Day: July 13, 2019

शांति की दिशा में (नवभारत टाइम्स)

अफगानिस्तान सरकार, तालिबान और अफगान समाज के कुछ अन्य प्रतिनिधियों में अपने देश के भविष्य का एक खाका तैयार करने पर सहमति बन गई है। तालिबान हिंसात्मक गतिविधियां कम करने के लिए राजी हो गए हैं। कतर की राजधानी दोहा में हुई दो दिवसीय वार्ता के बाद मंगलवार को एक संयुक्त घोषणा पत्र जारी किया...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

सड़क और सुरक्षा (नवभारत टाइम्स)

यमुना एक्सप्रेस-वे पर सोमवार की भोर में हुए भीषण बस हादसे में 29 लोगों की मौत अत्यंत दुखदायी है। यूपी रोडवेज की एक डबल डेकर बस लखनऊ से दिल्ली जा रही थी। बीती रात में वह सड़क छोड़कर 40 फीट गहरे नाले में जा गिरी। शुरुआती जांच में पता चला है कि ड्राइवर को झपकी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

बजट में किसान – कैसे दोगुनी होगी आय? (राष्ट्रीय सहारा)

आनन्द किशोर आम बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि उनकी सरकार का हर काम एवं प्रत्येक योजना के केंद्र में गांव, गरीब और किसान होते हैं। उन्होंने ग्रामीण सड़कों के लिए वित्तीय वर्ष 2019-20 में 19 हजार करोड़ खर्च करने, सोलर ऊर्जा और कृषि कचरे का उपयोग कर किसानों को...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Boys like Kabir Singh (The Indian Express)

Written by Amrita Dutta If you have grown up on good, bad and awful Hindi films, you would be familiar with some basic rules of engagement. Girl meets boy. He woos, she shrinks. He sings, she stomps. He lands up at her door, follows her in college corridors, stalks her on streets with his gang...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Maximise revenue, minimise tax (The Indian Express)

Written by Surjit S Bhalla, Karan Bhasin Budget 2019-20 contained major tax changes to direct taxes, both personal and corporate. It may have been the last time that we witnessed such changes. Very likely, when Budget 2020-21 is presented, the government would have accepted the direct tax code report, and direct taxes will go the...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Hazards of Identity (The Indian Express)

Written by Khaled Ahmed The 21st century has hardly begun and the great promise of globalisation and “liberal inclusion” of the last century is fading. The world’s powerful states, heretofore wedded to internationalism, are turning inward and seeking their primeval identities. Nations are seeking identities away from multiculturalism and wish to protect themselves by banning...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

No road to the $5 trillion economy (The Indian Express)

Written by Partha Mukhopadhyay The NDA government has announced its intention to invest Rs 100 lakh crore in infrastructure over the next five years. If we grow at 12 per cent in current prices, as has been assumed in the Union Budget, the cumulative GDP over the five-year period would be about Rs 1,350 lakh...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

A statistical misadventure (The Indian Express)

(Written by Davendra Verma) An article on the overestimation of GDP in India by Arvind Subramanian (‘New evidence for fresh beginnings’, IE, June 12) has received widespread criticism. Subramanian is a former CEA, an insider. He is not just any individual or economist. He should have been more careful before bringing out a working paper...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

सामाजिक दरारें पाटनी हों तो धर्म विशेष के लोगों पर हुए हमलों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश नहीं किया जाना चाहिए (दैनिक जागरण)

[ अद्वैता काला ]: सोशल मीडिया पर एक अजीब किस्म की होड़ चल पड़ी है। इसमें एक धर्म विशेष के लोगों पर हुए हमलों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जाता है। पिछले कुछ समय से ऐसा नियमित रूप से हो रहा है। इससे सामाजिक दरारें और चौड़ी होती हैं और सिवाय नफरत के कुछ हासिल नहीं...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

जीएसटी के दो साल के सफर में राजस्व में न तो उल्लेखनीय वृद्धि हुई और न ही ढांचागत सुधार हुआ (दैनिक जागरण)

[ सुशील कुमार मोदी ]: जीएसटी पर अमल के दो वर्ष पूरे होने पर अब तक हुई प्रगति और आने वाले सुधारों की रूप-रेखा पर नजर डालने का यह उचित समय है। जीएसटी इस उम्मीद के साथ लागू किया गया था कि यह नई कर व्यवस्था एक ओर जहां सरकार के राजस्व में वृद्धि करेगी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register