उचित कदम (बिजनेस स्टैंडर्ड)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने संबोधन में कहा था कि कारोबारी जगत में सरकारी हस्तक्षेप कम किया जाएगा और कारोबारी सुगमता में सुधार लाया जाएगा। इस क्रम में आगे पहल करते हुए सरकार कंपनी अधिनियम की 65 धाराओं की आपराधिकता समाप्त कर उन्हें वैध करने की योजना बना रही है।...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

जीन संवद्र्धित बीजों पर मौजूदा नीति की समीक्षा का वक्त (बिजनेस स्टैंडर्ड)

सुरिंदर सूद आनुवांशिक रूप से संवद्र्धित (जीएम) जीन के खाद्य शृंखला एवं पर्यावरण क्षेत्र में पहुंच जाने के बारे में अगर कोई संदेह था तो बैगन, सरसों और कपास जैसी फसलों के गैर-अनुमोदित जीएम बीजों की बड़े पैमाने पर खेती होने की जानकारी सामने आने के साथ ही उसे दरकिनार कर देना चाहिए। असल में,...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

जम्मू कश्मीर में तथ्य कल्पना और हकीकत (बिजनेस स्टैंडर्ड)

शेखर गुप्ता कश्मीर समस्या का हल तलाश करने के पहले हमें उसे सही ढंग से समझना होगा। बिना तथ्यों या हकीकत को समझे हल सुझाने के अपने जोखिम हैं। पुरानी बीमारियों की उचित जांच परख किए बिना उनका निदान सुझाने का काम केवल नीम हकीम या ओझा आदि ही कर सकते हैं। इन ओझाओं को...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

We shall mind our own Jammu & Kashmir business (The Economic Times)

The lack of an outcome of the closed-door discussion on Kashmir in the United Nations Security Council (UNSC) is a diplomatic victory for India. Pakistan’s failure to internationalise Kashmir reflects India’s growing diplomatic clout. UNSC’s ‘closed consultation’ on Friday piloted by China resulted neither in a formal outcome nor a statement. 14 of the 15...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

The devil doesn’t lie in demographics (The Economic Times)

In 1843, Charles Dickens wrote A Christmas Carol, a celebration of festivity and feasting and repudiation of the gloomy socio-economic prophecy of Reverend Thomas Malthus. Malthus projected population growth to outstrip resources, especially food, leading to strife, misery, and starvation till mass mortality restored some sort of balance — only for this dreadful cycle to...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

कश्मीर में गांधी और गांधीवादी (हिन्दुस्तान)

रामचंद्र गुहा, प्रसिद्ध इतिहासकार महात्मा गांधी अगस्त 1947 के पहले सप्ताह में कश्मीर घाटी गए थे। तब वह 71 वर्ष के थे और यात्रा दुष्कर थी, लेकिन व्यक्तिगत कर्तव्य और राष्ट्रीय सम्मान, दोनों ही उन्हें वहां खींच ले गए। देश आजाद होने वाला था और विभाजित भी, तब तक यह साफ नहीं था कि विभाजन...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

प्लास्टिक और हम (हिन्दुस्तान)

हमारे यहां यह एक आम नजारा है। आपने अक्सर देखा होगा कि गाय जैसे पशु जब कूडे़ के ढेर से खाने का सामान ढूंढ़ रहे होते हैं, तो उनके उस खाने के साथ प्लास्टिक की इक्का-दुक्का थैलियां भी उनके पेट में पहुंच रही होती हैं। कुछ समय पहले एक खबर ऐसी भी आई थी कि...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

कारोबार सुगमता बढ़ाने से ही निकलेंगे नए रास्ते (हिन्दुस्तान)

जयंतीलाल भंडारी, अर्थशास्त्री एक समय था, जब भारत में कारोबार आसान नहीं था, लेकिन अब भारत में कारोबार सुगमता बढ़ाने के प्रयास लगातार हो रहे हैं। इन प्रयासों से हमारी स्थिति में सुधार दिखने लगा है। विगत महीने ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स (जीआईआई) 2019 रिपोर्ट जारी हुई है। इस इंडेक्स या सूचकांक में भारत पांच पायदान...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

बड़ी छतरी तले दीर्घकालीन सुरक्षा (दैनिक ट्रिब्यून)

आलोक पुराणिक निवेश का माहौल इन दिनों तरह-तरह की अनिश्चितताओं से भरा हुआ है। किसी न किसी वजह से शेयर बाजारों में विकट उथलपुथल है। चीन-अमेरिका का व्यापार युद्ध नये आयाम ले रहा है। ग्लोबल बाजार में तरह-तरह के नकारात्मक समाचार तैर रहे हैं। चीन मंदी की ओर है। भारत में कहीं न कहीं मंदी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

दुनिया देखें मगर (नवभारत टाइम्स)

विदेश यात्रा को लेकर बढ़ता आकर्षण हमें अपने इर्दगिर्द भी दिख रहा है लेकिन रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों ने बाकायदा इसकी पुष्टि कर दी है। इन आंकड़ों के मुताबिक इस साल जून महीने में ही देशवासियों ने 59.6 करोड़ डॉलर (करीब 4000 करोड़ रुपये) विदेश यात्रा पर खर्च किए हैं जो पिछले साल इसी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register