Day: August 5, 2019

हथियारों की नई दौड़ (नवभारत टाइम्स)

आइएनएफ ट्रीटी हालांकि सोवियत संघ और अमेरिका के बीच हुई थी लेकिन उसके समाप्त होते ही कई देश अंतरिक्ष सैन्यीकरण के कार्यक्रम घोषित करने लगे हैं। इससे लगता है कि अगला दशक हथियारों की होड़ के एक नए दौर का गवाह बनने वाला है। शीतयुद्ध के तनाव वाले माहौल से दुनिया को शांति और सहअस्तित्व...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

बदल रही मेडिकल शिक्षा (नवभारत टाइम्स)

एक तरफ नैशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) बिल के कानून बनने का रास्ता साफ हो गया है, दूसरी तरफ इसके खिलाफ डॉक्टरों का विरोध प्रदर्शन भी बढ़ता जा रहा है। भारी विरोध के बीच गुरुवार को राज्य सभा में यह बिल पास हो गया जबकि लोकसभा में यह 29 जुलाई को ही पास हो गया था।...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

पैरों तले जमीन की तलाश को लेकर निर्वासित साहित्यकार की दर्द भरी कहानी सुनकर रह जाएंगे दंग (दैनिक जागरण)

[ तसलीमा नसरीन ]: तकरीबन 25 साल पहले मुझे मेरे मुल्क बांग्लादेश से मेरी ही सरकार ने बाहर कर दिया था। क्या मैंने चोरी, डकैती, कत्ल, दुष्कर्म या कोई अपराध किया था? नहीं। मैंने सिर्फ किताबें लिखीं। उन किताबों में लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता, मानवता, मानवाधिकार और नारी के समान अधिकारी होने की बातें लिखी थीं। हर...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

अयोध्या मामले में शीर्ष अदालत ने संवाद का अंतिम अवसर दिया, लेकिन उससे कुछ हासिल नहीं हुआ (दैनिक जागरण)

[ हृदयनारायण दीक्षित ]: अस्तित्व सत्य है। सत्य अस्तित्व का रस है। सत्य का रस वाणी है। वाणी का रस संवाद है। संवाद वाणी का छंद है। संवाद सत्य प्राप्ति का अधिष्ठान है। संवाद ही निष्कर्ष तक ले जाने वाला माध्यम है। श्रीराम जन्मभूमि मंदिर को लेकर वास्तविक संवाद नहीं हुआ। बाबर द्वारा मंदिर गिरवाने...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

अर्थव्‍यवस्‍था में सुस्‍ती का निदान: उद्योग-व्यापार जगत का मनोबल बढ़ाना और दो नंबर की अर्थव्यवस्था पर नियंत्रण (दैनिक जागरण)

[ संजय गुप्त ]: लोकसभा चुनावों में भाजपा की बड़ी जीत का कारण केवल कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों की कमजोरी ही नहीं थी, बल्कि देश की जनता और खासकर निर्धन तबके के साथ-साथ निम्न-मध्यम और मध्य वर्ग का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भरोसा था। यह भरोसा मोदी सरकार की ओर से पांच साल में...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

असम को लेकर जागी सरकार, देश के हर नागरिक और निवासी की पहिचान करेगा एनआरसी और एनपीआर (दैनिक जागरण)

एक ऐसे समय जब असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर यानी एनआरसी पर काम हो रहा है तब राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर अर्थात एनपीआर की तैयारी स्वागतयोग्य है। यह काम इसलिए होना चाहिए ताकि उन हालात से बचा जा सके जिनसे आज असम दो-चार हो रहा है। जहां एनआरसी यह बताएगा कि कौन देश का नागरिक है...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

That bear growl (Livemint)

It has been a tough Monday for equity markets, with bears tightening their grip, even as security concerns at home and the trade war overseas looked poised to escalate. The Sensex slumped more than 1%, and the rupee slid likewise against the dollar. Part of the fall was due to the tense situation in Jammu...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

जरूरी था तीन तलाक का खात्मा (प्रभात खबर)

भूपेंद्र यादव भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री और राज्यसभा सदस्य तीन तलाक जैसी असंवैधानिक और अमानवीय कुप्रथा अब अतीत हो चुकी है. संसद से पारित होने और राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद मुस्लिम समाज में व्याप्त यह अमानवीय प्रथा अब अपराध की श्रेणी में आ चुकी है. बीते 31 जुलाई की सुबह महिलाओं के सम्मान और...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

सामाजिक ताना-बाना बनाये रखें (प्रभात खबर)

आशुतोष चतुर्वेदी प्रधान संपादक, प्रभात खबर जब किसी के सर्विस के मामले में धार्मिक आधार पर फैसला किया जाने लगे, तो निश्चित रूप से यह गहरी चिंता का विषय है. इसे एक महज एक अलग-थलग घटना मान कर नजरअंदाज किया जाना उचित नहीं है. इसमें छुपे संकेत देश के लिए ठीक नहीं हैं. पिछले दिनों...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

भावनाओं से खेलता (एंटी) सोशल मीडिया कब खिलवाड़ कर जाएगा पता ही नहीं! (पत्रिका)

सोशल मीडिया में रोजाना हजारों वीडियो वायरल होते हैं। इनमें आधे से ज्यादा पुराने या फेब्रीकेटेड होते हैं। भारतीय समाज में भी सोशल मीडिया का सुरूर छाया हुआ है। नई-पुरानी दोनों पीढ़ी पर नशा बराबर चढ़ा है। लोग आगे-पीछे कुछ नहीं सोचते। वीडियो की सच्चाई कोई नहीं जानना चाहता। कुछेक लोग इसकी पड़ताल करते हैं,...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register