Day: May 18, 2019

अपराध के दायरे में देखें हर आतंकी को (दैनिक ट्रिब्यून)

विश्वनाथ सचदेव तीस जनवरी 1948 को जब महात्मा गांधी की हत्या हुई तो जवाहरलाल नेहरू ने कहा था-एक पाग़ल ने बापू को मार दिया। मुझे लगता है कि राष्ट्रपिता पर गोली चलाने वाले व्यक्ति की यही सही पहचान है। हकीकत यह है कि इस प्रकार का कुकृत्य करने वाला व्यक्ति किसी धर्म से नहीं जुड़ा...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कौन जाएगा अमेरिका (नवभारत टाइम्स)

अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने वीजा नियमों में बदलाव का प्रस्ताव रख दिया है, जिसके तहत मेरिट के आधार पर ही विदेशियों को अमेरिका में आने की इजाजत दी जाएगी। अभी तक सिर्फ 12 फीसदी लोगों को स्किल की वजह से ग्रीन कार्ड दिया जाता था, लेकिन नए नियमों के तहत इसे बढ़ाकर 57...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

समर का सफर (दैनिक ट्रिब्यून)

आखिरकार लंबा-थकाऊ चुनावी समर अपने अंतिम दौर में आ पहुंचा है, जिसमें उत्तर के हिमाचल व पंजाब से लेकर पश्चिम बंगाल तक 59 सीटें दांव पर लगी हैं। राजनीतिक परिदृश्य में ये सीटें कितनी निर्णायक होंगी, कहना जल्दबाजी होगी, मगर इनमें प्रधानमंत्री के चुनाव क्षेत्र वाराणसी से लेकर कई हाई प्रोफाइल सीटों पर प्रत्याशियों के...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अमेरिकी कंपनियों से भी कमाई के विकल्प (दैनिक ट्रिब्यून)

आलोक पुराणिक जब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कोई बात कहते हैं तो उसका असर भारतीय शेयर बाजार पर महसूस किया जाता है। मुंबई शेयर बाजार का सूचकांक सेंसेक्स अमेरिकन राष्ट्रपति के बयानों से डर कर नीचे गिर जाता है। हाल में अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्ध गहराने के संकेत मिले तो भारतीय...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Analysis: मोदी और अंतरराष्ट्रीय मीडिया; कैसे छप रही समान नजरिये वाली खबरें (दैनिक जागरण)

[ प्रो. निरंजन कुमार ] अमेरिकी पत्रिका ‘टाइम’ के हालिया अंतरराष्ट्रीय संस्करण के आवरण पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर के साथ शीर्षक छपा-‘इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’ यानी भारत को विभाजित करने वाला मुखिया। इसकी मीडिया और सोशल मीडिया में काफी चर्चा रही। विपक्षी नेताओं और खासकर कांग्रेसियों ने इसे अपने पक्ष में भुनाने की...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Elections 2019: Democracy alive, but not in good health (Hindustan Times)

As the 2019 elections draw to an end, it is time to look back at what has worked — and what has not — for Indian democracy. One of the fundamental features of the democratic political system is periodic elections. From the founding of the republic, barring the interregnum because of the Emergency, India has...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Analysis: आपदा में तब्दील होता जलवायु परिवर्तन, दुनिया के लिए बना संवेदनशील मुद्दा (दैनिक जागरण)

[ विजय कुमार चौधरी ] इस माह पहली मई को ब्रिटेन की संसद ने एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए ‘पर्यावरण एवं जलवायु आपातकाल’ लागू करने का प्रस्ताव पारित किया। इसके पहले वेल्स एवं स्कॉटलैंड ने भी इसी तरह के आपातकाल की घोषणा की थी। यह अपने आप में एक क्रांतिकारी कदम था। इसने पूरी दुनिया...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय, जनसत्ता संपादकीय (जनसत्ता)

इससे बड़ी विडंबना और क्या होगी कि कोई व्यक्ति जीवन बच सकने की उम्मीद में अस्पताल पहुंचे और वहां इलाज करने के बजाय उसे सिर्फ इसलिए लौटा दिया जाए कि उसके पास आधार कार्ड न हो। एक खबर के मुताबिक उत्तर प्रदेश में नोएडा के जिला अस्पताल में यह नई व्यवस्था लागू की गई है...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अशांति की घाटी (जनसत्ता)

जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में हालात जिस कदर बिगड़े हैं, वे चिंता पैदा करने वाले हैं। इस साल फरवरी में पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर बड़े आतंकी हमले के बाद लगा था कि अब तो सरकार की आंखें खुली होंगी और आने वाले दिनों में कुछ ऐसे कदम उठेंगे जिनसे राज्य में हालात...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अशांति की घाटी (जनसत्ता)

जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में हालात जिस कदर बिगड़े हैं, वे चिंता पैदा करने वाले हैं। इस साल फरवरी में पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर बड़े आतंकी हमले के बाद लगा था कि अब तो सरकार की आंखें खुली होंगी और आने वाले दिनों में कुछ ऐसे कदम उठेंगे जिनसे राज्य में हालात...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register