चर्च के भीतर (जनसत्ता)

केरल के कुछ चर्च पिछले कई महीनों से चर्चा और विवाद में हैं। इन चर्चों में यौनाचार-दुराचार की जो घटनाएं सामने आई हैं, वे शर्मसार कर देने वाली हैं। कोई सोच भी नहीं सकता कि ईश्वर की इबादत कराने और उसके प्रतिनिधि के रूप में प्रवचन देने वाले यहां के पादरी यौन शोषण जैसे आरोपों […]

सेहत की फिक्र (जनसत्ता)

सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली और निजी अस्पतालों में इलाज का खर्च पहुंच से दूर होने की वजह से करोड़ों गरीबों को समय पर माकूल चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो पातीं। इसके चलते हर साल लाखों लोग असमय मौत के मुंह में या गरीबी रेखा के नीचे चले जाते हैं। इसी समस्या से पार पाने […]

Is space travel Charity Ball 2.0? (Hindustan Times)

The 42-year-old Japanese billionaire Yusaku Maezawa is all set to become yet another space tourist by reportedly paying an undisclosed amount of money to buy all of the seats on SpaceX’s Big Falcon Rocket (BFR). He has even promised to take with him “six to eight artists from around the world” on his trip around […]

जलोटा पर हंगामा है क्यों बरपा (प्रभात खबर)

आशुतोष चतुर्वेदी प्रधान संपादक, प्रभात खबर ashutosh.chaturvedi @prabhatkhabar.in आजकल सोशल मीडिया पर अनूप जलोटा ने सबको मात दे रखी है. कुछ समय पहले तक चुटकुलों के लिए राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल सोशल मीडिया पर छाये रहते थे, लेकिन आजकल अनूप जलोटा ने सबको पीछे छोड़ दिया है. वह इन दिनों सोशल मीडिया के निशाने पर […]

नये आरएसएस की अवधारणा (प्रभात खबर)

रविभूषण वरिष्ठ साहित्यकार ravibhushan1408@gmail.com संभवत: पहली बार समकालीन हिंदी कवि एवं समाजशास्त्री प्रोफेसर बद्री नारायण ने कुछ समय पहले हिंदी-अंग्रेजी के कई लेखों में ‘न्यू आरएसएस’ की बात कही है. इस अवधारणा से यह स्पष्ट होता है कि आरएसएस ने अपने को बदला है और आज का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कल के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ […]

अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार वैश्विक अर्थव्यवस्था का सिर दर्द, भारत पर असर (प्रभात खबर)

संदीप बामजई आर्थिक मामलों के जानकार वैश्विक अर्थव्यवस्था में 40 प्रतिशत की दखल रखनेवाले अमेरिका और चीन के बीच छिड़े ट्रेड वार ने दोनों देशों के चार दशक पुराने रिश्ते को खत्म होने के कगार पर ला छोड़ा है. कुछ विशेषज्ञ इसे आर्थिक शीत युद्ध की आहट बता रहे हैं. वहीं, कुछ विशेषज्ञों का ऐसा […]

Can trade agreements be a friend to labour? (Livemint)

Dani Rodrik Labour advocates have long complained that international trade agreements are driven by corporate agendas and pay little attention to the interests of working people. The preamble of the World Trade Organization Agreement mentions the objective of “full employment”, but otherwise, labour standards remain outside the scope of the multilateral trade regime. Regional trade […]

The US-China trade war is about more than trade (Livemint)

Last November, when US President Donald Trump stopped by China on his Asia tour, his Chinese counterpart Xi Jinping suggested that “win-win cooperation is the only right choice and the pathway toward a better future” for the two countries. Ten months on, there isn’t a lot of cooperation going on. And with the latest round […]

PMJAY: The promises and challenges of a bold experiment (Livemint)

Sudipto Mundle The Narendra Modi government is better known for its economic programmes such as infrastructure and ease of doing business, than its social programmes. But two of its most ambitious programmes are related to health. The first is the Swachh Bharat programme, which the Prime Minister announced in his very first Independence Day speech. […]

Implications of data mirroring (Livemint)

Pradeep s. Mehta Data is the new oil and a driver of growth and change. Indeed, India is a supposed to become data rich before becoming economically rich. This digital growth is being pushed by large foreign digital companies. They are largely fuelled by the data of their users. And they are being welcomed by […]



संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016