Day: January 18, 2018

पूरी दुनिया पर असर डालेगा यह रिश्ता (हिन्दुस्तान)

शशांक, पूर्व विदेश सचिव करीब छह महीने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इजरायल का ऐतिहासिक दौरा किया था। उससे पहले किसी भारतीय प्रधानमंत्री ने इजरायल की जमीन पर कदम नहीं रखा था। मोदी की वह लीक तोड़ने वाली यात्रा थी। इसीलिए उस दौरे को भारत-इजरायल दोस्ती में मील का पत्थर माना गया। मगर बाद के […]

लाइन ऑफ कंट्रोल पर पलटवार (हिन्दुस्तान)

जी डी बख्शी, रिटायर्ड मेजर जनरल आर्मी दिवस पर भारत की सेना ने देश को एक शानदार तोहफा दिया। उसने सीमा पार से पाकिस्तानी फार्यंरग का जवाब देते हुए कार्रवाई शुरू की, तो उनकी फौज के सात अफसर और जवान मारे गए। इतना ही नहीं, इस प्रयास में जैश-ए-मोहम्मद के छह फिदाईन आतंकवादी सीमा पार […]

साहब और साहबी (जनसत्ता)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद अब्बासी ने आतंकी सरगना हाफिज सईद के बारे में जिन लफ्जों का इस्तेमाल किया, उससे एक बार फिर जाहिर हो गया है कि पाकिस्तानी हुक्मरान दहशतगर्दी पर लगाम कसने को लेकर कतई संजीदा नहीं हैं। शाहिद अब्बासी ने हाफिज सईद के बारे में पूछे जाने पर ‘साहब’ कहते हुए बड़े अदब […]

खाप के खिलाफ (जनसत्ता)

खाप पंचायतों के मसले पर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने जरूरी दखल दिया है। संविधान हर बालिग नागरिक को अधिकार देता है कि वह अपनी पसंद और सहमति से किसी से प्रेम और विवाह कर सकता है, लेकिन बड़ी विडंबना है कि सामाजिक परंपरा के नाम पर कोई पंचायत उसे ऐसा करने से रोकती है। […]

सबसिडी के बजाय कल्याण (नईदुनिया)

किसी धर्मनिरपेक्ष राज्य का ये बुनियादी सिद्धांत होता है कि उसमें न तो किसी धर्म को प्रोत्साहित किया जाता है, न ही किसी को हतोत्साहित। सबको अपना मजहब मानने की आजादी होती है। साथ ही ये अपेक्षित होता है कि कोई अपने धर्म के पालन अथवा उसके प्रचार-प्रसार के लिए राज्य से सहायता की अपेक्षा […]

तोड़ना होगा लव जिहाद का छलावा (नईदुनिया)

– तुफैल अहमद लव जिहाद का जुमला हमारे राष्ट्रीय विमर्श में तेजी से अपनी जगह बनाता जा रहा है। इसका कारण तथाकथित लव जिहाद को लेकर रह-रहकर होने वाली घटनाएं हैं। ताजा घटना मेरठ में घटी, जहां लव जिहाद का आरोप लगाकर एक युवक की पुलिस की मौजूदगी में पिटाई हुई। इसके पहले दिल्ली में […]

आधार पर निराधार हैं आपत्तियां (नईदुनिया)

– रविशंकर प्रसाद देश की विकास यात्रा में आधार क्रांतिकारी बदलाव ला रहा है। यह बिचौलियों व भ्रष्टाचार को खत्म कर गरीबों तक उनका हक पहुंचा रहा है। डिजिटल समावेशन व डिजिटल सशक्तीकरण डिजिटल इंडिया के दो प्रमुख लक्ष्य हैं, जिन्हें हासिल करने में आधार अहम भूमिका निभा रहा है। यह सुरक्षित होने के साथ-साथ […]

गरीबी नहीं गैरबराबरी है चुनौती (प्रभात खबर)

मृणाल पांडे वरिष्ठ पत्रकार एक जमाना था, जब कक्षा से चुनावी भाषणों तक में ‘अहा ग्राम्य जीवन भी क्या है?’ जैसे जुमले सुनने को मिलते थे. भला हो राग दरबारी के लेखक श्रीलाल शुक्ल का, जिन्होंने इस उपन्यास के मार्फत आजादी के बाद हमारे बदहाल गांवों की असलियत दिखाकर इस पाखंड पर ऐसी चोट की […]

संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016