Day: June 24, 2019

सूखे की गिरफ्त में (नवभारत टाइम्स)

मॉनसून में देरी ने देश में सूखे के संकट को गंभीर बना दिया है। आईआईटी, गांधीनगर द्वारा चलाए जा रहे सूखा प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली के अनुसार देश के 40 फीसदी से अधिक क्षेत्रों में सूखे का संकट है जबकि ड्राउट अर्ली वार्निंग सिस्टम (ड्यूज) के अनुसार देश के 44 फीसदी हिस्से किसी न किसी रूप...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

गरीबी है असल बीमारी (राष्ट्रीय सहारा)

स्वामी अग्निवेश मुजफ्फरपुर में नौनिहालों के मौत का सिलसिला जारी है। अब तक बच्चों के मरने की संख्या लगभग दो सौ पहुंच गई है। यह पहली बार नहीं है कि इस रहस्मयी बुखार (एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम) से बच्चे काल के गाल में समा रहे हैं। बिहार के मुजफ्फरपुर और आसपास के जिलों में प्रतिवर्ष सैकड़ों...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हांगकांग की स्वायत्तता का अनिश्चित भविष्य, प्रत्यर्पण बिल पर नहीं थम रहा आंदोलन (दैनिक जागरण)

[राहुल लाल]। पूरब और पश्चिम का संधि स्थल कहा जाने वाला हांगकांग इन दिनों थम सा गया है। वहां करीब दो सप्ताह से प्रत्यर्पण कानून में संशोधन के खिलाफ लगातार प्रदर्शन हो रहे हैं और इस दौरान कई बार पुलिस के साथ हिंसक झड़पें भी हुई हैं। हालांकि हांगकांग की मुख्य कार्यकारी कैरी लैम ने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

वंदे मातरम गीत ने स्वतंत्रता संग्राम में ऐतिहासिक भूमिका निभाई, इसका आदर करना राष्ट्रीय कर्तव्य है (दैनिक जागरण)

[ हृदयनारायण दीक्षित ]: राष्ट्रभाव का विकल्प नहीं होता। वंदे मातरम भारतीय राष्ट्रभाव की काव्य अभिव्यक्ति है। यह साधारण गीत नहीं राष्ट्रगीत है। संविधान सभा ने 24 जनवरी 1950 को इसे राष्ट्रगीत स्वीकार किया। सभा के अध्यक्ष डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने कहा, ‘एक मुद्दा विचार के लिए बाकी है अर्थात राष्ट्रगान का प्रश्न। प्रस्ताव के...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अमेरिका और ईरान में बढ़ता टकराव पश्चिम एशिया के साथ-साथ विश्व शांति के लिए भी खतरा बनता जा रहा है (दैनिक जागरण)

यह ठीक नहीं कि अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ता टकराव पश्चिम एशिया के साथ-साथ पूरी दुनिया के लिए संकट का कारण बनता जा रहा है। इस संकट को टालने की हरसंभव कोशिश की जानी चाहिए, लेकिन ऐसी कोई कोशिश तभी रंग लाएगी जब दोनों पक्ष अर्थात अमेरिका और ईरान अपने-अपने रवैये में बदलाव लाने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Modi’s biggest test is improving the condition of India’s poorest (Hindustan Times)

Prime Minister (PM) Narendra Modi met a range of corporate leaders and economists on Saturday for a conversation convened by the Niti Aayog. With the first budget scheduled for July, this is a part of the larger consultation process the government is having with stakeholders and experts across spheres. The participants gave suggestions to the...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ईरान पर नीति स्पष्ट करे अमेरिका (पंजाब केसरी)

दुनिया पहले भी इस सबसे गुजर चुकी है जब 28 वर्ष पूर्व ईरान और अमेरिका में इन्हीं पानियों में टकराव हुआ था। तब होर्मुज खाड़ी में पैदा हुए संकट में एक ओर सहयोगियों सहित अमेरिकी राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन तो दूसरी ओर अयातुल्ला खुमैनी का ईरान था। तब 290 यात्रियों को ले जा रहे ईरानी विमान...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जल संकट – चेन्नई से सबक लें सभी शहर (पंजाब केसरी)

भारत में मॉनसून धीमी गति से आगे बढ़ रहा है। एक सप्ताह देर से केरल में दस्तक देकर मानसून अब तक औसत से 44 प्रतिशत कम रहा है। अरब सागर में उठे ‘वायु’ तूफान ने मानसून से नमी खींच कर इसे कमजोर किया। आमतौर पर मध्य जून तक आधे भारत तक पहुंच जाने वाला मानसून...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

नहीं थम रहा ‘सरकारी अस्पतालों’ में ‘कुप्रबंधन और लापरवाही का सिलसिला’ (पंजाब केसरी)

लोगों को सस्ती और स्तरीय चिकित्सा उपलब्ध करवाना हमारी केंद्र और राज्य सरकारों की जिम्मेदारी है परंतु ये दोनों ही इसमें विफल हो रही हैं जो सरकारी अस्पतालों में व्याप्त कुप्रबंधन की निम्र ताजा घटनाओं से स्पष्ट है :    04 जून को नकोदर में आयोजित एक परिवार नियोजन शिविर में स्वास्थ्य सुरक्षा नियमों का...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अनेक देशों में हिंसा के कारण ‘घरों से भाग रहे करोड़ों लोग’ (पंजाब केसरी)

आज विश्व के अनेक देश अराजकता, आतंक और ङ्क्षहसा की लपेट में आए हुए हैं। इस बिन बुलाई मौत से डर कर विश्व के अनेक देशों से बड़ी संख्या में लोग अपने घरों को छोड़ कर भाग रहे हैं और विस्थापित एवं शरणार्थी का जीवन व्यतीत करने को विवश हैं :   13 जून को...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register