Selfie conscious (The Indian Express)

Space probes and planetary rovers are humanity’s agents of extreme tourism, taking pictures of the grandest vistas of the solar system and beaming them back to earth for our delectation. And, just like seasoned earthbound tourists, who would not dream of leaving home without a good selfie stick, they are equipped with their own these […]

क्यों नजर नहीं आ रहा है कोई घोटाला? (बिजनेस स्टैंडर्ड)

मिहिर शर्मा भारत के राजनीतिक इतिहास का यह दौर व्याकुलता और बचकानेपन से भरा हुआ है। मुख्य विपक्षी दल के अध्यक्ष ने स्पष्ट रूप से यह कहना शुरू कर दिया है कि प्रधानमंत्री भ्रष्ट हैं। इसका जवाब समूची कैबिनेट ने ट्वीट के माध्यम से दिया। सरकार के मंत्रियों ने हैशटैग के माध्यम से विरोधी दल […]

सन 1883-84 में कैसी नजर आती थी दिल्ली? (बिजनेस स्टैंडर्ड)

विवेक देवरॉय क्या दिल्ली से हिमालय को देखा जा सकता है? मेरा कहने का तात्पर्य यह नहीं है कि दिल्ली के आकाश से हवाई जहाज से हिमालय दिख सकता है या नहीं। एक वक्त था जब दिल्ली शहर से हिमालय नजर आता था। सन 1883-84 का दिल्ली गजेटियर हमें बताता है, ‘दिल्ली की पहाडिय़ां अपने […]

एनबीएफसी का संकट (बिजनेस स्टैंडर्ड)

क्या इन्फ्रास्ट्रक्चर लीजिंग ऐंड फाइनैंशियल सर्विसेज (आईएलऐंडएफएस) की समस्या इस ओर संकेत है कि देश में बैंकिंग क्षेत्र का एक छिपा हुआ संकट भी है? बाजार यकीनन ऐसा ही सोचता है। यह बात शुक्रवार और सोमवार को हुई बिकवाली से साफ हो गई। कई गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) बिकवाली की शिकार हुईं। बीते वर्षों […]

A pleasant surprise from the Maldives (The Economic Times)

Maldivian Democratic Party presidential candidate Ibrahim Mohamed Solih’s victory over incumbent Abdulla Yameen in the island nation’s elections on Sunday is a welcome outcome. Solih’s victory is a turning point for the island nation after years of Yameen’s heavy-handed rule and has immense significance for India and the region. The democratic unseating of the authoritarian […]

कैसे धुलें दाग (नवभारत टाइम्स)

दागी नेताओं को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ताजा फैसला भारतीय लोकतंत्र के रिसते हुए जख्मों पर मरहम लगाने जैसा है। कोर्ट ने कहा है कि दागी विधायक, सांसद और नेता आरोप तय होने के बाद भी चुनाव लड़ सकते हैं, लेकिन चुनाव प्रचार के दौरान उन्हें खुद पर निर्धारित आरोप भी प्रचारित करने होंगे। पिछले […]

बाजार में बवंडर (नवभारत टाइम्स)

पिछले सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन में शेयर बाजार ने अचानक जो गुलाटियां खाईं, उसके असर से उबरने में काफी सारे लोगों को काफी वक्त लगेगा। एक ही दिन में सेंसेक्स का 1285 पॉइंट तक और निफ्टी का 400 से भी ज्यादा पॉइंट लुढ़क जाना एक ऐसी घटना है, जिसका अभी के आर्थिक माहौल से […]

पश्चिम एशिया : चालीस साल बाद (अमर उजाला)

थॉमस एल. फ्रीडमैन इस हफ्ते पश्चिम एशिया में शांति के सबसे बड़े समझौते कैंप डेविड संधि के चालीस वर्ष पूरे हो गए हैं। तब से हम कितना आगे बढ़े हैं, इसका आकलन करने पर आप बेचैन हो उठेंगे। शांति के बजाय इस्राइल और फलस्तीन के रिश्ते बिल्कुल खत्म होने के करीब आ गए हैं। बिना […]

A Civil Crime (The Indian Express)

Written by Madhavi Goradia Divan Divorce by triple talaq (talaq-e biddat) is no longer recognised as valid since the Supreme Court’s (SC) ruling in Shayara Bano v Union of India in August last year. But should triple talaq constitute a penal offence? Under the Muslim Women (Protection of Marriage) Ordinance, 2018, brought out earlier this […]



संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016