Month: February 2018

‘बैंकों में फ्रॉड पर फ्रॉड’ अब सामने आए 4 और मामले (पंजाब केसरी)

इन दिनों कुछ ही समय के अंतराल के दौरान एक के बाद एक सामने आने वाले अरबों रुपयों के बैंक घोटालों से देश के अर्थ जगत में भूचाल सा आया हुआ है जिससे बैंकों की विश्वसनीयता पर प्रश्रचिन्ह लग गया है। सबसे पहले पंजाब नैशनल बैंक का 11,400 करोड़ रुपए का ऋण घोटाला सामने आया […]

चीन की चिंता करें जिनपिंग की नहीं (हिन्दुस्तान)

अलका आचार्य, चीन मामलों की विशेषज्ञ पिछले अक्तूबर में संपन्न हुए चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के 19वें सम्मेलन के बाद जिस एक सवाल ने सबसे ज्यादा अटकलों और विमर्शों को जन्म दिया, वह था- शी जिनपिंग के बाद कौन? इस प्रश्न का जवाब अब मिल गया है और वह है- खुद शी जिनपिंग। दरअसल, दो कार्यकाल […]

एकछत्र तानाशाह का उदय! (प्रभात खबर)

II पुष्पेश पंत II विदेश मामलों के जानकार pushpeshpant@gmail.com चीन की साम्यवादी पार्टी ने यह प्रस्ताव पेश किया है कि अब वहां राष्ट्रपति तथा उपराष्ट्रपति के पद पर आसीन व्यक्ति के लिए मात्र दो पांचसाला कार्यकाल की सीमा रखने की जरूरत नहीं है. इसका मतलब साफ है- 2023 के बाद भी अपने पद पर शी […]

क्या बैंक निजीकरण सही हल है? (प्रभात खबर)

II संदीप मानुधने II विचारक, उद्यमी, एवं शिक्षाविद् sm@ptuniverse.com भारत जैसे विशाल देश में 136 करोड़ लोगों के विकास की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए बनी सरकारी नीतियों के क्रियान्वयन में सरकारी बैंक प्रमुख भूमिका निभाते हैं. यदि ये न हों, तो विशालकाय केंद्रीय योजनाएं जैसे कि जन-धन योजना, मुद्रा योजना आदि कभी लागू […]

Battery harmonization will help electric vehicles (Livemint)

Rahul Matthan There is an entire chapter in Tim Harford’s book Fifty Inventions That Shaped The Modern Economy devoted to the shipping container. It seems incongruous that something so simple would feature in a book like this, but Harford argues that this is probably the one invention that made our global economy truly global. Before […]

Opec’s new gambit has poor odds of success (Livemint)

Saudi Arabia and Russia don’t make for natural partners. Their often conflicting agendas in West Asia bear testament to that. But economic interests are a powerful motivator. The two oil-driven economies have cooperated closely on oil production cuts since the beginning of 2017. They are now preparing to go further. Last week, Suhail al-Mazrouei, president […]

The rising agrarian distress in India (Livemint)

Jayati Ghosh Across the country, farmers are furious—and rightfully so. Four years ago, they helped bring the Bharatiya Janata Party (BJP) to power, believing Narendra Modi’s claims that they would no longer suffer official neglect. But since then, conditions in agriculture have got worse. Earlier problems have worsened as farm incomes have been squeezed by […]

Health outcomes index: nudging India to progress (Livemint)

Amitabh Kant India is committed to the United Nations Sustainable Development Goal (UN-SDG) to ensure “good health and well-being” of all its citizens. The release of “Healthy States, Progressive India” report has spurred a vibrant debate on the status and future of India’s health sector. Understandably, the focus has been on the performance and annual […]



संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016