसंभव सहायता देने की प्रतिबद्धता जताई है।  जहां अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने इस हमले को भयावह बताते हुए इसके लिए जिम्मेदारों को सजा देने, आतंकियों को पनाह न देने व उनसे सहयोग...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register