Day: July 18, 2019

पाकिस्तान में बंद कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में भारत को मिली बड़ी जीत (दैनिक जागरण)

पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में बंदी भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का फैसला भारत को एक बड़ी राहत देने वाला है। यह न्यायालय बहुमत से इस नतीजे पर पहुंचा कि एक तो कुलभूषण जाधव को राजनयिक मदद मिलनी चाहिए और दूसरे, पाकिस्तान को उन्हें सुनाई गई सजा की समीक्षा करनी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

जल-संवाद की जरूरत (प्रभात खबर)

मनींद्र नाथ ठाकुर एसोसिएट प्रोफेसर, जेएनयू आज दुनियाभर में जब पानी की कमी हो रही है, बिहार में पानी की बहुतायत का संकट है. हर साल की तरह एक बार फिर बिहार का लगभग आधा हिस्सा बाढ़ की चपेट में है. जान-माल की भारी क्षति सीधे तौर पर जितनी होती है, उससे कहीं ज्यादा इसका...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीयः पितृसत्ता की जंजीरें (जनसत्ता)

जिस दौर में देश की लड़कियों ने लगातार नई ऊंचाइयां छूकर यह बताया है कि अगर उन्हें जंजीरों में नहीं जकड़ा जाए तो वे हर क्षेत्र में अपनी क्षमताएं साबित कर सकती हैं, उसमें उन्हें मोबाइल के इस्तेमाल से रोकना और उन पर सामाजिक जड़ परंपराओं को ढोने का बोझ लादना बेहद अफसोसजनक है। गुजरात...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीयः प्रधानमंत्री की नसीहत (जनसत्ता)

संसद सत्र के दौरान मंत्रियों और सांसदों के सदन से गैरहाजिर रहने की प्रवृत्ति वाकई चिंताजनक है। हालांकि हमारे जनप्रतिनिधियों के बीच यह चलन कोई नया नहीं है। ऐसा किसी एक पार्टी में नहीं, बल्कि सारे दलों में देखने को मिलता है। इसीलिए पार्टी अध्यक्षों, सदन के अध्यक्ष और सभापति की ओर से कई बारयह...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

एनआईए पर सियासत की बजाय इसे पेशेवर और सम्मानित एजेंसी बनाया जाए (अमर उजाला)

हर्ष कक्कड़ राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का गठन मुंबई में हुए आतंकी हमले (26/11) के बाद 2008 के एनआईए एक्ट के तहत किया गया था। शुरू में इसकी मुख्य भूमिका भारत में आतंकी घटनाओं की जांच करना थी और इसे केंद्रीय स्तर के आतंकवाद विरोधी कानूनों की प्रवर्तन एजेंसी के रूप में नामित किया गया...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

निर्यात की समस्या (बिजनेस स्टैंडर्ड)

मध्यम अवधि में देश की अर्थव्यवस्था को झटका देने वाला एक और वाकया सामने आया है। इस सप्ताह जारी आंकड़ों के मुताबिक निर्यात वृद्धि 41 महीनों के न्यूनतम स्तर पर पहुंच चुकी है। केंद्रीय उद्योग एवं वाणिज्य मंत्रालय के मुताबिक मई में मामूली बढ़ोतरी के बाद जून 2019 में निर्यात सालाना आधार पर 9.7 फीसदी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

बजट का ‘स्वदेशी’ राग वैश्विक आकांक्षा में दाग (बिजनेस स्टैंडर्ड)

श्याम सरन ऊंची महत्त्वाकांक्षा रखना अच्छी बात है और भारतीय अर्थव्यवस्था को वर्ष 2024 तक पांच लाख करोड़ डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य स्वागतयोग्य है। यह लक्ष्य हासिल भी किया जा सकता है। इसके लिए जरूरी चीजें पहले से मौजूद हैं। भले ही भारत की जनसंख्या लंबे समय तक अपने सर्वाधिक उत्पादक स्वरूप में न...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Victory for India, respite for Jadhav (The Economic Times)

The ruling by the International Court of Justice (ICJ) in the Kulbhushan Jadhav case is a substantial victory for India. In a 15:1 ruling, the court said that Pakistan is obligated to grant Jadhav consular access and directed Islamabad to stay his execution so as to carry out effective review and reconsideration of Jadhav’s conviction...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Deploy insurance to buttress safety (The Economic Times)

The collapse of a decades-old four-storey building in Mumbai that has, so far, claimed 14 lives and left many injured was a tragedy waiting to happen. This is the second building collapse in Mumbai in less than 10 days, after heavy rains that often destabilise dilapidated structures. Accidents of this kind can happen anywhere in...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

व्यवहारात्मक अर्थशास्त्र और उसकी सफलता के उदाहरण (बिजनेस स्टैंडर्ड)

श्यामल मजूमदार इस माह के शुरू में जारी आर्थिक समीक्षा में जब पूरा एक हिस्सा व्यवहारात्मक अर्थशास्त्र को समर्पित किया गया तो यह विषय अचानक चर्चा में आ गया। समीक्षा में बताया गया कि कैसे लोगों की चयन की आजादी बरकरार रखते हुए भी उन्हें वांछित परिणाम की ओर ले जाया जा सकता है। समीक्षा...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register