Day: October 17, 2019

समाधान और संदेश (नवभारत टाइम्स)

दशकों से चला आ रहा अयोध्या का राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद समाधान की ओर बढ़ चला है। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में इसकी सुनवाई पूरी हो गई। कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है, जो 23 दिन में सार्वजनिक कर दिया जाएगा। अदालत ने कहा कि अगले तीन दिन तक इस मामले में दस्तावेज जमा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ऐतिहासिक भूल के सौ साल: जब गांधीजी खिलाफत आंदोलन चला रहे थे तब तुर्क उसे खत्म करना चाह रहे थे (दैनिक जागरण)

[ शंकर शरण ]: भारत में महात्मा गांधी का पहला बड़ा राजनीतिक अभियान खिलाफत आंदोलन में भाग लेना था। यह मुहिम कुछ भारतीय मुसलमानों द्वारा शुरू की गई थी। उद्देश्य था तुर्की में इस्लाम के खलीफा सुल्तान की गद्दी और उसका साम्राज्य बचाना। मई 1919 से खिलाफत सभाओं में गांधी जी के भाषण शुरू हुए।...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Why women’s representation in politics matters | HT Editorial

There is now substantial political literature to suggest that having women political representatives aids the case of gender equality. Not only is this because women deserve equal rights of representation as men, but because they are sensitive to issues which, at best, either escape the attention of male representatives, or, at worst, are ignored deliberately...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चीन-पाकिस्तान मतभेद के मायने (प्रभात खबर)

प्रो पुष्पेश पंत अंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकार तुर्की ने सीरिया में जो हमला किया है, उसमें एक बात सामने आयी है कि पुराने दोस्त और एक-दूसरे के प्रति सामरिक जरूरतों को समझनेवाले चीन और पाकिस्तान के बीच गंभीर मतभेद उभर रहे हैं. मगर भारत के लिए यह तसल्ली या खुशी का सबब नहीं हो सकता....

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हारी हुई लड़ाई लड़ता विपक्ष (प्रभात खबर)

नवीन जोशी वरिष्ठ पत्रकार लोकसभा चुनावों में मिली बड़ी पराजय को पीछे छोड़कर विपक्ष के पास ‘अजेय’ नरेंद्र मोदी यानी भाजपा को घेरने का एक अच्छा अवसर हरियाणा और महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव थे. चंद महीनों बाद उसे झारखंड, बिहार और दिल्ली में इस अवसर को और बड़ा बनाने का मौका भी मिलनेवाला था. यह...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

स्थानांतरण कानून का विरोध क्यों, कहीं तेजी से फला-फूला उद्योग बंद न हो जाए (अमर उजाला)

केंद्र और राज्य सरकारों के लाखों कर्मचारियों को देश के अनिच्छित स्थानों पर स्थानांतरण और पदस्थापन के जरिये परेशान किया जाता है, उनके स्थानांतरण भत्ते, यात्रा भत्ता, महंगाई भत्ता आदि पर करोड़ रुपये खर्च किए जाते हैं, और साथ ही, नेताओं और संबंधित अधिकारियों/कर्मचारियों को भ्रष्टाचार में लिप्त होने का मौका भी दिया जाता है।...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

गिफ्ट और ग्लैमर के दौर में करवाचौथ (हिन्दुस्तान)

पद्मा सचदेव, चर्चित साहित्यकार आज करवाचौथ है। 80 साल की उम्र में पीछे पलटकर इस त्योहार को याद करती हूं, तो स्मृतियों की आलमारी से कई सुनहरी यादें आंखों के सामने रूप धरकर घूमने लगती हैं। मैं जम्मू में अपने माता-पिता, भाई-बहनों के साथ रहती थी। हमारा सामूहिक परिवार था। कोई आठ-दस साल की थी,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सुनवाई के बाद (हिन्दुस्तान)

दलीलें खत्म, अब उम्मीद बांधने का समय है। डेढ़ सदी से भी ज्यादा पुराने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर अंतिम अदालती फैसले तक पहुंचने का समय अब शायद ज्यादा दूर नहीं है। सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने मामले की सुनवाई पूरी कर ली है और इसके साथ ही यह उम्मीद भी बंध गई है...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नेपाल-चीन की रणनीतिक साझेदारी का (हिन्दुस्तान)

अमिशराज मुल्मी, नेपाली लेखक यह यात्रा बेशक छोटी रही, लेकिन नेपाल के लिए उम्मीदें बंधाने वाली थी। अब जब चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग काठमांडू से वापस लौट चुके हैं, तो नेपाल के सत्ता प्रतिष्ठान में यह नया विश्वास पैदा हुआ है कि केरुंग-काठमांडू रेल लाइन ही नहीं, इन्फ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी कई अन्य अधूरी परियोजनाएं...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय: कुपोषित विकास (जनसत्ता)

इससे बड़ी विडंबना और क्या होगी कि एक ओर दुनिया भर में अर्थव्यवस्था को पैमाना बना कर अलग-अलग देशों में विकास की चमकती तस्वीरें पेश की जा रही हैं और दूसरी ओर बड़ी तादाद में बच्चे कुपोषण के शिकार हैं। संयुक्त राष्ट्र की ओर से मंगलवार को जारी बाल पोषण संबंधी रिपोर्ट में यह आंकड़ा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register