Day: September 21, 2019

FM’s move a boost for India’s tax competitiveness (Livemint)

Hitesh D. Gajaria In one stroke, India undertook possibly the most radical tax cuts in its history. While corporate tax rates in the low 20s are increasingly becoming the norm globally, a nearly 10% percentage point cut in the rate for Indian companies is revolutionary. The peak corporate tax rate was cut from 30% to...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नये रुझानों का साक्षी बनता बिहार (प्रभात खबर)

केसी त्यागी प्रधान महासचिव, जदयू विगत लोकसभा चुनावों के नतीजों ने बिहार में कई मिथक तोड़े हैं. एक तरफ जहां मतदाताओं ने राष्ट्रीय सवालों के प्रति संवेदनशीलता का परिचय दिया है, तो वहीं दूसरी तरफ नये परिवर्तनों की चाहत के लिए नयी जिज्ञासाएं भी पनपी हैं. सात अगस्त, 1990 को जब वीपी सिंह मंडल कमीशन...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय: असफलताएं सिखाती हैं (जनसत्ता)

चंद्रयान-2 मिशन को पूरी तरह विफल कहना उचित नहीं होगा। यह अंतरिक्ष मिशन काफी हद तक कामयाब रहा है। इसलिए इस मुकाम पर जश्न मनाने का मौका नहीं मिला तो इसे लेकर निराश होने का भी कोई औचित्य नहीं है। साथ ही, वैज्ञानिकों को यह समझाने या ढाढ़स बंधाने की भी आवश्यकता नहीं है कि...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय: तालिबान की हिंसा (जनसत्ता)

अफगानिस्तान में राष्ट्रपति चुनाव जैसे-जैसे करीब आ रहे हैं, तालिबान की हिंसा का ग्राफ भी उतनी ही रफ्तार से बढ़ रहा है। पिछले कई दिनों से शायद ही कोई दिन ऐसा गुजरा हो जब आत्मघाती हमलों से अफगानिस्तान के शहर दहल नहीं रहे हों। अस्पताल, सरकारी इमारतें, पुलिस और सुरक्षा बलों के ठिकाने, यहां तक...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय: कानून के हाथ (जनसत्ता)

भारतीय राजनीति में रसूखदार नेताओं का रुतबा किस कदर हावी रहता है, यह अनेक मौकों पर अलग-अलग तरह के मामलों में साबित होता रहा है। बलात्कार के आरोपों के बाद स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी से पहले समूचे जांच दल, प्रशासन और पुलिस तंत्र का ऊहापोह से गुजरना भी यही दर्शाता है कि ऊंचे पद-कद वाली...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

A rural stimulus: On MGNREGA wage hike (The Hindu)

The government’s statistical machinery has begun work on revising the indices that capture the trends in consumer prices experienced in rural India. This opens up the prospect for an upward revision in the wages paid out to workers under the Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MGNREGA). The current national average wage is just...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

A deep cut: On corporate tax cuts (The Hindu)

Finance Minister Nirmala Sitharaman ushered in Deepavali early for Corporate India and the markets on Friday with her announcement of deep cuts in corporate taxes and roll-back of some market-unfriendly proposals in the Budget she presented in July. The move to cut corporate taxes, for which an ordinance has already been issued by the government,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

तेजस की कहानी: रक्षा मंत्री की उड़ान से पूरे देश में गया सकारात्मक संदेश (अमर उजाला)

शांत दीक्षित इसमें कोई संदेह नहीं कि तेजस लड़ाकू विमान पर भारत के रक्षा मंत्री की उड़ान से न केवल भारतीय वायु सेना, बल्कि पूरे देश में बड़े पैमाने पर सकारात्मक संदेश गया है। लेकिन क्या इसका केवल प्रतीकात्मक महत्व है या इससे हमारी लड़ाकू क्षमता की कमियों को दूर करने में मदद मिलेगी? यह...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चंद्रयान के बाद अब गगनयान की राह (दैनिक ट्रिब्यून)

मुकुल व्यास चंद्रयान-2 मिशन भले ही अपने अंतिम पड़ाव में वांछित परिणाम हासिल करने में सफल नहीं हुआ हो लेकिन इससे संपूर्ण मिशन की उपलब्धियां कम नहीं होंगी। इसरो का कहना है कि ऑर्बिटर के रूप में चंद्रयान-2 का 95 प्रतिशत हिस्सा सही सलामत है, सिर्फ 5 प्रतिशत का नुकसान हुआ है। ऑर्बिटर एक साल...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

लोकतंत्र में आलोचना जरूरी है, पर जनप्रतिनिधियों में अनुभव और शालीनता का होना अपरिहार्य है ( दैनिक जागरण)

[ डॉ. एके वर्मा ]: आलोचना लोकतंत्र की आत्मा है। यदि इस आत्मा का स्वरूप विकृत हो जाए तो लोकतंत्र भी विकृत हो जाएगा। आलोचना रचनात्मक होनी चाहिए ताकि विभिन्न संवैधानिक संस्थाओं में ‘अवरोध और संतुलन’ बना रहे तथा सरकार उत्तरदायी, संवेदनशील एवं पारदर्शी हो सके। लोकतंत्र में सत्तापक्ष और विपक्ष, दोनों को जनता चुनती...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register