Month: June 2019

Death of enterprise (The Indian Express)

Written by Harish Damodaran “Nobody ever is an entrepreneur all the time, and nobody can ever be only an entrepreneur,” wrote Joseph A Schumpeter in his 1939 classic Business Cycles. Equally famous is the passage from John Maynard Keynes’ A Treatise on Money (1930): “If Enterprise is afoot, wealth accumulates. and if Enterprise is asleep,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Rethink poverty — and policy (The Indian Express)

Written by Surjit S Bhalla, Karan Bhasin Today is National Statistics Day and there is a reasonable chance that the NSSO Consumer Expenditure Survey report for agricultural year (July-June) 2017-18 will be released over the next couple of weeks. Based on our analysis of existing trends in consumer expenditure and consumer prices, we predict that...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

लोकसभा चुनाव में हार के लिए अपने साथ-साथ नेताओं को भी जिम्मेदार मान रहे हैं राहुल गांधी (दैनिक जागरण)

राहुल गांधी की ओर से कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश किए जाने के एक माह बाद भी यह जानना कठिन है कि पार्टी में क्या हो रहा है और उसका नेतृत्व कौन संभालने वाला है? राहुल गांधी एक ओर यह कह रहे हैं कि वह अपने फैसले पर अडिग हैं और दूसरी ओर...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

शिक्षा को भारत केंद्रित बनाने का अवसर, ज्ञान केंद्रित समाज से जुड़े मुद्दों पर बदलाव की है जरूरत (दैनिक जागरण)

गिरीश्वर मिश्र। भारत सरकार द्वारा नई शिक्षा नीति- 2019 का मसौदा 21वीं सदी के लिए ‘भारत केंद्रित’ और ‘जीवंत ज्ञान समाज’ के निर्माण के संकल्प के साथ प्रस्तुत हुआ है। भारत को केंद्र में रख कर शिक्षा पर विचार करना उन सभी लोगों के लिए सुखद और संतोषदायी अनुभूति है जो उसके विस्मरण, उपेक्षा या...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

माताओं की आवाज को नहीं किया जा सकता नजरअंदाज, बाल संरक्षण कानूनों में बदलाव की है जरूरत (दैनिक जागरण)

सुरन्या अय्यर। पिछले एक दशक में भारत में बच्चों के लिए कई कानून लाए गए जो एक हानिकारक पश्चिमी मॉडल पर आधारित हैं। अपने देश की वस्तु स्थिति को देखते हुए विदेशी मॉडल पर आधारित बाल संरक्षण नीति में परिवर्तन की तत्काल आवश्यकता है। मुझे उम्मीद है कि स्मृति ईरानी महिला एवं बाल विकास मंत्री...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नए मोड़ पर आर्थिक रिश्ते: यूएस विदेश मंत्री पोंपियो का दौरा भारत-अमेरिका वार्ता में जान फूंकने में सफल रहा (दैनिक जागरण)

[ हर्ष वी पंत ]: तमाम ऊहापोह और बयानबाजियों के बाद आखिर में यही लगा कि भारत और अमेरिका के बीच काफी कुछ सहज है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो द्विपक्षीय रिश्तों में तमाम अनिश्चितताओं के बीच भारत आए। उनके दौरे में दोनों देशों के बीच रिश्तों की मौजूदा तस्वीर को लेकर बहुत उत्सुकता रही,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

तत्काल तीन तलाक विधेयक का विरोध करने वालों को पीडि़त मुस्लिम महिलाओं से बात करनी चाहिए (दैनिक जागरण)

[ क्षमा शर्मा ]: तत्काल तीन तलाक की बुराई को रोकने के लिए लोकसभा में पिछले दिनों मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक पेश किया गया। उसके बाद से यह मुद्दा एक बार फिर से चर्चा में है। कुछ लोग कह रहे हैं कि जो भी पुरुष अपनी पत्नी को छोड़ता है उसे सजा मिलनी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

The basic rules of travel etiquette (Hindustan Times)

People are travelling now more than ever before. Even though air travel has become more uncomfortable (even if cheaper), it has become easier to get to even what were once considered ‘remote’ places; and more people are doing it. Which is why it’s becoming harder and harder to find pristine places. This is not to...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

‘पंजाब की जेलों में’ लगातार ‘बढ़ रही हिंसा की घटनाएं’ (पंजाब केसरी)

हम समय-समय पर देशभर की जेलों की दुरावस्था पर सरकार का ध्यान दिलाते हुए इनकी हालत सुधारने की सलाह देते रहते हैं परंतु इसका कोई असर होता दिखाई नहीं देता।  22 जून को नाभा जेल में एक कैदी की हत्या के बाद भी जेलों में पहले जैसी ही अव्यवस्था व्याप्त है तथा 24 जून को...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Air conditioning is the world’s next big threat (Livemint)

Chris Bryant , Bloomberg The vast majority of Americans have air conditioning but in Germany almost nobody does. At least not yet. So when temperatures in Berlin rose to an uncomfortable 37 Celsius (99 Fahrenheit) this week – a record for the month of June – I was uncommonly delighted to go to the Bloomberg...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register