Month: May 2018

A bureaucracy for our times (The Indian Express)

Written by Wajahat Habibullah The government’s proposal to revise the present system of recruitment to the country’s elite civil services has set the cat among the pigeons. The Niti Aayog has recommended that the government take recourse to lateral entry at all levels of the administration. It has elicited instructions from the Prime Minister’s Office […]

Pieces of peace (The Indian Express)

Written by Syed Ata Hasnain At 6 pm on May 29, the Director Generals of Military Operations (DGMOs) of India and Pakistan reportedly spoke to each other as part of the weekly Tuesday call and agreed to effectively implement the informal November 26, 2003, ceasefire at the Line of Control (LoC) in J&K. While there […]

The parched hills (The Indian Express)

It’s peak tourist season in Shimla and a photograph that’s making news shows people queuing up at the city’s Mall to get water from tankers. It’s a telling commentary on all that has gone wrong in the hill station this summer. “Give Shimla time to breathe and recover. If you love Shimla please don’t visit,” […]

नया यूरो संकट (बिजनेस स्टैंडर्ड)

अभी हाल तक लग रहा था कि यूरोप की स्थिति काफी बेहतर है। यूरो क्षेत्र में वृद्घि दर की वापसी हो गई थी। यूरोप की कई संकटग्रस्त अर्थव्यवस्थाएं सुधार की राह पर थीं और यूरोपीय क्षेत्र की अवधारणा काफी सुरक्षित नजर आ रही थी। खासतौर पर ब्रेक्सिट के बाद के हालात में जब यहां के […]

फंसा हुआ कर्ज और अपवाद से जुड़ा उत्साह (बिजनेस स्टैंडर्ड)

देवाशिष बसु देश के नीति निर्माताओं और राजनेताओं द्वारा किए जा रहे आत्मप्रशंसा में लीन और मुखर ट्वीट्स और उन्हें मिल रहे मीडिया के समर्थन पर भरोसा करें तो ऐसा प्रतीत होता है कि देश का दिवालिया कानून जबरदस्त रूप से सफल रहा। पहला जिक्र टाटा स्टील द्वारा भूषण स्टील के सफल अधिग्रहण का हो […]

Good try, Mr Kumar, but it won’t fly (The Economic Times)

NITI Aayog vice-chairman Rajiv Kumar has sought to steer the Swadeshi Jagran Manch to a new approach to evaluating the swadeshi (indigenous) coefficient of an economic activity on the basis of two criteria: does it promote faster economic growth, and does it promote creation of good-quality local jobs? This is a decent effort to bring […]

टॉर्चर न बने इम्तहान (नवभारत टाइम्स)

सीबीएसई की दसवीं बोर्ड परीक्षा के परिणाम आते ही दिल्ली में तीन बच्चों की खुदकुशी की खबरें आईं। देशभर में न जाने कितने और बच्चे कम नंबर लाने की वजह से हताशा के शिकार हुए होंगे। दरअसल इस साल नौ वर्षों के बाद अनिवार्य टेंथ क्लास बोर्ड परीक्षा की वापसी हुई है। शायद इसी का […]

Adopt legal identifier to track shell comapies (The Economic Times)

The government’s decision to make it mandatory for unlisted companies to dematerialise their shares is welcome. It will help track fraudulent shell companies and their promoters, curbing money laundering. Paper shares of ownership records is an 18th-century practice, and fraught with risks such as loss, theft and forgery. That will vanish when shares are held […]

बैंककर्मियों की हड़ताल (नवभारत टाइम्स)

सरकारी बैंकों के करीब 10 लाख कर्मचारी दो दिनों की हड़ताल पर हैं। एटीएम, सीडीएम जैसी मशीनों ने कम से कम शहरी क्षेत्रों में बैंक शाखाओं के कर्मचारियों पर लोगों की निर्भरता घटा दी है, बावजूद इसके दो दिनों की इस हड़ताल का असर हर जगह महसूस किया जाएगा। हड़ताल की वजह सैलरी में महज […]

किसानों का लगान माफी आंदोलन (प्रभात खबर)

II मनींद्र नाथ ठाकुर II एसोसिएट प्रोफेसर, जेएनयू manindrat@gmail.com कोसी नदी को बिहार का अभिशाप कहा जाता था. लेकिन उस अभिशाप से निकालने का जो प्रयास आधुनिक विकास के माॅडल के द्वारा किया गया, वह उस इलाके के किसानों के गले का फंदा बन गया है. किसान न तो खेती कर पाते हैं, न ही […]



संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016