Day: August 10, 2019

बाघ बचाने की एक कामयाब पहल (दैनिक ट्रिब्यून)

ले. जनरल ( रिटायर्ड ) बलजीत सिंह प्राणी जगत में बिल्ली प्रजाति के जंतुओं में सबसे करिश्माई नस्ल की उपाधि ‘चार बड़ी बिल्लियों’ ने अर्जित की है, जिनमें सिंह, बाघ, तेंदुआ और चीता आते हैं। किसी एक देश में यह चारों एक ही कालखंड में शायद ही कभी मौजूद थे। अपनी उत्पत्ति के मूल स्थान...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जमीन का टुकड़ा भर नहीं, बल्कि सांस्कृतिक और आध्यात्मिक पृष्ठभूमि का भूखंड था कश्मीर (दैनिक जागरण)

[ नीरजा माधव ]: पांच अगस्त, 2019 का दिन भारत के लिए 1947 में मिली आजादी से कम महत्व नहीं रखता। इस दिन अनुच्छेद 370 और 35ए के रूप में कश्मीर को मिले विशेष राज्य का दर्जा और कुछ विशेष अधिकार को समाप्त करने की निर्णायक पहल हुई। ये अधिकार कश्मीर को भारत से अधिक...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीयः उम्मीदें और चुनौतियां (जनसत्ता)

जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 से लगभग मुक्त कर दिए जाने के बाद गुरुवार को प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम संदेश में भविष्य का जो खाका पेश किया और विकास के लिए जिन कार्य योजनाओं का जिक्र किया, वे इस बात की ओर इशारा करती हैं कि जम्मू-कश्मीर का भविष्य अब उज्ज्वल है। प्रधानमंत्री के संबोधन...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Article 370 पर मोदी के फैसले से हतास पाक छल-कपट से घाटी में हालात बिगाड़ने की फिराक में (दैनिक जागरण)

जम्मू-कश्मीर संबंधी अनुच्छेद 370 एवं 35-ए हटाने और राज्य का पुनर्गठन करने के बाद जब इसकी हर संभव कोशिश हो रही है कि घाटी में अमन-चैन का माहौल कायम हो तब पाकिस्तान वहां के हालात बिगाड़ने में जुटा हुआ है। स्पष्ट है कि उससे सतर्क रहने की जरूरत है। यह जरूरत इसलिए और बढ़ गई...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीयः सड़क पर हिंसा (जनसत्ता)

सड़क पर लापरवाही से वाहन चलाने से हुए हादसों से इतर मामूली बात पर हिंसा के रूप में एक समस्या दिनोंदिन गंभीर होती जा रही है, जिसमें आए दिन किसी के साथ मारपीट या फिर हत्या तक कर देने के मामले सामने आ रहे हैं। बुधवार रात देश की सबसे बड़ी स्टील कंपनी भारतीय इस्पात...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीयः उम्मीदें और चुनौतियां (जनसत्ता)

जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 से लगभग मुक्त कर दिए जाने के बाद गुरुवार को प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम संदेश में भविष्य का जो खाका पेश किया और विकास के लिए जिन कार्य योजनाओं का जिक्र किया, वे इस बात की ओर इशारा करती हैं कि जम्मू-कश्मीर का भविष्य अब उज्ज्वल है। प्रधानमंत्री के संबोधन...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

More action points on climate change (The Economic Times)

What we eat has a direct bearing on worsening or easing climate stress. More meat means more stress. This must inform policy and personal conduct, according to a new report by the UN-backed science body, Intergovernmental Panel on Climate Change (IPCC). Growing human pressure has been eroding the capacity of land to provide food, fresh...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Curious case of dog that hasn’t barked (The Economic Times)

Why is the regulator of auditors, National Financial Reporting Authority (NFRA), silent on penal action against allegedly errant auditors? The ministry of corporate affairs has erred in asking the National Company Law Tribunal to freeze the assets of Deloitte and BSR, former auditors of Infrastructure Leasing & Financial Services subsidiary IFIN. Penalising audit firms in...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

दो दोस्तों का यूं चले जाना (हिन्दुस्तान)

एम वेंकैया नायडू, उप-राष्ट्रपति, भारत महज दस दिनों के भीतर दो बेहतरीन दोस्त एस जयपाल रेड्डी और सुषमा स्वराज का निधन मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है। ये दोनों मेरे सगे भाई-बहन की तरह थे। जयपाल बड़े भाई की तरह और सुषमा छोटी बहन के समान। दोनों आज के समय के कुछ बेहतरीन सांसदों, योग्य प्रशासकों...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संबोधन की रोशनी हिन्दुस्तान)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्र के नाम संदेश जितना सामयिक था, उतना ही आवश्यक भी था। जब देश बड़े बदलाव के मोड़ पर है, तब सरकार को सावधानियों में रत्ती भर कमी भी नहीं छोड़नी चाहिए। प्रधानमंत्री द्वारा किया गया संवाद भी एक सावधानी है, जिसकी आने वाले दिनों में बार-बार जरूरत पड़ेगी। जम्मू-कश्मीर से...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register