Day: September 16, 2019

असुरक्षा बोध और आपराधिक न्याय (दैनिक ट्रिब्यून)

क्षमा शर्मा पिछले दिनों बच्चा चोरी और बच्चा उठाने की अफवाहें लगातार फैलती रही हैं। एक जगह से होते हुए अब ये पूरे देश में जा पहुंची हैं। हर रोज ऐसी खबरें आ रही हैं कि लोग किसी को भी बच्चा चोर समझकर पकड़ रहे हैं, पीट रहे हैं। उदाहरण के तौर पर एक औरत...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

‘उत्तम क्षमा’ के समावेश से अभिमान का पराभव (दैनिक ट्रिब्यून)

योगेंद्र नाथ शर्मा ‘अरुण’ आज हम सब जाने क्यों, संस्कारों से दूर होकर भौतिकता के जाल में फंसते जा रहे हैं। भौतिकता का ऐसा बुरा प्रभाव हमारे आचरण और चिंतन पर पड़ता जा रहा है कि हमारे भीतर की सहनशीलता के साथ-साथ हमारी विनम्रता भी धीरे-धीरे समाप्त होती जा रही है। हमारे भीतर अभिमान का...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

निजता और नियंत्रण (नवभारत टाइम्स)

सुप्रीम कोर्ट ने आधार को सोशल मीडिया प्रोफाइल से लिंक करने के मामले में केंद्र सरकार से 24 सितंबर तक जवाब मांगा है। उसने यह जानना चाहा है कि सोशल मीडिया को नियंत्रित करने के लिए सरकार के पास क्या योजना है। उसने यहां तक टिप्पणी की कि अगर सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

गुमराह करते इमरान (राष्ट्रीय सहारा)

पाकिस्तान में प्रधानमंत्री इमरान खान को दुर्भाग्यशाली मानने वालों की संख्या बढ़ रही है। 5 अगस्त से वे जो कुछ बोल रहे हैं, उससे उनके मानसिक असंतुलन का पता चलता है किंतु उसके पीछे रणनीति होती है। यह बात अलग है कि उनकी सारी रणनीति उल्टी पड़ रही है। अभी रूस के चैनल आरटी को...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

इसलिए जरूरी है समान नागरिक संहिता: देश में एक ही विषय पर दो कानूनी विकल्पों का कोई औचित्य नहीं (दैनिक जागरण)

[ हृदयनारायण दीक्षित ]: हम भारत के लोग’ भारतीय राष्ट्र राज्य की मूल इकाई हैं। संविधान की उद्देशिका ‘हम भारत के लोग’ से ही प्रारंभ होती है। इसके अनुसार भारत के लोगों ने ही अपना संविधान गढ़ा है। संविधान निर्माताओं ने प्रत्येक नागरिक को समान मौलिक अधिकार दिए हैं। मूल अधिकार न्यायालय द्वारा प्रवर्तनीय हैं।...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सरकार को सभी पहलुओं पर गौर कर ‘जीरो बजट’ खेती को जमीन पर लाने की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए (दैनिक जागरण)

[ एनके सिंह ]: अपने पहले बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने और फिर बीते सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ‘संयुक्त राष्ट्र मरुस्थलीकरण-प्रतिरोधी कन्वेंशन’ में शामिल देशों के 14वें सम्मेलन में भारत की ‘जीरो बजट’ खेती की योजना का संकल्प दोहराया, लेकिन देश के दर्जनों कृषि वैज्ञानिक इससे उत्साहित नहीं हैं। प्रतिष्ठित...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

विश्व के हर देश के मुसलमानों से अच्छी हालत में हैं भारतीय मुस्लिम, सबक ले पाकिस्तान (दैनिक जागरण)

नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। सूप तो सूप छलनी भी बोले जिसमें 72 छेद। यह छलनी बहुत बड़ी है। हमारे पड़ोस में है। इसका नाम पाकिस्तान है। संस्कृत में एक सूक्ति है- खल: सर्पस-मात्रणि, पर छिद्राणि पश्यंति। आत्मनो बिल्व-मात्रणि, पश्यन् अपि न पश्यंति। यानी दुर्जन या दुष्ट लोगों को सरसों के बीज के समान दूसरों की...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हिंदी को राष्ट्रभाषा के तौर पर स्थापित करना चाहते थे बापू, इन लोगों ने भी निभाई बड़ी भूमिका (दैनिक जागरण)

अनंत विजय, जागरण स्पेशल। हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर दैनिक जागरण के आयोजन में एक सत्र का विषय था- गांधी और हिंदी। इस सत्र में वक्ताओं ने गांधी के हिंदी प्रेम को रेखांकित किया। इस चर्चा में एक बात सामने आई कि गांधी हिंदी को राष्ट्रभाषा के तौर पर स्थापित करना चाहते थे। दरअसल...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पाकिस्तान में सिखों पर हो रहा अन्याय,वैश्विक शक्तियों को निभानी होगी जिम्मेदारी (दैनिक जागरण)

गोबिंद सिंह लोंगोवाल। पाकिस्तान में सिखों और अन्य अल्पसंख्यकों के साथ खुलेआम अन्याय हो रहा है। वहां रहने वाले अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का सरेआम का उल्लंघन हो रहा है। सिखों और हिंदुओं को जबरन धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया जाता है। उनकी लड़कियों का अपहरण कर मर्जी के खिलाफ विवाह करके उनका धर्म परिवर्तन...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मानवाधिकार हनन के मामले में पाकिस्तान से पीछे नहीं है चीन, जुल्मों सितम की लंबी है दास्तां (दैनिक जागरण)

प्रो. पुष्पेश पंत। पकिस्तान को हर राजनयिक मोर्चे पर मुंह की खानी पड़ रही है। कश्मीर के मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की उसकी चाल नाकामयाब रही है, बावजूद इसके कि चीन ने इस साजिश में उसका बराबर का साथ दिया। इसके बाद पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर (अब केंद्र शासित इकाइयों में विभाजित) भूभाग में मानवाधिकारों के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register