गिफ्ट और ग्लैमर के दौर में करवाचौथ (हिन्दुस्तान)

पद्मा सचदेव, चर्चित साहित्यकार आज करवाचौथ है। 80 साल की उम्र में पीछे पलटकर इस त्योहार को याद करती हूं, तो स्मृतियों की आलमारी से कई सुनहरी यादें आंखों के सामने रूप धरकर घूमने लगती हैं। मैं जम्मू में अपने माता-पिता, भाई-बहनों के साथ रहती थी। हमारा सामूहिक परिवार था। कोई आठ-दस साल की थी,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सुनवाई के बाद (हिन्दुस्तान)

दलीलें खत्म, अब उम्मीद बांधने का समय है। डेढ़ सदी से भी ज्यादा पुराने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर अंतिम अदालती फैसले तक पहुंचने का समय अब शायद ज्यादा दूर नहीं है। सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने मामले की सुनवाई पूरी कर ली है और इसके साथ ही यह उम्मीद भी बंध गई है...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नेपाल-चीन की रणनीतिक साझेदारी का (हिन्दुस्तान)

अमिशराज मुल्मी, नेपाली लेखक यह यात्रा बेशक छोटी रही, लेकिन नेपाल के लिए उम्मीदें बंधाने वाली थी। अब जब चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग काठमांडू से वापस लौट चुके हैं, तो नेपाल के सत्ता प्रतिष्ठान में यह नया विश्वास पैदा हुआ है कि केरुंग-काठमांडू रेल लाइन ही नहीं, इन्फ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी कई अन्य अधूरी परियोजनाएं...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

प्राथमिकी दूसरे राज्य में भेजे जाने पर सवाल (दैनिक ट्रिब्यून)

अनूप भटनागर कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न की रोकथाम का कानून बनने के छह साल बाद अब उच्चतम न्यायालय के समक्ष एक रोचक मामला आया है। इस मामले में उच्च न्यायालय ने महिला पुलिस अधिकारी द्वारा पुलिस महानिरीक्षक स्तर के अधिकारी के खिलाफ कथित रूप से यौन उत्पीड़न की शिकायत के आधार पर दर्ज...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

विकास के साथ जीवन की गुणवत्ता भी जरूरी (दैनिक ट्रिब्यून)

भरत झुनझुनवाला बीते बजट में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कंपनियों द्वारा अदा किये जाने वाले आयकर, जिसे कॉरपोरेट टैक्स कहा जाता है, को लगभग 35 प्रतिशत से बढ़ाकर 43 प्रतिशत कर दिया था। उन्होंने कहा था कि अमीरों का दायित्व बनता है कि देश की जरूरतों में अधिक योगदान करें। बीते माह उन्होंने अपने कदम...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बचत पर आफत (नवभारत टाइम्स)

मुंबई के पीएमसी (पंजाब ऐंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव) बैंक में जारी संकट ने सोमवार को बैंक के एक ग्राहक संजय गुलाटी की मौत से और भी दुखद मोड़ ले लिया। बैंक के अन्य ग्राहकों के साथ संजय सोमवार को ही विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे। स्थानीय लोगों के मुताबिक वहां से लौटने के बाद उन्हें...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संशय में सार्थकता (राष्ट्रीय सहारा)

देश में 12 अक्टूबर, 2019 को सूचना का अधिकार कानून (आरटीआई) लागू हुए चौदह वर्ष पूरे हो चुके हैं। इस कानून ने समूचे देश में लोगों का सशक्तिकरण किया। सही मायनों में आरटीआई ने सूचना प्राप्त करने का उनका बुनियादी अधिकार उन्हें दिया। और सरकार को जवाबदेह बनने पर विवश कर दिया। लेकिन पहले कभी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कश्मीर में तेजी से सुधरते हालात दे रहे पाकिस्‍तान को कड़ा संदेश, हो गई बोलती बंद (दैनिक जागरण)

अभिमन्यु शर्मा। केंद्र सरकार एवं राज्य प्रशासन के प्रयासों के कारण कश्मीर की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। यह इसी का परिणाम है कि बीते सोमवार को प्रशासन ने कश्मीर में सभी पोस्ट पेड मोबाइल सेवा बहाल कर दी। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35-ए को हटाने और इसके पुनर्गठन के बाद पांच...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कश्मीर पर भारत के खिलाफ नया गठजोड़: शीशे के घर में बैठकर वह भारत पर पत्थर नहीं फेंक सकता (दैनिक जागरण)

[ ब्रिगेडियर आरपी सिंह ]: कश्मीर पर अंतरराष्ट्रीय समर्थन जुटाने में नाकाम रहे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को तुर्की, मलेशिया और चीन से जो समर्थन मिला वह डूबते को तिनके का सहारा जैसा है। मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने कश्मीर को लेकर संयुक्त राष्ट्र में भारत को निशाना बनाया। बीते कई दशकों में यह किसी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

प्रधानमंत्री मोदी को बैैंकिंग व्यवस्था दुरुस्त करनी ही होगी वरना सरकार को साख बचाना मुश्किल होगा (दैनिक जागरण)

[ राजीव सचान ]: हीरा कारोबार के नाम पर हेराफेरी करने वाला नीरव मोदी अपने मामा मेहुल चोकसी के साथ बीते साल की शुरुआत में देश से बाहर भाग गया था। इन दोनों की फरारी के कुछ समय बाद यह सामने आया कि उन्होंने किन बैंकों से कितना कर्ज ले रखा था। सबसे ज्यादा चूना...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register