Day: February 5, 2018

सूनी हो गई गाँव की डगर नगर हो गए महानगर (पत्रिका)

चन्द्रकान्ता शर्मा बापु ने आजादी से पहले ही कह दिया था कि असली भारत गाँवों में है तथा गाँवों के समग्र विकास से ही सम्पूर्ण राष्ट्र का उत्थान सम्भव है लेकिन आजादी के दषकों के बाद भी हमारे गाँवों का वही हाल है जैसा कि उनका पराधीन भारत में था। उस समय तो हम यह […]

यह संघीय अवधारणा और स्वस्थ लोकतंत्र के विरुद्ध (पत्रिका)

– जगदीप छोकर भारत में ‘एक देश एक चुनाव’ का प्रयास लोकतंत्र को सुदृढ़ बनाने की बजाय उसको कमजोर ही करेगा। यह देश हित में नहीं है। इसके लिए चुनाव पर बहुत ज्यादा धन खर्च होने और निरंतर चुनाव से प्रशासन के व्यस्त रहने व विकास कार्य में अड़चनों की दलीलें दी जा रही हैं। […]

केंद्रीय बजट और महिलाएं (प्रभात खबर)

डॉ सय्यद मुबीन जेहरा शिक्षाविद् drsyedmubinzehra@gmail.com महिलाएं आज मर्दों के कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं, मगर उन्हें उनकी सलाहियतों के हिसाब से इनाम नहीं मिल रहा है. सरकार के पास अच्छा मौका था कि शहरी और गांव की सभी महिलाओं के लिए वह बजट में कुछ ऐसा की हाेती, जिससे उनके सशक्तिकरण की […]

Reviewing the passage of the Aadhaar Bill (Livemint)

Shefali Malhotra The Chief Justice of India (CJI), in a recent hearing, asked if courts could review the Speaker’s decision to designate a Bill as a money Bill. This was in relation to the Aadhaar Act, 2016, controversially being passed as a money Bill. We argue that yes, the courts can indeed review the decision […]

Modicare will find it tough to get out of the blocks (Livemint)

Soon after he announced the world’s largest public healthcare scheme in the Union budget, finance minister Arun Jaitley termed it “Modicare” in a Doordarshan interview. This was not happenstance. Prime Minister Narendra Modi’s electoral dance card is full. Taking ownership of a startlingly ambitious—in theory—programme aimed at the common man is apt messaging. But the […]

A common man’s view of India’s progress (Livemint)

Arun Maira How do economists think India is doing? And on the other hand, how does the common man think India’s economy is doing? It depends on the numbers you look at. In 2004, when India was supposedly shining, I was writing my book, Remaking India: One Country, One Destiny. I turned to R.K. Laxman […]

How can US change Pakistan’s behaviour? (Livemint)

Brahma Chellaney US President Donald Trump’s recent decision to freeze some $2 billion in security assistance to Pakistan as punishment for the country’s refusal to crack down on transnational terrorist groups is a step in the right direction. But more steps are needed. The US has plenty of incentives to put pressure on Pakistan, a […]

An ‘incredible’ path to employment and growth (Livemint)

Narayan Ramachandran The road north from Bengaluru towards Hyderabad slopes gently downwards from the top of the Deccan plateau. Lush green grape vines in the Nandi Hills area give way to the arid brush of Anantapur district in Andhra Pradesh. A little off the highway, about 2 hours north of the airport, lies the town […]

उचित नहीं मुकदमा (राष्ट्रीय सहारा)

यह खबर निश्चय ही हर भारतवासी को चिंतित करेगी कि जम्मू-कश्मीर पुलिस ने वहां कार्रवाई कर रहे सेना के जवानों पर मुकदमा दर्ज किया है। जिनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है वे जवान 10 गढ़वाल यूनिट के हैं और इनमें एक मेजर स्तर का अधिकारी भी शामिल है। मुकदमा 302 यानी हत्या और 307 यानी […]

जानिए, मोदी कैसे बदलेंगे राजकोषीय घाटे को लेकर चुनाव तक ग्रामीण भारत की तस्वीर (दैनिक जागरण)

नई दिल्ली [ संजय गुप्त ]। वित्त मंत्री अरुण जेटली की ओर से पेश आम बजट को संसद की मंजूरी मिलने के साथ ही मोदी सरकार अपने कार्यकाल के चार वर्ष पूरे करने के करीब पहुंच जाएगी। चूंकि इसी के साथ वह चुनावी वर्ष में प्रवेश कर लेगी इसलिए बजट के बारे में एक धारणा […]

Loading...
संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016