पीएनबी घोटाला: लमो, विमा और अब नीमो, आखिर नमो में भरोसे के बाद भी ऐसा क्यों? (पत्रिका)

बैंकिंग क्षेत्र का अब तक का सबसे बड़ा घोटाला… देेश का अब तक का सबसे बड़ा बैंकिग घोटाला….नीमो घोटाला…घोटाला या बैंक डकैती…मिलीभगत का खेल या खुलकर बैंकों को लूटने की साजिश… विजय माल्या का बैंकों को लूटकर भाग जाना। ललित मोदी देश के पैसों से विदेशों में मौज करे और भारत सरकार लौटने का इंतजार […]

पहले देश को गजनी, गौरी और अंग्रेजों ने लूटा तथा अब उद्योगपति लूट रहे हैं: शांता कुमार (पंजाब केसरी)

लगभग एक महीने के भीतर देश में 2 बड़े बैंक घोटाले उजागर हुए। देश के दूसरे सबसे बड़े राष्ट्रीयकृत बैंक पंजाब नैशनल बैंक के साथ 11,400 करोड़ रुपए के ऋण घोटाले, जोकि कुछ बैंकरों तथा सरकारी अधिकारियों के अनुसार 20,000 करोड़ रुपए तक पहुंच सकता है, में शामिल मुख्य आरोपी ‘फायर स्टार डायमंड्स’ का मालिक […]

वैकल्पिक रास्ता (हिन्दुस्तान)

ऊपरी तौर पर यह योजना बहुत महाकाय भी लगती है और हैरत में डालने वाली भी, लेकिन चीन की बेल्ट ऐंड रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर परियोजना, जिसे कई बार वन बेल्ट, वन रोड परियोजना भी कहा जाता रहा है, विवादों से कभी दूर नहीं रही। हालांकि चीन ने इसे लेकर पूरी दुनिया को, खासकर यूरोप, एशिया और […]

एक सदी पुराने विवाद का निपटारा (हिन्दुस्तान)

एस श्रीनिवासन कावेरी जल बंटवारे को लेकर कर्नाटक और तमिलनाडु में 125 से भी अधिक वर्षों से विवाद चला आ रहा है। पिछले हफ्ते आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के साथ अब यह झगड़ा खत्म होने के करीब दिख रहा है। लेकिन क्या यह हल स्थाई होगा? क्या यह फैसला देश के अन्य नदी जल […]

शिक्षा का प्रश्न (जनसत्ता)

सरकार शिक्षा के क्षेत्र में एक महत्त्वपूर्ण पहल करने जा रही है। केंद्र का इरादा नर्सरी से बारहवीं तक की शिक्षा को एकीकृत स्वरूप देने का है। मौजूदा तस्वीर यह है कि प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा का संचालन अलग-अलग होता है। प्राथमिक शिक्षा का संचालन सर्व शिक्षा अभियान के तहत होता है और यह शिक्षा […]

साख पर सवाल (जनसत्ता)

पीएनबी घोटाला उजागर होने के बाद से गिरफ्तारियों और छापों का सिलसिला जारी है। इस सब से जो तथ्य सामने आ रहे हैं वे बैंकिंग व्यवस्था की विश्वसनीयता की पोल खोलते हैं। बैंकों में खासकर बड़े लेन-देन पर नजर रखने के लिए कई स्तरों की निगरानी व्यवस्था होती है, लिहाजा धोखाधड़ी की गुंजाइश नहीं होनी […]

जीएसटी संशोधन की तैयारी (नईदुनिया)

जीएसटी से संबंधित नियम-कानूनों में फेरबदल करने की तैयारी कारोबारियों के लिए राहत की खबर है। चूंकि करीब चार दर्जन संशोधन संभावित हैं, इसलिए यह उम्मीद की जाती है कि इसके बाद कारोबारियों की समस्याओं का समाधान होगा, लेकिन इससे यह भी पता चलता है कि शायद कुछ नियम-कानूनों का निर्माण जल्दबाजी में किया गया […]

नकारी ही जाएगी विभाजनकारी सोच – बलबीर पुंज (नईदुनिया)

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी अपने विवादित बयानों के कारण हमेशा चर्चा में रहते हैं। उनका ताजा विवादित बयान यह था कि जम्मू के सुंजवां में आंतकी हमले में जिन पांच कश्मीरी मुसलमानों ने अपना बलिदान दिया, उनके बारे में बात क्यों नहीं हो रही है? इसके पूर्व वह लोकसभा में अपने एक विवादित वक्तव्य […]

Transgender rights should not depend on a screening (Hindustan Times)

When the ministry of social justice and empowerment proposed to institute district screening committees in the Transgender Persons (Protection of Rights) Bill 2016, its aim was to issue a certificate of identity to a transgender person, which in turn would “confer rights and be a proof of recognition of his identity as a transgender person”. […]

बदल चुका है युद्ध का तरीका (प्रबात खबर)

II आकार पटेल II कार्यकारी निदेशक, एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया aakar.patel@me.com डेढ़ दशक पहले आखिरी बार दो देशों के बीच कोई बड़ा युद्ध लड़ा गया था. वर्ष 2003 में हुए इस एकतरफा युद्ध में जॉर्ज बुश ने सद्दाम हुसैन को परास्त किया था (मैं यहां शुरुआती हमले की बात कर रहा हूं, न कि कब्जा करने […]

संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016