Day: January 12, 2018

The #MeToo movement has worked (Livemint)

Megan McArdle Me too. Me too. Me too. When our friends and colleagues are the accusers, when our neighbours and peers are the accused, the problem stares us in the face from a proximity so intimate that we cannot dismiss it with a simplistic response. All that’s clear is that the problem is real, and […]

In defence of economic populism (Livemint)

Dani Rodrik Populists abhor restraints on the political executive. Since they claim to represent “the people” writ large, they regard limits on their exercise of power as necessarily undermining the popular will. Such constraints can only serve the “enemies of the people”—minorities and foreigners (for right-wing populists) or financial elites (in the case of left-wing […]

दोहरी सोच की समस्या (राष्ट्रीय सहारा)

चंद्रकांत लहारिया भारत में स्वास्य क्षेत्रमें सरकार के व्यय, जो कुल स्वास्य परिव्यय का 30% (नियंतण्र औसत 60.1%) है, 190 देशों की तुलना में 17वां सर्वाधिक नीचा है। सरकार के स्तर पर कम व्यय के चलते कुल स्वास्य परिव्यय का करीब दो-तिहाई लोगों को सीधे अपनी जेब से व्यय करना पड़ता है। स्वास्य संबंधी खर्चो […]

Unite And Serve (TOI)

The opposite of ‘divide and rule’, it is also PM Modi’s mission statement MJ Akbar It is unsurprising that Prime Minister Narendra Modi, who is an avowed disciple of Swami Vivekananda, should have placed gender reform at the heart of governance. The passage of a triple talaq bill in Lok Sabha and the reinstitution of […]

खतरे की आहट देती रणनीतिक करवटें (दैनिक ट्रिब्यून)

रमेश नैयर वर्ष के प्रथम प्रभात से पैगाम मिला कि भावनाओं को सिर्फ घरेलू उपभोग के लिए मसालेदार छौंक लगाया जा सकता है। वैश्विक मंच पर परीक्षित रिश्तों की डोर को थामे रखने में ही अक्लमंदी है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को तगड़ी धमकी देते हुए उसकी आर्थिक मदद रोक कर भारतीय राजसत्ता को एकबारगी […]

आय पर टैक्स की कैंची (दैनिक ट्रिब्यून)

अपने पिछले बजट में वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कोशिश की थी कि निजी आयकर प्रणाली को ज्यादा उदारवादी बनाया जाए ताकि लोगों को परेशानी भी न हो और कर के नाम से जो मन में डर बैठा है, वह भी दूर हो जाए। इसका सीधा असर कर वसूली के आंकड़ों में देखने को मिला जो […]

संभाजी भिड़े : बिना घर बार, बड़ा परिवार (दैनिक ट्रिब्यून)

अरुण नैथानी आजकल कोरेगांव विवाद के बाद वर्ष 2014 के चुनाव अभियान के दौरान दिए गये नरेंद्र मोदी के एक बयान को सोशल मीडिया में खूब शेयर किया जा रहा है। रायगढ़ की एक रैली में उन्होंने कहा, ‘मैं भिड़े गुरु जी का बहुत आभारी हूं क्योंकि उन्होंने मुझे निमंत्रण नहीं दिया बल्कि उन्होंने मुझे […]

राजनीति की तिजारत लाई आफत (दैनिक ट्रिब्यून)

अतुल चतुर्वेदी राजनीति और तिजारत में अब बहुत ज्यादा फर्क नहीं रह गया है। दोनों ही मुनाफे की मांग पर चलते हैं। दोनों में ही भावुकता का स्थान अब शेष नहीं रह गया है। दोनों ही वंशानुगत हो गयी हैं। वहां ‘यह आम रास्ता नहीं है’ का बोर्ड टंगा है। नया स्टार्ट अप डालना दोनों […]

On privatisation of Air India: Ready for sale (The Hindu)

The Union Cabinet has approved a series of changes in foreign direct investment norms as the government prepares to enter the last lap of its economic policy-setting phase ahead of the 2019 election. Key among these was the decision to allow up to 49% overseas ownership, including by a foreign airline, in Air India. This […]

Towards stability in Nepal (The Hindu)

A month after the Left Alliance secured a decisive victory in Nepal’s parliamentary elections, a government is yet to be formed in Kathmandu. The Alliance was forged just before the elections between the Communist Party of Nepal (Unified Marxist-Leninist) and the Communist Party of Nepal (Maoist Centre). The transfer of power from the Nepali Congress […]

संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016