Day: August 22, 2019

एफपीआई को बढ़ावा (बिजनेस स्टैंडर्ड)

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने बुधवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) के लिए नियामकीय एवं अनुपालन मानक को शिथिल कर दिया है। बाजार नियामक ने यह आश्वस्ति भी दी है कि वह पार्टिसिपेटरी नोट जारी करने के मानकों को भी तार्किक बनाएगा ताकि एफपीआई के लिए इन उपायों का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

रिजर्व बैंक के गवर्नर का देश की अर्थव्यवस्था पर बयान आर्थिक मंदी की आहट पर मुहर लगाने वाला है (दैनिक जागरण)

रिजर्व बैैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास का यह कथन मंदी की आहट पर मुहर लगाने वाला है कि अर्थव्यवस्था शिथिल पड़ रही है। हालांकि अर्थव्यवस्था की आंतरिक और बाहरी चुनौतियों का जिक्र करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि लोगों को निराशा के सुर में सुर मिलाने की जगह आगे के अवसरों को देखना चाहिए,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ट्रंप की बेसब्री (हिन्दुस्तान)

पता नहीं, यह उनकी अफगानिस्तान में तुरत-फुरत कुछ कर दिखाने की तमन्ना है या कोई और बेसब्री, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आजकल हर दूसरे दिन नया शिगूफा छोड़ रहे हैं। एक दिन वह कहते हैं कि भारत ने उनसे कश्मीर पर मध्यस्थता के लिए कहा है और दूसरे दिन मुकर जाते हैं। दो दिन बाद...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

इस मर्ज की दवा नहीं है आधार (हिन्दुस्तान)

पवन दुग्गल, साइबर कानून विशेषज्ञ सुप्रीम कोर्ट ने लोगों का ध्यान इस महत्वपूर्ण सवाल की तरफ खींचा है कि क्या सोशल मीडिया अकाउंट को आधार से जोड़ा जाना चाहिए? इस प्रस्ताव के समर्थन में सरकार कह रही है कि आधार को सोशल मीडिया के साथ जोड़ने से फर्जी खबरों, साइबर बुलिंग और ट्रोलिंग जैसे अपराधों...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पहचान के उलझे सवाल और एनआरसी (हिन्दुस्तान)

चंदन कुमार शर्मा प्रोफेसर, तेजपुर विश्वविद्यालय, असम अनेक विवादों और उतार-चढ़ाव के बीच असम में ‘नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन’ यानी एनआरसी की प्रक्रिया अपने आखिरी चरण में पहुंच गई है। इसी माह की 31 तारीख को इसे प्रकाशित किया जाएगा। पिछले साल 31 जुलाई को इसका अंतिम मसौदा प्रकाशित किया गया था और इस साल...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सीपीआइ का पहला दलित महासचिव (प्रभात खबर)

कुर्बान अली वरिष्ठ पत्रकार भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआइ) के लगभग सौ वर्षों के इतिहास में पहली बार उसे एक दलित महासचिव मिला, जब विगत 21 जुलाई को दोराईसामी राजा सीपीआई के महासचिव बनाये गये. इसे एक इत्तेफाक कहा जाये या विचित्र संयोग कि समाजवाद, प्रोलेतेरियत (सर्वहारा) का अधिनायकवाद, लोकतंत्र और आजादी के बाद भारत के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीयः असुरक्षित मिग 21 (जनसत्ता)

भारत के वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने एक बार फिर मिग-21 विमानों के इस्तेमाल को लेकर जो चिंता व्यक्त की है, उससे यह साफ है कि ये विमान अब किसी भी रूप में सुरक्षित नहीं रह गए हैं। इसीलिए उन्हें यह कहना पड़ा है कि इतनी पुरानी तो हम कार भी नहीं चलाते हैं जितने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीयः अंधविश्वास की जकड़न (जनसत्ता)

इक्कीसवीं सदी के इस दौर में हम वैज्ञानिक उपलब्धियों के जरिए मंगल और चांद पर शोध की जो नई ऊंचाइयां हासिल कर रहे हैं, उसे दुनिया भर में एक बड़ी कामयाबी के तौर पर देखा जा रहा है। मगर इसी के समांतर जब अंधविश्वास में डूबी गतिविधियों की खबर मिलती है तो निश्चित रूप से...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सीएसआर स्वैच्छिक हो (प्रभात खबर)

अजीत रानाडे सीनियर फेलो, तक्षशिला इंस्टीट्यूशन संभवतः भारत एकमात्र ऐसा देश है, जहां लाभप्रद कंपनियों के लिए अनिवार्य है कि वे अपने टैक्स चुकाने के बाद लाभ का दो प्रतिशत ‘कॉरपोरेट सामाजिक जिम्मेदारियों’ (सीएसआर) पर व्यय करें. यह प्रावधान वर्ष 2013 के नये कंपनी कानून के अंतर्गत आया, जिसने सत्तावन साल पुराने वर्ष 1956 के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

खतरे का बिगुल (नवभारत टाइम्स)

अमेरिका ने जमीन से जमीन पर मार करने वाली नई क्रूज मिसाइल टोमाहॉक का परीक्षण करके दुनिया की चिंता बढ़ा दी है। सोमवार को पेंटागन ने कहा कि रविवार को कैलिफॉर्निया के सैन निकोलस द्वीप पर 500 किलोमीटर मारक क्षमता वाली मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया। इस पर रूस और चीन ने कड़ी प्रतिक्रिया...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register