Day: May 4, 2019

The essence of democracy (The Hindu)

Gopalkrishna Gandhi What does Sir William Garrow (1760-1840) have to do with the elections now under way in India? The well-known and much-invoked phrase “innocent until proven guilty” was coined by that British barrister in the course of a 1791 trial at the Old Bailey. He turned the tables on legal practice at that trial...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मोदी के रथ को रोक कर 2019 में गेम चेंजर साबित हो सकता है गठबंधन का जोड़ (अमर उजाला)

अजय बोस, बहनजी: अ पोलिटिकल बायोग्राफी ऑफ मायावती के लेखक चार चरणों के मतदान के बाद ऐसा लगता है कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने समाजवादी पार्टी के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन करने का जो साहसिक फैसला लिया था, वह उत्तर प्रदेश में जमीन पर काम कर रहा है। जमीनी रिपोर्ट्स बताती हैं कि जाटवों का...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हिंदू युवा वाहिनी से मिलती रही है योगी को राजनीतिक ऊर्जा (बिजनेस स्टैंडर्ड)

आदिति फडणीस लोगों को पहला बदलाव भोजन में दिखा था। योगी आदित्यनाथ एक महंत हैं और पवित्रता पर विशेष ध्यान देते हैं। सात्विकता और पवित्रता जैसे कारणों से वह कहीं भी भोजन नहीं करते थे। लेकिन सांसद होने के नाते उन्हें क्षेत्र के लोग खाने का न्योता भी देते थे। लेकिन योगी के समर्थक पहले...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

वित्तीय बचत की पूरी जानकारी आए सामने! (बिजनेस स्टैंडर्ड)

नीलकंठ मिश्रा क्या हमारी बचत पर्याप्त है? यह सवाल आम परिवारों के साथ-साथ अर्थव्यवस्था की दृष्टिï से भी समान रूप से महत्त्वपूर्ण है। बचत में कमी का अर्थ होगा निवेश के लिए कम पूंजी। इसके दो विपरीत परिणाम हो सकते हैं: इससे पूंजी महंगी होती है और अर्थव्यवस्था की विदेशी पूंजी पर निर्भरता बढ़ती है।...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

एक कूटनीतिक जीत के कई दावेदार (दैनिक ट्रिब्यून)

पुष्परंजन जो कुछ संयुक्त राष्ट्र में हुआ, क्या वह अमेरिकी डिप्लोमेसी की जीत थी? अमेरिकी विदेशमंत्री माइक पोंपियो ने ट्वीट किया है तो मानना पड़ेगा। भारत, उसका खंडन करे तो कैसे? उन्होंने ऐसे समय यह ट्वीट किया, जब भारत में बयानों के पटाखे छूट रहे थे। चुनावी मंच से लेकर टीवी शो तक उद्वेलित हैं।...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

फानी का कहर (दैनिक ट्रिब्यून)

उड़ीसा के तटों पर पहुंचकर चक्रवाती तूफान फानी ने जो तांडव दिखाया, समय रहते की गई तैयारियों ने मानवीय क्षति को तो कम किया ही, मगर उससे हुई तबाही से उबरने में कुछ वक्त जरूर लगेगा। दो सौ किलोमीटर की रफ्तार वाले तूफान और तेज बारिश से जनजीवन सहम-सा गया। तीन दशक बाद आए ऐसे...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

व्यवस्थित निवेश योजना में संयम जरूरी (दैनिक ट्रिब्यून)

आलोक पुराणिक कई काम ऐसे होते हैं, जिन्हें करना मुश्किल होता है और जिन्हें करते रहना और भी मुश्किल होता है। निवेश भी ऐसे ही कामों में से एक है। उचित विश्लेषण के बाद सही निवेश विकल्प तलाशना आसान नहीं होता। हालांकि अब निवेश को आसान बनाने के लिए तमाम संस्थाओं द्वारा तरह-तरह के अभियान...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

फोनी का कहर (नवभारत टाइम्स)

ओडिशा और आसपास के राज्य पिछले दो दशकों के सबसे खतरनाक चक्रवाती तूफान का सामना कर रहे हैं। फोनी नाम के इस तूफान ने भारत के पूर्वी राज्यों की नींद उड़ा रखी है। अभी तक तीन लोगों के मारे जाने, बहुत सारे पेड़ गिरने, बिजली के खंभे उखड़ने और काफी भीतर तक समुद्री पानी घुस...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

भारत में सिर उठाता जिहादी आतंक, यहां भी है श्रीलंका जैसे खतरे के आसार (दैनिक जागरण)

ब्रह्मा चेलानी। भारत जहां जम्मू-कश्मीर में आतंक की चुनौती का तोड़ निकालने की जद्दोजहद में जुटा है वहीं पश्चिम बंगाल, केरल और तमिलनाडु जैसे राज्यों में धीरे-धीरे जिहादी ताकतें सिर उठा रही हैं। भारत लगातार बढ़ते इस खतरे की अनदेखी नहीं कर सकता है, क्योंकि आइएस ने कथित रूप से बंगाल के लिए अपने नए...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

तूफान से लड़ने में एनडीआरएफ भरोसे का बल ही नहीं, देश की एक ताकत भी (दैनिक जागरण)

बचाव के हर संभव उपाय ही प्राकृतिक आपदाओं से निपटने का बेहतर जरिया हैं, यह एक बार फिर साबित हो रहा है ओडिशा में, जो खतरनाक तीव्रता वाले तूफान फणि से दो-चार हुआ। हालांकि इस प्रचंड तूफान का असर ओडिशा के साथ-साथ आंध्र, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल समेत पूर्वोत्तर के भी कुछ इलाकों में देखने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register