Day: January 30, 2019

Rahul Gandhi’s income plan falls short (Hindustan Times)

The Congress has promised a minimum income guarantee (MIG) – direct cash transfers to the poor – if it comes to power after the 2019 elections. The political benefits from such an announcement will only be known after the results. However, one can say that the economics behind this a warped version of Keynesianism. Here...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Hindu-Muslim unity is an exercise contemporary Indian politicians must do more to achieve (Hindustan Times)

Mahatma Gandhi was shot dead this day, in the heart of Delhi, in 1948. Any tribute to the father of nation can only be riddled with clichés, but remembering him, and what he meant to India, is an essential exercise, which, as his most recent biographer Ramchandra Guha put it, every generation needs to do....

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अफगान शांति प्रयासों के किंतु-परंतु (दैनिक ट्रिब्यून)

पुष्परंजन बाहर से दिखने में यही लगता रहा है कि पुतिन और ट्रंप में ठनी हुई है, तो सहयोग के क्षेत्र में उभयपक्षीय संवाद बंद है। मगर, 9 नवंबर, 2018 को मास्को में तालिबान प्रतिनिधियों की जो बैठक हुई, तालिबान से दोहा बैठक की ही कड़ी थी। इस बातचीत के प्रकारांतर 18 दिसंबर, 2018 को...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मिटा नहीं कुष्ठ रोग (दैनिक ट्रिब्यून)

आत्मविश्वास से लबरेज भारत ने वर्ष 2005 में ऐलान किया कि देश से कुष्ठ रोग का सफाया हो चुका है। मगर अब भी हुक्मरानों को लगता है कि यह ऐलान जल्दबाजी थी। यह समस्या अब भी मुंहबाय खड़ी है। वित्तमंत्री अरुण जेतली ने पिछले बजट सत्र में दिए गए भाषण में दावा किया था कि...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कामयाबियों और विवादों से भरपूर जीवन (दैनिक ट्रिब्यून)

कुरबान अली अपने समय के फायरब्रांड समाजवादी नेता जॉर्ज फर्नांडिस का जीवन संघर्षों से भरा था। कुछ समय तक चर्च में पादरी रहने के बाद वे 1949 में नौकरी की तलाश में बॉम्बे आये। वे एक अखबार में प्रूफरीडर का काम करते थे। और रात में सड़कों और फुटपाथ पर सोते थे। एक बार उन्होंने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

महज घोषणा या.. (राष्ट्रीय सहारा)

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश के गरीबों को एक निश्चित आय उपलब्ध कराने की घोषणा की है। वस्तुत: यह आय नहीं बल्कि गरीबों को दिए जाने वाले दान की घोषणा है। राहुल की घोषणा इन र्चचाओं के बीच आईहै कि सरकार आगामी बजट में ऐसी योजना ला रही है। लेकिन राहुल की घोषणा में...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जार्ज का जाना (राष्ट्रीय सहारा)

जार्ज फर्नाडिस का जाना देश के ऐसे नेता का जाना है, जिसने पूरा जीवन आम आदमी की आवाज बनकर जिया। भारत में अब उतने बड़े कद के ऐसे नेताओं की संख्या उंगलियों पर गिनने लायक होंगी जो संघर्षो से उठते हुए शीर्ष तक पहुंचे। वर्तमान पीढ़ी के लिए जार्ज का परिचय एक सांसद और मंत्री...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जॉर्ज : इमरजेंसी विरोधी चेहरा (राष्ट्रीय सहारा)

जॉर्ज फर्नाडिस का सर्वाधिक चमकीला चेहरा आपातकाल में ही उभर कर सामने आया था। तब वे अपनी जान हथेली पर लेकर तानाशाही से लड़ रहे थे। यदि आपातकाल नहीं हटता तो राष्ट्रद्रोह के आरोप में उन्हें फांसी की भी सजा हो सकती थी। ऐसा ही मुकदमा हुआ था उन पर। उनके द्वारा तैयार एक अंडरग्राउंड...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

George Fernandes will be remembered as a fearless leader who worked tirelessly for workers (The Indian Express)

Written by Sharad Yadav I knew George Fernandes, who died after a prolonged illness on Tuesday, for more than 45 years. He was a father figure to me and a good friend and guide too. He was a leader of the masses. When I was a student leader in Jabalpur University, I observed that he...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Tyranny of the majority (The Indian Express)

Written by K.P. Shankaran It is a little known fact that democracy, which is today celebrated worldwide, was anathema to Mahatma Gandhi. His disdain for the institution of parliament was evident when in 1909, writing in the Hind Swaraj, he described it “a costly toy of the nation”. Gandhi was, of course, referring to the...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register