Day: June 26, 2019

America Iran Tension: खतरनाक मोड़ पर अमेरिका-ईरान का टकराव, भारत के लिए भी बढ़ेंगी मुसीबतें (दैनिक जागरण)

[अभिषेक कुमार सिंह]। अमेरिका और ईरान के बीच खतरनाक स्तर तक पहुंच गए तनाव के बीच पूरी दुनिया खाड़ी क्षेत्र में एक और युद्ध की आशंका से भयभीत है। हाल की कुछ घटनाओं ने यह चिंता पैदा कर दी है कि अगर इन दोनों के बीच बढ़ते तनाव को कम नहीं किया गया तो एक...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

झारखंड में भीड़ की हिंसा: कानून हाथ में लेकर अराजक व्यवहार करने की इजाजत किसी को नहीं दी जा सकती (दैनिक जागरण)

झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले के एक गांव मे चोरी के आरोप में पकड़े गए युवक की भीड़ के हाथों पिटाई के बाद पुलिस हिरासत में मौत के मामले ने तूल पकड़ लिया है तो यह स्वाभाविक ही है। भीड़ की हिंसा के ऐसे मामले तूल पकड़ने ही चाहिए, क्योंकि वे विधि के शासन को नीचा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

There is much to praise in Azim Premji’s brand of capitalism (Livemint)

Sundeep Khanna The handshake was firm, the voice soft but steely: “Thank you for covering us”. It was typical of the man, a few words and no beating around the bush. It was the first time I was meeting Azim Premji, India’s most famous philanthropist and it was for a story in Business Today, the...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संसदीय कामकाज पर सवाल: 22 विधेयकों को लोकसभा से फिर पारित कराने में समय और संसाधन की बर्बादी है (दैनिक जागरण)

[ राजीव सचान ]: लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद से भाजपा के प्रबल बहुमत को जोर-शोर से रेखांकित करते हुए भले ही विपक्ष को दुर्बल बताया जा रहा हो, लेकिन सच यह है कि वह उतना भी असहाय नहीं जितना प्रचारित किया जा रहा है। शायद इस सच्चाई से सत्तापक्ष भी परिचित है और इसीलिए...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Is FATF’s warning to Pakistan enough? (Hindustan Times)

There has been much talk in recent days of Pakistan facing the possibility of being downgraded from the “grey list” to the “black list” of the Financial Action Task Force (FATF) but it is not common for a country to be included in the Paris-based multilateral watchdog’s list with harsher financial sanctions and countermeasures. For...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

The control of lynch mobs and the deterrence of terrorism (Livemint)

Rohit Prasad When the hurly-burly’s done, when the battle’s lost and won,’ we wake to find a world not very different from the one we left before the hullabaloo over the central elections began. The Anantnag terror attack highlights the continuing threat of terrorism in Kashmir. Does game theory have something to say about deterring...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हिंदी-उर्दू की अजब-गजब कथा (प्रभात खबर)

मृणाल पांडे ग्रुप सीनियर एडिटोरियल एडवाइजर, नेशनल हेराल्ड हमारे राज, समाज और सोशल मीडिया पर इन दिनों उर्दू को जबरन सिर्फ मुसलमानों की भाषा मनवाने और हिंदी से सभी फारसी-अरबी मूल के शब्द हटा कर उसका ‘शुद्धीकरण’ करने की एक नादान मुहिम चलायी जा रही है. उसे देख कर एक कहानी याद आ गयी. पुराणों...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

एमएसएमई: राहत भी सवाल भी (बिजनेस स्टैंडर्ड)

घरेलू सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) की दिक्कतों पर नजर डालने के लिए गठित भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की एक समिति ने कई ऐसे उपाय सुझाए हैं जो काबिले तारीफ हैं। इनमें 5,000 करोड़ रुपये मूल्य का संकटग्रस्त परिसंपत्ति फंड बनाने का विचार शामिल है जो टेक्सटाइल अपग्रेडेशन फंड स्कीम के तर्ज पर काम...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जन स्वास्थ्य भी विमर्श में हो शामिल (प्रभात खबर)

डॉ अनुज लुगुन सहायक प्रोफेसर, दक्षिण बिहार केंद्रीय विवि, गया यह चुनाव परिणाम के ठीक बाद की घटना है, जिसमें बच्चे बेमौत मारे जा रहे हैं. सत्ता के गलियारों में कोई सुगबुगाहट नहीं है. नागरिक समाज भी अपनी भूमिका में शून्य हो चुका है. ऐसे में भला कौन गरीबों के स्वास्थ्य की चिंता करेगा? जो...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बिगड़ा नकदी नेटवर्क (पत्रिका)

कभी केन्द्र सरकार के ‘नौ रतनों’ में शामिल रही सार्वजनिक क्षेत्र की टेलीकॉम कम्पनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) नकदी के गंभीर संकट से जूझ रही है। उसके पास अपने 1.7 लाख कर्मचारियों को जून का वेतन देने के लिए धन नहीं है। इसी साल फरवरी में भी इस तरह की खबरें आई थीं कि...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register