Day: August 14, 2019

बढ़ी फीस की टीस (दैनिक ट्रिब्यून)

हाल ही में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई ने दसवीं व बारहवीं के बोर्ड परीक्षा शुल्क में अप्रत्याशित वृद्धि की है, जिससे निर्बल वर्गों के अभिभावकों में भारी रोष व्याप्त है। निस्संदेह बोर्ड का निर्णय और उससे जुड़ी दलीलें चौंकाने वाली हैं। एक ओर बोर्ड कह रहा है कि पिछले पांच सालों से फीस...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चीन को खरी-खरी (राष्ट्रीय सहारा)

भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर इस साल दोनों देशों के प्रमुखों के बीच होने वाली शिखर वार्ता की तैयारी के सिलसिले में चीन पहुंचे, तो उसने भारत के साथ कश्मीर का मसला उठा दिया। इस पर भारतीय विदेश मंत्री ने उसे दो टूक जवाब दे दिया। यह सही भी है कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दरजा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हॉन्ग कॉन्ग का हंगामा (नवभारत टाइम्स)

हॉन्ग कॉन्ग में कोई दो महीने से लाखों लोग सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं। सोमवार को प्रदर्शनकारियों ने हॉन्ग कॉन्ग हवाई अड्डे पर विमानों का परिचालन ठप कर दिया जिससे दुनिया भर में सनसनी फैल गई। वहां हंगामे की जड़ में है प्रत्यर्पण विधेयक, जिसमें प्रावधान है कि अगर कोई व्यक्ति चीन में अपराध...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मोदी-शाह के ऐतिहासिक काम का आजाद भारत के इतिहास में दूसरा उदाहरण मिलना कठिन है (दैनिक जागरण)

[ प्रदीप सिंह ]: कुशल और सफल नेतृत्व के बारे में चाणक्य ने कहा है, ‘जब किसी काम को करना शुरू करो तो असफलता से मत डरो और उसे छोड़ो मत। शासक के अंदर असफलता का डर नहीं होना चाहिए। काम करते रहो परिणाम की चिंता मत करो।’ जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 और 35-ए हटाते...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

उदारता और समावेशी होने से बढ़ेंगी हिंदी, सरकार को इस दिशा में करना होगा काम (दैनिक जागरण)

[अनंत विजय]। भाषा का प्रश्न हमारे देश में रह-रहकर उठता रहता है। यहां भाषा हमेशा से संवेदनशील मुद्दा रहा है। भाषा के सवाल पर देश ने आजादी के बाद हिंसा भी देखी है। अभी हाल ही में नई शिक्षा नीति के ड्राफ्ट में हिंदी को प्रमुखता देने की एक खबर से ये विवाद फिर से...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मोदी-शाह का ऐतिहासिक फैसला: निर्णायक फैसले लेने वाले नेताओं को ही सलाम करती है दुनिया (दैनिक जागरण)

[ संजय गुप्त ]: मोदी सरकार ने एक ऐतिहासिक फैसला लेते हुए जम्मू-कश्मीर संबंधी अनुच्छेद 370 और 35-ए को हटाने का जो फैसला किया उससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गृहमंत्री अमित शाह की छवि एक मजबूत और निर्णायक फैसले लेने वाले नेता के तौर पर उभरी है। यह अफसोस की बात है कि कांग्रेस...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

रिजर्व बैंक ने कई बार ब्याज दरों में कटौती की, लेकिन भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार नहीं हुआ (दैनिक जागरण)

[ डॉ. भरत झुनझुनवाला ]: फिलहाल दुनिया भर में ब्याज दरें घटाने की होड़ चल रही है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व पर दबाव बना रखा है कि हाल में की गई कटौती को जारी रखते हुए आगे भी ब्याज दरें घटाने पर काम करें। न्यूजीलैंड, थाईलैंड और भारत के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अनुच्छेद 370 खत्म करने के मोदी सरकार के निर्णय पर संवैधानिक वैधानिकता को लेकर सवाल उठ रहे हैं (दैनिक जागरण)

[ अश्विनी कुमार ]: मोदी-शाह की जोड़ी ने एक बड़ा दांव खेला है। मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 समाप्त करते हुए राज्य को केंद्रशासित प्रदेशों में बांट दिया है। सरकार ने कश्मीरी लोगों के लिए शांतिपूर्ण एवं समृद्ध भविष्य का वादा करते हुए यह कदम उठाया। अब यह इतिहास ही तय करेगा कि सरकार...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

गांधीजी के मूल्यों को भुलाने से ही अपरिग्रह की संस्कृति आज संग्रह की धारा बनकर क्षति पहुंचा रही है (दैनिक जागरण)

[ जगमोहन सिंह राजपूत ]: एक दिन बाद हम आजादी की वर्षगांठ मनाएंगे। इस अवसर पर स्वत्रंतता दिलाने वाले सेनानियों का स्मरण भी स्वाभाविक रूप से किया जाएगा। यह भी एक संयोग है कि इस वर्ष दो अक्टूबर को आजादी के सबसे बड़े नायक माने जाने वाले महात्मा गांधी के जन्म के 150 वर्ष पूरे...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा को चाक-चौबंद रखने का उद्देश्य आतंकियों के मंसूबों को नाकाम करना है (दैनिक जागरण)

सुप्रीम कोर्ट ने यह बिल्कुल सही कहा कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा को लेकर लगाए गए प्रतिबंधों को हटाने के लिए केंद्र सरकार को वक्त मिलना चाहिए, क्योंकि इस राज्य के हालात संवेदनशील हैैं। कोर्ट की इस टिप्पणी और याचिकाकर्ता को लगाई गई फटकार से उन लोगों को जवाब मिल जाना चाहिए जो अनुच्छेद 370 की...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register