Day: February 15, 2019

कैग और राफेल (राष्ट्रीय सहारा)

कायदे से राफेल विमान सौदे पर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) रिपोर्ट के बाद जारी विवाद बंद हो जाना चाहिए। किंतु भारत की राजनीति ऐसी है, जहां विवादों और आरोपों के पीछे ठोस तयों और नैतिक आधारों की अब आवश्यकता ही नहीं। कैग ने यूपीए सरकार के सौदा बातचीत दस्तावेज तथा मोदी सरकार के सौदे...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

गुड़ खाए और गुलगुलों.. (राष्ट्रीय सहारा)

राजेंद्र शर्मा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 16वीं लोक सभा के अपने आखिरी संबोधन में विपक्ष की आम चुनाव के लिए साथ आने की कोशिशों पर निशाना साधते हुए नया शब्द ही गढ़ डाला-मिलावटी गठबंधन। बेशक, यह कोई पहला मौका नहीं है जब प्रधानमंत्री ने विपक्ष की गठबंधन बनाने की कोशिशों पर हमला किया है। सत्ताधारी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

It’s a wage crisis (The Indian Express)

Written by Manish Sabharwal The debate around unemployment is unhelpful — since 1947, unemployment has bounced between 3-7 per cent of India’s labour force. But reconciling this mathematical accuracy with our painful poverty — it has bounced between 25-75 per cent of our population since 1947, based on your definition of needs, wants and desires...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

A referee less partisan (The Indian Express)

Written by Chakshu Roy Earlier this month, the Speaker of the Karnataka Vidhan Sabha was embroiled in a controversy. The chief minister alleged that the Speaker was offered a bribe of Rs 50 crore. He played a tape which purportedly contains a conversation referring to money being offered to the Speaker for accepting the resignation...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Crossing the laxman rekha (The Indian Express)

Written by Sudheendra Kulkarni India’s epics and folk literature are treasure houses of moral maxims. For thousands of years, they have shaped our people’s thinking on what’s right and wrong, and why the line separating the two should not be crossed. “Laxman Rekha” is one of those normative phrases from the Ramayana, which connotes what...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

No shortcuts to income guarantee (The Indian Express)

Written by Harsh Mander Congress president Rahul Gandhi signaled the earnestness of his party’s resolve to end poverty and hunger by announcing an untried policy instrument — a Minimum Income Guarantee for the poor. “Millions of our brothers and sisters” could not be allowed to “suffer the scourge of poverty” while we “build a new...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Singing in dark times (The Indian Express)

Written by Ashok Vajpeyi Our times are being described as “post-truth” and “fact-free”. One of the major forms of resistance to this global trampling of truth, justice, dignity and memory is poetry. In these times, when there is a growing dominance of untruth, falsehood, amnesia and injustice, poetry still roots itself in truth and justice,...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

भीषण आतंकी हमला: राष्ट्र को अपूरणीय क्षति, जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाना चाहिए (दैनिक जागरण)

जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ के करीब 40 जवानों की शहादत वज्रपात सरीखी है। भीषण आतंकी हमले के जरिये आतंकियों ने देश के मान-सम्मान को सीधी चुनौती है। जम्मू-कश्मीर में सेना अथवा अर्ध सैनिक बलों ने इसके पहले इतनी अधिक क्षति का सामना कभी नहीं किया। इस हमले के बाद देश के नेतृत्व के साथ आम लोगों...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

राफेल सौदा सरकार से सरकार के बीच समझौता था, कैग रिपोर्ट ने किया संसद में खुलासा (दैनिक जागरण)

[ एनके सिंह ]: तर्क-शास्त्र में एक बहुचर्चित दोष पढ़ाया जाता है। यह इस बारे में है कि चुनिंदा तथ्यों के जरिये अपनी बात कैसे सिद्ध की जाए। राफेल सौदे को लेकर ऐसा ही किया जा रहा है। ऐसा करते समय वायु सेना की जरूरतों की अनदेखी की जा रही है। नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

मोदी विरोधी राजनीतिक एकजुटता वर्चस्व के अहंकार से ग्रस्त होने के कारण तार-तार हो रही है (दैनिक जागरण)

[ राजनाथ सिंह सूर्य ]: सत्ता में बने रहने के लिए संवैधानिक संस्थाओं पर जिस निरंकुशता का हथियार चलाकर आपात स्थिति लगाने का काम पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने किया था, सत्ता में आने के लिए उनके पौत्र कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी इन दिनों वैसा ही कुछ उपक्रम करते प्रतीत हो रहे हं। उस...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register