लोगों के लिए सहज हो नई प्रणाली – सीता (नईदुनिया)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वाधीनता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से देशवासियों को संबोधित करते हुए इस तथ्य को रेखांकित किया था कि प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) की वजह से सरकारी खजाने को 90,000 करोड़ रुपए तक की बचत हुई, क्योंकि तकरीबन छह करोड़ छद्म लाभार्थियों को खत्म कर दिया गया है। […]

राहत पर क्षुद्र सियासत (नईदुनिया)

जब भीषण बारिश और बाढ़ से जूझ रहे केरल के हालात राष्ट्रीय चिंता का विषय बन गए हैं, तब वहां राहत और बचाव कार्यों को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला कायम होना राजनीतिक क्षुद्रता के अलावा और कुछ नहीं। पता नहीं कुछ राजनीतिक दलों को यह माहौल बनाने में क्या सुख मिल रहा है कि केंद्र […]

मुश्किल चुनौतियों से रूबरू इमरान (नईदुनिया)

– तरुण गुप्त पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेकर इमरान खान ने अपना एक और सपना पूरा कर लिया। उनके नेतृत्व को लेकर पाकिस्तान के लोगों की राय कुछ भी हो, भारत में कम से कम राजनीतिक वर्ग को उनसे बहुत उम्मीदें नहीं हैं। ऐसा विरले ही देखने को मिलता है कि किसी मसले […]

केरल के बिगड़े हालात (नईदुनिया)

बाढ़ और बारिश के चलते केरल के हालात किस कदर खराब हैं, इसका पता इससे भी चल रहा है कि केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस राज्य का दौरा करने पहुंचे। केरल में जान-माल की क्षति के आंकड़े यही बयान कर रहे हैं कि इस राज्य में बाढ़ के कारण […]

नायपॉल-वाजपेयी का जाना (प्रभात खबर)

आकार पटेल कार्यकारी निदेशक,एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया aakar.patel@gmail.com बीते दिनों दो प्रसिद्ध व्यक्तियों की मृत्यु हुई है और उनके बारे में कई बातें भी लिखी गयी हैं. भारत में हमारी यही परंपरा है, और सामान्यत: दुनियाभर में भी, कि मृतक के बारे में अच्छी बातें कही जाएं, लेकिन कोई भी व्यक्ति दोषमुक्त नहीं होता, और हमें […]

सत्तर के स्तर पर रुपये का अर्थ (प्रभात खबर)

अजीत रानाडेसीनियर फेलो, तक्षशिला इंस्टीट्यूशन editor@thebillionpress.org अब अमेरिकी डॉलर एवं भारतीय रुपये के बीच विनिमय दर 70 को पार कर गयी, तो अखबारों की सुर्खियों ने ‘रुपये में रिकॉर्ड गिरावट’ का शोर मचा दिया. ऐसी सुर्खियों में प्रायः एक सनसनीखेज नाटकीयता होती है, जो सियासी पार्टियों की लफ्फाजी से प्रेरित होती हैं. इनका निहितार्थ यह […]

The upside-down Indian state (Livemint)

Shruti Rajagopalan Last week we celebrated Independence Day with great fervour, but it is quite evident that Indians are not really free. 15 August 1947, marks the day that divided British India and created two new and fully sovereign dominions of India and Pakistan. While that is an important occasion, our freedom fighters did not […]

The Indian aviation sector’s many problems (Livemint)

The Indian aviation sector is a conundrum. Its brief summer, starting with the civil aviation policy in 2003 and lasting until the financial crisis, has the patina of another era. The periodic rough weather since speaks of fundamental problems that have persisted since the post-crisis bloodbath. Jet Airways’ current troubles are no outlier in this […]



संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016