Day: October 16, 2019

प्राथमिकी दूसरे राज्य में भेजे जाने पर सवाल (दैनिक ट्रिब्यून)

अनूप भटनागर कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न की रोकथाम का कानून बनने के छह साल बाद अब उच्चतम न्यायालय के समक्ष एक रोचक मामला आया है। इस मामले में उच्च न्यायालय ने महिला पुलिस अधिकारी द्वारा पुलिस महानिरीक्षक स्तर के अधिकारी के खिलाफ कथित रूप से यौन उत्पीड़न की शिकायत के आधार पर दर्ज...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

विकास के साथ जीवन की गुणवत्ता भी जरूरी (दैनिक ट्रिब्यून)

भरत झुनझुनवाला बीते बजट में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कंपनियों द्वारा अदा किये जाने वाले आयकर, जिसे कॉरपोरेट टैक्स कहा जाता है, को लगभग 35 प्रतिशत से बढ़ाकर 43 प्रतिशत कर दिया था। उन्होंने कहा था कि अमीरों का दायित्व बनता है कि देश की जरूरतों में अधिक योगदान करें। बीते माह उन्होंने अपने कदम...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बचत पर आफत (नवभारत टाइम्स)

मुंबई के पीएमसी (पंजाब ऐंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव) बैंक में जारी संकट ने सोमवार को बैंक के एक ग्राहक संजय गुलाटी की मौत से और भी दुखद मोड़ ले लिया। बैंक के अन्य ग्राहकों के साथ संजय सोमवार को ही विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे। स्थानीय लोगों के मुताबिक वहां से लौटने के बाद उन्हें...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संशय में सार्थकता (राष्ट्रीय सहारा)

देश में 12 अक्टूबर, 2019 को सूचना का अधिकार कानून (आरटीआई) लागू हुए चौदह वर्ष पूरे हो चुके हैं। इस कानून ने समूचे देश में लोगों का सशक्तिकरण किया। सही मायनों में आरटीआई ने सूचना प्राप्त करने का उनका बुनियादी अधिकार उन्हें दिया। और सरकार को जवाबदेह बनने पर विवश कर दिया। लेकिन पहले कभी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कश्मीर में तेजी से सुधरते हालात दे रहे पाकिस्‍तान को कड़ा संदेश, हो गई बोलती बंद (दैनिक जागरण)

अभिमन्यु शर्मा। केंद्र सरकार एवं राज्य प्रशासन के प्रयासों के कारण कश्मीर की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। यह इसी का परिणाम है कि बीते सोमवार को प्रशासन ने कश्मीर में सभी पोस्ट पेड मोबाइल सेवा बहाल कर दी। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35-ए को हटाने और इसके पुनर्गठन के बाद पांच...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कश्मीर पर भारत के खिलाफ नया गठजोड़: शीशे के घर में बैठकर वह भारत पर पत्थर नहीं फेंक सकता (दैनिक जागरण)

[ ब्रिगेडियर आरपी सिंह ]: कश्मीर पर अंतरराष्ट्रीय समर्थन जुटाने में नाकाम रहे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को तुर्की, मलेशिया और चीन से जो समर्थन मिला वह डूबते को तिनके का सहारा जैसा है। मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने कश्मीर को लेकर संयुक्त राष्ट्र में भारत को निशाना बनाया। बीते कई दशकों में यह किसी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

प्रधानमंत्री मोदी को बैैंकिंग व्यवस्था दुरुस्त करनी ही होगी वरना सरकार को साख बचाना मुश्किल होगा (दैनिक जागरण)

[ राजीव सचान ]: हीरा कारोबार के नाम पर हेराफेरी करने वाला नीरव मोदी अपने मामा मेहुल चोकसी के साथ बीते साल की शुरुआत में देश से बाहर भाग गया था। इन दोनों की फरारी के कुछ समय बाद यह सामने आया कि उन्होंने किन बैंकों से कितना कर्ज ले रखा था। सबसे ज्यादा चूना...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Structural shifts in West Asia | HT editorial

The fate of the Kurds is a parable for the future of West Asian geopolitics. The Kurds used the collapse of central authority in Syria and Iraq to carve out semi-autonomous regions for themselves. Baghdad has since reasserted its authority. In Syria, the Kurds leveraged the United States to maintain their independence from Damascus and...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

‘आर्थिक मंदी’ के प्रश्र पर वित्त मंत्री के पति ने ‘सरकार को घेरा’ (पंजाब केसरी)

इस समय सरकार देश की विकास दर में 6 साल की सबसे बड़ी गिरावट से जूझ रही है जिसे देखते हुए विरोधी दलों के अलावा स्वयं सत्तारूढ़ भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी और रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन भी मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना कर चुके हैं। और अब केंद्रीय...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ब्रेक्जिट: उलझन सुलझे ना! (प्रभात खबर)

उपेंद्र सिंह पूर्व सीनियर मीडिया एडवाइजर, ब्रिटिश उच्चायोग कमजोर नेतृत्व और अदूरदर्शी निर्णय का शिकार ब्रिटेन इस समय एक कठिन दौर से गुजर रहा है. आगामी 31 अक्तूबर, 2019 को यूरोपीय संघ से ब्रिटेन अलग हो जायेगा. जून 2017 में सत्ता संभालनेवाली कंजर्वेटिव पार्टी सरकार के तीसरे प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के इस समय के तेवर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register