Month: August 2019

पसोपेश में पाकिस्तान और बढ़ते तनाव के बीच उम्मीद की किरण (अमर उजाला)

मरिआना बाबर बगीचे में जाकर ही लोगों को बदलते मौसम का एहसास होता है। रावलपिंडी को हिला देने वाली आखिरी बारिश हवा में नमी लेकर आई थी और जैसे ही आसमान साफ हुआ, तो हर सुबह घास पर ओस की बूंदें नजर आने लगी हैं। मोगरे के पौधों में अब फूल कम हो गए हैं।...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

गांवों से पलायन में निरंतर वृद्धि से बढ़ी सरकार की चिंता, चलाया ‘बैक टु विलेज’ कार्यक्रम (अमर उजाला)

गोविंद सिंह गांवों को हमने हमेशा भारत की सभ्यता-संस्कृति का केंद्र समझा। इसमें कोई दो राय नहीं कि वे आज भी भारतीय संस्कृति के वाहक हैं। लेकिन आजादी के बाद उनकी लगातार उपेक्षा होती रही है। शहर की तुलना में गांवों की सुख-सुविधाएं लगातार कम होती रहीं। नतीजा यह रहा कि आज गांव खाली हो...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ट्राई के एक और परामर्श पत्र से टेलीविजन उद्योग में खीझ (बिजनेस स्टैंडर्ड)

वनिता कोहली-खांडेकर तकरीबन 74,000 करोड़ रुपये का भारतीय प्रसारण उद्योग राहत की सांस ले ही रहा था कि नियामक की ओर से एक और बाधा सामने आ गई। गत 16 अगस्त को ट्राई ने ‘प्रसारण एवं केबल सेवाओं के शुल्क संबंधी मुद्दों पर मशविरा पत्र’ जारी किया। अभी कुछ ही महीने पहले फरवरी में एनटीओ...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आयुध कारखाने मजबूत बनाने की कवायद (बिजनेस स्टैंडर्ड)

लक्ष्मण कुमार बेहड़ा सरकार ने साहसिक कदम उठाते हुए देशभर में 41 आयुध कारखानों का संचालन करने वाले आयुध कारखाना बोर्ड (ओएफबी) को कंपनी में तब्दील करने का प्रस्ताव रखा है। इन कारखानों में 82,000 से भी अधिक कर्मचारी काम करते हैं। इनके श्रम संगठनों को सरकार का यह फैसला रास नहीं आया जिसके बाद...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बहस में बदलाव? (बिजनेस स्टैंडर्ड)

टी. एन. नाइनन बहुत लंबे समय से यह कहा जाता रहा है कि देश के राजनेता व्यवस्थित आर्थिक सुधार की तरफ तभी बढ़ते हैं जब कोई संकट आसन्न होता है। बीते सप्ताह एक बार फिर यह बात सही साबित होती दिखी। इसके अलावा संभवत: अरुण शौरी ने कहा था कि मोदी सरकार के लिए अर्थव्यवस्था...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

India needs a few more big banks (The Economic Times)

The merger of 10 public sector banks into four large ones deserves a qualified welcome. With greater segmentation of credit and different kinds of banks catering to different customer classes — small finance banks, regional banks, a healthier set of non-banking financial companies and fintech serving the small borrower — India can do with a...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

The bad economic news we all suspected (The Economic Times)

If you are looking around for a silver lining to growth plummeting to 5% in the first quarter of 2019-20, it is that the government is clearly not trying to hide the bad economic news. Between April and June 2019, the first quarter of this fiscal year, the economy crawled at 5%, compared to 8%...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

एक और चुनौती (हिन्दुस्तान)

राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) से उपजी चिंताओं का यथोचित समाधान न केवल असम, बल्कि पूरे देश के लिए आवश्यक है। इस समाधान में सबसे प्राथमिक है, शांति और सद्भाव कायम रखना। कानून लागू करने वाली एजेंसियों को ध्यान रखना चाहिए कि देश विवाद और हिंसा के किसी नए मोर्चे को झेलने की स्थिति में नहीं...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मिसाइल का निशाना (हिन्दुस्तान)

एक तरह से देखा जाए, तो पाकिस्तान में हुए गजनवी मिसाइल के परीक्षण की खबर में कुछ भी नया नहीं है। साल 2002 में यह मिसाइल पहली बार तैयार हुई थी, इसका पहला परीक्षण भी तभी हो गया था। अगले साल इसका दूसरा परीक्षण हुआ और 2004 में जब इसका तीसरा परीक्षण सफल रहा, तो...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नरेंद्र मोदी के जायद मेडल से सम्मानित होने के मायने (हिन्दुस्तान)

अनिल बलूनी, राज्यसभा सदस्य कुछ सम्मान सबसे अलग होते हैं। संयुक्त अरब अमीरात द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सवार्ेच्च नागरिक सम्मान ‘जायद मेडल’ से सम्मानित करना कई तरह से महत्वपूर्ण है। यहां यह भी देखना होगा कि इसके साथ ही बहरीन ने भी खाड़ी देशों के साथ मित्रता को मजबूत करने और द्विपक्षीय संबंधों को...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register