Day: June 11, 2019

सिन्धु समझौते को हथियार बनाए भारत (दैनिक ट्रिब्यून)

भरत झुनझुनवाला नये विदेश मंत्री जयशंकर के सामने प्रमुख चुनौती पाकिस्तान के साथ संबंधों को सुधारने की है। हमने पाकिस्तान को आर्थिक दृष्टि से घेरने का प्रयास किया था। पिछली एनडीए सरकार ने पाकिस्तान से आने वाले माल पर आयात कर में वृद्धि की थी। लेकिन यह पाकिस्तान को भारी नहीं पड़ रहा है, चूंकि...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

लेखन की कमाई से आजादी की लड़ाई (दैनिक ट्रिब्यून)

आलोक पुराणिक खान साहब के नाम पर बना बाजार चर्चा में है। खान साहब यानी एक स्वतंत्रता सेनानी गफ्फार खान के नाम पर यह बाजार बना। खान साहब सादगी पसंद थे, पर यह बाजार परम इलीट है। पीएम मोदी ने इस बाजार का जिक्र एक साक्षात्कार में किया। पीएम मोदी के कहे का आशय था...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कठुआ गैंगरेप पर फैसला: धर्म, राजनीति और न्याय (नवभारत टाइम्स)

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में एक आठ वर्षीय बच्ची से बलात्कार और उसकी हत्या के मामले में न्याय तो हो गया, लेकिन इस प्रकरण में लहूलुहान हुई इंसानियत को क्या नई जिंदगी मिल पाएगी? पठानकोट की एक विशेष अदालत ने सोमवार को कठुआ कांड में छह लोगों को दोषी करार दिया। सातवें आरोपी, यानी मुख्य...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पड़ोसी पहले का संदेश (राष्ट्रीय सहारा)

इस बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने शपथ-ग्रहण में सार्क देशों की बजाय बिम्सटेक देशों को आमंत्रित किया था, जिसके चलते मालदीव छूट गया था। ऐसे में यह संदेश जा सकता था कि भारत अपनी नेबर्स फस्र्ट पॉलिसी से पीछे हट रहा है। इसलिए भारत को यह बताने की आवश्यकता थी कि उसने नेबर्स फस्र्ट...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Raja Mandala: India and the Sino-Russian alliance (The Indian Express)

Written by C. Raja Mohan As Prime Minister Narendra Modi heads this week to the summit of the Shanghai Cooperation Organisation, the media interest is riveted on what might or might not happen between him and Pakistan’s Imran Khan. Modi, though, might have other things at the top of his mind — the unfolding alliance...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

His empire of dirt (The Indian Express)

Written by Gaurav Bhatt Minutes after Rafael Nadal had won the French Open on Sunday night, the Wikipedia entry of the tournament had been edited to read: “French Open is a major tennis tournament held over two weeks at the Stade Roland-Garros in Paris, beginning in late May and ending after Rafael Nadal kisses the...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Giving voice to Girish Karnad (The Indian Express)

Written by Githa Hariharan What do we remember a writer for? For the written work of course; the answer may seem obvious. But in the case of Girish Karnad, the obvious falls flat. It remains partial. To describe Girish Karnad as a major Indian playwright, or a versatile actor, or an influential intellectual, is simply...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

A new India for farmers (The Indian Express)

Written by Ajay Vir Jakhar After half a century, India is under a major locust attack from breeding grounds in Balochistan, Pakistan. Other international tidings are also not favourable for Indian farmers. In 2014, crude prices had hit rock bottom and the government received a bonanza of a few lakh crore. Circumstances have changed today:...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

लाइफ स्टाइल में 100वें पायदान से भी नीचे भारत, चीन व जापान से ले सकते हैं सबक (दैनिक जागरण)

[अश्विनी उपाध्याय]। जल-जंगल और जमीन की समस्या, गरीबी और बेरोजगारी की समस्या, भुखमरी और कुपोषण की समस्या तथा वायु, जल, मृदा और ध्वनि प्रदूषण की समस्या का मूल कारण प्राकृतिक संसाधनों का बढ़ता दोहन है, जो सीधे-सीधे बढ़ती आबादी से जुड़ा मसला है। भारत में इस विशाल आबादी के कारण ही अनेक समस्याएं विकराल रूप...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संकीर्ण राजनीति की शिकार हिंदी, जानें- क्या है नई शिक्षा नीति का त्रिभाषी फार्मूला (दैनिक जागरण)

[पीयूष द्विवेदी]। आज देश के सभी क्षेत्रों में हिंदी का उपयोग बढ़ रहा है। जिन क्षेत्रों में हिंदी का उपयोग नहीं होता था, उनमें भी हिंदी की स्वीकार्यता बढ़ी है। लेकिन दक्षिण भारतीय राज्यों, खासकर तमिलनाडु में हिंदी को लेकर खास बदलाव नहीं हुआ है। ऐसे में सरकार को चाहिए कि वह उन राज्यों में...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register