Day: January 28, 2019

वन-जल संरक्षण का भगीरथी पुरुषार्थ (दैनिक ट्रिब्यून)

सुखनन्दन सिंह वन हमारी प्रमुख प्राकृतिक संपदा हैं, जो हमारी ईंधन, चारा व जल की आवश्यकता को पूरा करते हैं। पहाड़ों में तो विशेष रूप से ये लागू होता है, जहां पालतु जानवरों के लिए चारा व चूल्हे की लकड़ी का यह प्रमुख आधार रहता है। वातावरण में शीतल हवा वनों की प्रत्यक्ष देन रहती...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

रचना संसार में जीवंत रहेगी कृष्णा सोबती (दैनिक ट्रिब्यून)

रमेश नैयर पच्चीस जनवरी को दुखद खबर मिली, कृष्णा सोबती नहीं रहीं। वह जितनी अच्छी साहित्यकार थीं, उतनी ही शानदार इंसान। अत्यंत स्वाभिमानी। सात दशकों के लेखन से भारतीय साहित्य को समृद्ध किया। खूब लिखा, लेकिन अपनी शर्तों पर। पहला उपन्यास था ‘चन्ना।’ पूरी पांडुलिपि कंपोज हो गई तो प्रकाशक ने भाषा में कुछ रद्दो-बदल...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

रूह को भी खुराक (दैनिक ट्रिब्यून)

प्रवीण चोपड़ा मैं अच्छे से जानता हूं कि सुबह का वक़्त अपने लिए ही होता है। टहलने के लिए भी। पिछले कुछ हफ़्तों से मेरा टहलना छूटा हुआ था। हर दिन की बहानेबाजी। मसलन, आज जल्दी उठ गया हूं तो कैसे जाऊं। अभी कुहासा है। ठंड बड़ी है। कुछ लिखना है, वगैरह-वगैरह। इन बहानों के...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पत्थरबाजी से आहत लोकतंत्र (दैनिक ट्रिब्यून)

सहीराम कायदे से तो यह पतंगबाजी के दिन हैं और भले ही लोग न कर रहे हों पर नेता लोग पतंगबाजी कर भी खूब रहे हैं। जैसे लोगों को अपनी रोजी-रोटी से फुरसत नहीं, वैसे ही नेताओं को पतंगबाजी से फुसरत नहीं। वे एक-दूसरे की डोर काटने में लगे हैं। जनता की जीवनडोर ऊपरवाला काट...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बंगाल में राष्ट्रीय राजनीति के समीकरण (दैनिक ट्रिब्यून)

दीपक कुमार बंगाल की जमीन पर चल रहे सियासी दांवपेंच की गूंज राष्ट्रीय राजनीति में होने लगी है। कोलकाता की जनसभा में तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो एवं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का शक्ति प्रदर्शन और उसके बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मालदा की जनसभा के बाद भाजपा के राष्ट्रीय एवं राज्यस्तरीय नेताओं की सरगर्मी...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अंतरिम बजट से राहत की उम्मीदें (दैनिक ट्रिब्यून)

जयंतीलाल भंडारी इन दिनों देश के करोड़ों लोगों की निगाहें मोदी सरकार के द्वारा 1 फरवरी को प्रस्तुत किए जाने वाले वर्ष 2019-20 के अंतरिम बजट की ओर लगी हुई हैं। यह अंतरिम बजट वित्त मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी संभाल रहे रेल मंत्री पीयूष गोयल के द्वारा प्रस्तुत किया जायेगा। मोदी सरकार 1 फरवरी को...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

विरोध के लिए विरोध (दैनिक ट्रिब्यून)

आखिरकार मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने स्पष्ट कर दिया है कि वर्ष 2019 के आम चुनाव  इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन से ही होंगे। यह भी कि मतपत्रों के जरिये मतदान का प्रतिगामी कदम तार्किकता से परे है। जैसा कि अपेक्षित था आम चुनाव के करीब आते ही ईवीएम से जुड़े विवाद नए सिरे से उठने...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

दोस्ती का नया दौर (नवभारत टाइम्स)

दक्षिण अफ्रीका और भारत ने तीन वर्षों का रणनीतिक सहयोग समझौता करके आपसी संबंधों के एक नए दौर की शुरुआत की है। 70वें गणतंत्र दिवस पर राजकीय अतिथि के रूप में भारत आए दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा ने अपनी इस यात्रा के जरिए न केवल दोनों देशों की सरकारों के बीच करीबी सहयोग की...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बढ़ते कदम हमारे (नवभारत टाइम्स)

आज देश अपना 70वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। सात दशकों की यात्रा में हमारे गणतंत्र की चमक दिनोंदिन बढ़ती गई है। विश्व में भारत की पहचान आज एक सक्षम और मजबूत जनतांत्रिक देश की है। एशिया, अफ्रीका और लैटिन अमेरिका ही नहीं, यूरोप के भी कई देश जो अपने यहां लोकतंत्र की जड़ जमाने...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नहीं बन रही बात (राष्ट्रीय सहारा)

लोक सभा में भाजपा सरकार द्वारा पारित नागरिकता संशोधन विधेयक, 2016 (सीएबी) की जनता दल (यूनाइटेड)-जदयू-जैसे एनडीए के सहयोगी दल समेत अनेक राजनीतिक दलों ने मुखालफत की है। असम के लोग भी मुखर होकर इसका विरोधकर रहे हैं। जदयू ने ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) के साथबैठक के उपरांत असमी ‘‘अस्मिता’ को समर्थन देने का...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register