Day: July 5, 2018

समर्थन मूल्य और किसानों की दुविधा (हिन्दुस्तान)

सोमपाल शास्त्री, पूर्व कृषि मंत्री बुधवार को घोषित खरीफ की फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य सरकार का एक बड़ा दांव है। इस घोषणा में चार-पांच महत्वपूर्ण बातें छिपी हैं, जिसका विश्लेषण जरूरी है। पहली तो यह कि सत्तारूढ़ दल ने 2014 के चुनावी घोषणापत्र में यह लिखित वचन दिया था कि वह स्वामीनाथन आयोग की […]

संपादकीयः दिल्ली का दरबार (जनसत्ता)

सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद अब दिल्ली में उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार के बीच चली आ रही रस्साकशी थम जाएगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल लगातार आरोप लगा रहे थे कि उपराज्यपाल उन्हें काम नहीं करने दे रहे। उन्हें एक चपरासी तक नियुक्त करने का अधिकार नहीं है। जब से दिल्ली में आम आदमी पार्टी की […]

संपादकीयः हिंसा पर लगाम (जनसत्ता)

हिंसक भीड़ के हमलों और हत्या जैसी घटनाओं पर सर्वोच्च न्यायालय ने कड़ा रुख दिखाया है। शीर्ष अदालत ने राज्यों से कहा है कि सामूहिक हिंसा से सख्ती से निपटा जाना चाहिए। पिछले कुछ वर्षों, खासकर हाल के कुछ महीनों में हिंसक भीड़ ने कई निर्दोष लोगों की जान ले ली। इन घटनाओं से लगता […]

अटके पुलिस सुधार (नईदुनिया)

सुप्रीम कोर्ट ने पुलिस सुधारों पर अपने दिशा-निर्देशों की अनदेखी का संज्ञान लेकर बिल्कुल सही किया। अच्छा होता कि वह समय रहते यह देखता कि उसके दिशा-निर्देशों पर अमल क्यों नहीं हो रहा है? कम से कम अब तो उसे यह सुनिश्चित करना चाहिए कि न केवल पुलिस प्रमुखों की नियुक्ति उसके द्वारा दी गई […]

मोदी से ही बंधी भरोसे की डोर (नईदुनिया)

– भवदीप कांग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में एक पत्रिका को दिए साक्षात्कार में जो कुछ भी कहा, उससे यही लगता है कि वे चार साल बाद अपने उसी सुपरहिट जुमले को दोहरा रहे हैं कि ‘अच्छे दिन आने वाले हैं! अपने इस संदेश के जरिए वे अपने उन समर्थकों-प्रशंसकों को आश्वस्त करना […]

आतंक की जड़ पर प्रहार का वक्त (नईदुनिया)

– कमलेंद्र कंवर हमारा देश लंबे समय से पाकिस्तान-प्रायोजित आतंकवाद के दंश झेल रहा है। अब वक्त आ गया है कि हम इसका तगड़ा प्रतिकार करें और पाकिस्तान को बता दें कि उसे अपनी नापाक हरकतों का खामियाजा भुगतना ही होगा। हम बीते कई वर्षों से लगातार कह रहे हैं कि यह पड़ोसी मुल्क आतंकियों […]

अफगानिस्तान में अनर्थ (नईदुनिया)

अफगानिस्तान के प्रमुख शहर जलालाबाद में सिखों और हिंदुओं को निशाना बनाकर किए गए भीषण आतंकी हमले में करीब 20 लोगों की मौत पर भारत सरकार ने उचित ही चिंता प्रकट की, लेकिन केवल इतने भर से बात बनने वाली नहीं है। इस हमले के बाद भारत सरकार को कहीं अधिक सक्रियता दिखाने की जरूरत […]

कैसे रुके रुपये की गिरावट (प्रभात खबर)

आरके पटनायक पूर्व सेंट्रल बैंकर जगदीश रतनानी वरिष्ठ पत्रकार jagdish@thebillionpress.org बढ़ता आयकर दायरा लगातार दूसरे साल प्रत्यक्ष करों से हासिल राजस्व में इजाफा हुआ है. पिछले वित्तवर्ष में इस राजस्व में 17 फीसदी की बढ़त हुई. साल 2016-17 में भी यह बढ़त 14 फीसदी की रही थी. बीते कई सालों से आयकर विभाग में अपनी […]

शिक्षिका, सरकार और अखबार (प्रभात खबर)

II मृणाल पांडे II वरिष्ठ पत्रकार mrinal.pande@gmail.com जून के अंत में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने सहयोगियों, अफसरों और सरकारी नुमाइंदों की मौजूदगी में देहरादून में जनता दरबार लगाया. फरियादियों में 57 साल की शिक्षिका उत्तरा पंत बहुगुणा थीं, जो एक सुदूर दुर्गम इलाके से अपने बीस बरस से लंबित तबादले की […]



संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016