और उलझ गई कश्मीर की राजनीति (हिन्दुस्तान)

आरती आर जेरथ, वरिष्ठ पत्रकार जम्मू-कश्मीर में पीडीपी-भाजपा सरकार का गिरना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए निजी नुकसान की तरह है। उन्होंने अपनी पार्टी और संघ परिवार के आक्रामक हिंदुत्ववादियों के खिलाफ जाकर पीडीपी के साथ गठबंधन बनाने में रुचि दिखाई थी। गठबंधन सरकार बनने के एक वर्ष के भीतर निवर्तमान मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के […]

संपादकीयः चीन की चाल (जनसत्ता)

भारत और पाकिस्तान के साथ त्रिपक्षीय वार्ता का जो शिगूफा चीन ने फेंका है, उसे भारत सरकार ने सिरे से खारिज कर दिया। हालांकि यह सुझाव चीन सरकार की ओर नहीं आया था, बल्कि दिल्ली स्थित चीनी दूतावास में आयोजित एक सेमिनार में भारत में चीन के राजदूत ने रखा। सेमिनार का विषय था कि […]

संपादकीयः अलग राहें (जनसत्ता)

भारतीय जनता पार्टी ने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी से गठबंधन तोड़ लिया और महबूबा मुफ्ती ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। शुरू से ही यह एक अस्वाभाविक या असामान्य गठबंधन था, और शुरू से ही कहा जा रहा था कि यह गठबंधन टिकाऊ नहीं होगा। विधानसभा के त्रिशंकु नतीजे और सरकार बनाने की मजबूरी या […]

संपादकीय : राजनीति का तमाशा (नईदुनिया)

कोई किसी के कार्यालय अथवा घर के अंदर प्रवेश कर वहां धरने पर बैठ जाए तो यह असामान्य और अस्वाभाविक ही है। जब ऐसा करने वाला कोई मुख्यमंत्री हो और वह उपराज्यपाल कार्यालय के अंदर धरना देने पर आमादा हो जाए तो यह और अधिक हैरानी का कारण बनेगा, लेकिन शायद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद […]

आलेख : वैचारिक विरोधी से संवाद में कैसा हर्ज! (नईदुनिया)

– कुलदीप नैयर मैंने यह महसूस किया कि सेक्युलर विचारधारा मानने वाले लोग भी दूसरों की ही तरह कट्टरपंथी हैं। पिछले दिनों भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के मेरे घर आने को लेकर काफी गुस्सा जाहिर किया गया। मुझे टेलीफोन और ई-मेल के जरिए तमाम आलोचना सुनने-पढ़ने को मिली। कुल मिलाकर सबका यही कहना था कि […]

सीधी भर्ती प्रक्रिया की जरूरत (प्रभात खबर)

II भूपेंद्र यादव II सांसद व राष्ट्रीय महासचिव, भाजपा bhupenderyadav69@gmail.com केंद्र सरकार द्वारा ‘सीधी भर्ती’ के माध्यम से लोक सेवाओं में ‘संयुक्त सचिव’ स्तर के अधिकारियों को रखे जाने का निर्णय चर्चा में है. दरअसल, सरकार ने हाल ही में विभिन्न सरकारी मंत्रालयों में संयुक्त सचिव के 10 पदों के लिए सीधी भर्ती की अधिसूचना […]

आयुष्मान भारत : सतर्कता जरूरी (प्रभात खबर)

II डॉ अश्विनी महाजन II एसोसिएट प्रोफेसर, डीयू ashwanimahajan@rediffmail.com वर्ष 2018-19 के वित्त वर्ष के लिए बजट में जब वित्तमंत्री ने यह घोषणा की कि 10 करोड़ परिवारों यानी 50 करोड़ लोगों के स्वास्थ्य पर आनेवाले खर्च के लिए पांच लाख रुपये तक के खर्च को सरकार वहन करेगी, तो यह एक सपने जैसा प्रतीत […]

ग्रीन कार्ड अभिलाषियों को लाल झंडी (दैनिक ट्रिब्यून)

प्रमोद भार्गव अमेरिकी नागरिक बन जाने की प्रबल इच्छा रखने वाले भारतीयों के लिए बुरी खबर सामने आई है। यहां ग्रीन कार्ड प्राप्त करने वालों की सूची इतनी लंबी हो गई है कि कई लोगों को 151 साल तक इंतजार करना पड़ सकता है। अमेरिका के केटो इंस्टीट्यूट ने एक अध्ययन के बाद यह जानकारी […]

The last to know: on ICICI imbroglio (The Hindu)

The board of ICICI Bank has finally acted on the allegations of misconduct against its CEO and managing director, Chanda Kochhar. It had earlier maintained that she was on annual personal leave; now, she will stay away from the office till the completion of an inquiry into the charges levelled against her by a whistle-blower. […]

संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016