शब्दों से नहीं संकेतों से (हिन्दुस्तान)


गलती का एहसास कराते वक्त शब्दों से ज्यादा संकेतों से काम लेना अधिक मुफीद होता है। हाव-भाव भी एक कारगर तरीका हो सकता है। किसी के आत्म-सम्मान, गर्व या बुद्धिमानी को सीधे चुनौती देना, उसे नाराज करना या फिर दुश्मनी मोल लेने जैसा है। इसी तरह, अपने आत्म-सम्मान, गर्व और बुद्धिमानी के बारे में किसी…


This content is for Welcome Subscription Special  offer and Monthly Subscription members only.
Log In Register


Updated: February 8, 2017 — 6:56 AM