Day: January 1, 2018

सबसे बड़ा पशुधन, इसे बचाना होगा (पत्रिका)

– मेनका संजय गांधी केवल किसान ही पशुओं की खरीद-फरोख्त कर सकते हैं, जबकि यहां एक भी किसान दिखाई नहीं देता। सब के सब पशु व्यापारी हैं। छोटे व्यापारी पशुओं को बूचडख़ाना मालिकों को बेच देते हैं। नियमानुसार एक व्यक्ति को दो से ज्यादा पशु नहीं बेचे जा सकते जबकि 100-१०० पशुओं को एक ही […]

लेना होगा सबक (पत्रिका)

हादसा होता है तो सभी सरकारी विभाग मुस्तैद हो उठते हैं। दुनिया को दिखाने के लिए नोटिस भी थमा दिए जाते हैं। मुंबई के एक रेस्टोरेंट में लगी आग पन्द्रह जनों को लील गई। मौतें हुई इसलिए क्योंकि रेस्टोरेंट के वॉशरूम से निकलने का रास्ता लोगों को नहीं मिला। धुएं में दम घुटने से तड़प-तड़प […]

इस विदेश नीति में न तो नीति और न ही दिशा (पत्रिका)

– अनिल शास्त्री दुनिया के दूसरे मुल्कों से संबंध बेहतर बनाने की बातें तो छोड़ दें हमारे पड़ोसी मुल्कों में वे देश भी अब दूरियां बनाते दिख रहे हैं जो कभी भारत की छाया में आगे बढऩे वाले देश माने जाते थे। सबसे बड़ा उदाहरण तो नेपाल का है। लगता है कि नरेन्द्र मोदी के […]

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री को लाइफ- जैकेट न पहनने पर जुर्माना (पंजाब केसरी)

आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल का आवास सिडनी बंदरगाह के निकट ही है और गत दिवस वह अपने आवास के निकट ही समुद्र में बिना लाइफ जैकेट पहने नाव पर सवारी करते पकड़े गए। उन्हें दोषी पाए जाने पर आस्ट्रेलियन मैरीटाइम अधिकारियों ने 250 डालर जुर्माना लगा दिया। बिना लाइफ जैकेट सवारी की उनकी एक […]

नववर्ष को सफल बनाने के लिए सरकार कृषि पर विशेष फोकस करे (पंजाब केसरी)

नववर्ष से दो दिन पहले यह सब शुरू होता है। नववर्ष के लिए अनगिनत शुभकामनाएं फॉर्वर्ड किए संदेशों से लेकर गीतों के रूप में हमारे फोन्स को जाम कर देती हैं।चूंकि आज हमारे पास व्हाट्सएप, फेसबुक, आई मैसेज जैसे एक-दूसरे के सम्पर्क में रहने के कई जरिए हैं, लिहाजा हर संदेश का जवाब देने में […]

नया संकल्प (हिन्दुस्तान)

हर बार जब नया साल दस्तक देता है, तो हम या तो ठंड में ठिठुर रहे होते हैं या फिर सर्दी कम होने के कारण ग्लोबल वार्मिंग को कोस रहे होते हैं। इस बार ये दोनों चीजें एक साथ हो रही हैं। पश्चिम के देशों में इस समय असाधारण सर्दी है और वहां ठंड के […]

नववर्ष को सफल बनाने के लिए सरकार कृषि पर विशेष फोकस करे (पत्रिका)

नववर्ष से दो दिन पहले यह सब शुरू होता है। नववर्ष के लिए अनगिनत शुभकामनाएं फॉर्वर्ड किए संदेशों से लेकर गीतों के रूप में हमारे फोन्स को जाम कर देती हैं।चूंकि आज हमारे पास व्हाट्सएप, फेसबुक, आई मैसेज जैसे एक-दूसरे के सम्पर्क में रहने के कई जरिए हैं, लिहाजा हर संदेश का जवाब देने में […]

उत्सवप्रिय देश में नववर्ष (हिन्दुस्तान)

सोनल मानसिंह, पद्मविभूषण से सम्मानित नृत्यांगना हमारे धर्मनिरपेक्ष देश में कई नए साल हैं। विक्रम संवत् है, गुड़ी पड़वा है, उगादि है, हिजरी संवत् है। इसके अलावा दक्षिण में ओणम् है। मैं गुजरात से हूं, वहां दीपावली का अगला दिन यानी कार्तिक की एकम् हमारे नए साल का पहला दिन है। देश के अलग-अलग हिस्से […]

दुरुस्त आयद (जनसत्ता)

यह देर से ही सही, पर दुरुस्त कदम है। दिवाला एवं ऋण शोधन संहिता (आइबीसी) विधेयक बीते शुक्रवार को लोकसभा में पारित हो गया। हालांकि कई विपक्षी सदस्यों ने विधेयक के कुछ प्रावधानों पर सवाल उठाए, पर मूल रूप से विधेयक से सहमति जताई। विपक्ष के इस रुख को देखते हुए यह सहज ही अनुमान […]

शिक्षा के ‘उद्योग’ में फीस नियंत्रण की रस्म अदायगी! (नईदुनिया)

देशभर में आए दिन सामने आने वाले विवादों-मुद्दों में कम ही ऐसा होता है, जिस पर सभी एकमत हों! अपवाद का ऐसा ही एक आधार है-निजी स्कूलों की बेलगाम फीस। सभी एकमत हैं कि फीस बहुत ज्यादा है और इस पर नियंत्रण होना ही चाहिए। निजी स्कूलों की स्थिति समझने के लिए सबसे पहले कुछ […]

संपादकीय:Editorials (Hindi & English) © 2016