Day: July 1, 2019

सुरक्षित सफर (दैनिक ट्रिब्यून)

निस्संदेह सड़क यातायात से जुड़े जितने भी कानून बनाये जाते हैं, उनका मकसद यही होता है कि यात्रियों का सफर सुरक्षित रहे ताकि घर लौटने वाले की प्रतीक्षा कर रहे व्यक्ति के घर वालों को फिक्र न करनी पड़े। भारत में हर साल डेढ़ लाख निर्दोष लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाते हैं और साढ़े...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बाजारवादी पर्यटन से बचने की जरूरत (दैनिक ट्रिब्यून)

सुरेश सेठ हिमाचल देश के उन पहले राज्यों में से एक है, जिसने पर्यटन को एक उद्योग के रूप में स्वीकार किया। वर्तमान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने जब सत्ता संभाली तो उन्होंने अपने पहले बजट में ही राज्य की आर्थिक दशा सुधारने और इसके खाली खजाने को भरने के लिए पर्यटन से राज्य को होने...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नरमी नदारद (नवभारत टाइम्स)

बतौर गृहमंत्री अमित शाह सबसे पहले जिस राज्य के दौरे पर गए वह जम्मू-कश्मीर है। लोकसभा में जो पहला बिल उन्होंने पेश किया वह भी जम्मू-कश्मीर से संबंधित रहा। इससे यह जरूर साफ होता है कि गृह मंत्रालय की प्राथमिकता सूची में जम्मू-कश्मीर सबसे ऊपर है। लेकिन इस आधार पर यह मान लेना सही नहीं...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

यह शुभ संकेत नहीं है कि यूपीएससी परीक्षा की वर्तमान प्रणाली विविधता को खत्म करने का काम कर रही है (दैनिक जागरण)

[ डॉ. विजय अग्रवाल ]: अब जबकि देश में एक बार फिर से हिंदी एवं क्षेत्रीय भाषाओं के प्रति सकारात्मक विचार एवं संवेदनशीलता रखने वाली मोदी सरकार आ गई है तब यह उम्मीद की जाती है कि भारतीय भाषाओं के उत्थान के लिए सभी आवश्यक कदम भी उठाए जाएंगे। इसकी जरूरत इसलिए महसूस हो रही...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Is India’s economic growth story dehydrating country? (Hindustan Times)

Roshan Kishore In 2010, Aurangabad district in Maharashtra grabbed the headlines when it made the record books for placing the biggest bulk order for Mercedes Benz luxury cars; 65 cars worth ₹150 crore were bought in one go. Today, this district is witnessing a booming demand for a completely different kind of product: water tankers....

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

‘वी.आई.पी.’ ही लुटने लगें तो फिर आम जन ‘किस खेत की मूली हैं’ (पंजाब केसरी)

देश में कानून व्यवस्था का भट्ठा बैठा हुआ है और आम आदमी तो क्या सत्ता प्रतिष्ठान से जुड़े वी.आई.पी. भी अब अपराधी तत्वों के निशाने पर आने लगे हैं। मात्र एक दिन में सामने आई 3 घटनाओं से इसकी पुष्टिï होती है। पहली 2 घटनाएं महाराष्टï्र की हैं जहां 24 जून को कांग्रेस और शिवसेना...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जल संकट का समाधान: बारिश के जल का संरक्षण के लिए जन आंदोलन करना समय की जरूरत (दैनिक जागरण)

प्रधानमंत्री ने दूसरी बार केंद्र की सत्ता संभालने के बाद अपने पहले मन की बात कार्यक्रम के जरिये बिल्कुल सही समय पर यह कहा कि जल संरक्षण के लिए जन आंदोलन शुरू करने की जरूरत है। जल संरक्षण के लिए उन्होंने हर किसी से आगे आने का आग्रह भी किया। इस आग्रह पर ध्यान दिया...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

‘आधुनिक’ और ‘नये’ भारत का अर्थ (प्रभात खबर)

रविभूषण वरिष्ठ साहित्यकार भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पंद्रहवें प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी के भारत-संबंधी ‘आइडिया’ भिन्न है. नेहरू ने 1942-46 में महाराष्ट्र के अहमद नगर फोर्ट में, जेल में रहते हुए ‘भारत एक खोज’ (डिस्कवरी ऑफ इंडिया, 1946) लिखी थी. वे भारत की इतिहास-संस्कृति से सुपरिचित थे. सभी प्रधानमंत्रियों में कहीं...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हमें भीड़ तंत्र से बचना होगा (प्रभात खबर)

आशुतोष चतुर्वेदी प्रधान संपादक, प्रभात खबर आजादी के 70 साल बाद देश में भीड़ की हिंसा जैसे मुद्दे हमारे सामने आ खड़े हुए हैं. सभ्य समाज में इसका कोई स्थान नहीं है. समाज को इस पर चिंतन करना होगा कि भीड़ तंत्र हमें किस दिशा में ले जायेगा. हम भीड़ की हिंसा को रोकने की...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चुनौतियों के बीच जी-20 (पत्रिका)

पूरी दुनिया की नजर जी-20 सम्मेलन पर है। हर कोई जानना और देखना चाह रहा है कि आखिर मंदी के दौर के बीच बाजार को किस तरह से यह सम्मेलन एक नई दिशा देता है और किस तरह से ईरान के मुद्दे का हल निकालता है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register