Day: April 27, 2019

लोकतंत्र की छांव में करोड़पति (दैनिक ट्रिब्यून)

सहीराम करोड़पतियों के चुनाव लड़ने का एक फायदा यह हो गया है कि अब सड़कों पर नोट मिल रहे हैं। नोटों के बारे में अक्सर यही कहा जाता है कि वे तिजोरियों में मिलते हैं। हालांकि हमारे नेताओं के यहां गद्दों, तकियों और बोरियों में भी नोट पाए जाते हैं। कुछ लोग नोट ओढ़ते तो...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

लोकतंत्र की विडंबनाओं का स्याह सच (दैनिक ट्रिब्यून)

जूलियो रिबेरो भाजपा के नेतृत्व ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल से अपने दल का प्रत्याशी बनाए जाने को न्यायोचित ठहराया है। दिग्विजय सिंह वह व्यक्ति हैं, जिन्होंने सबसे पहले ‘भगवा आतंकवाद’ नामक शब्द गढ़ा था और अब यह भोपाल के लोगों को तय करना है कि वे उनकी इस परिभाषा से कितना इत्तेफाक...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सियासी उलझन का फायदा कांग्रेस को (दैनिक ट्रिब्यून)

हमीर सिंह पिछले लोकसभा चुनाव में मोदी का जादू इस कदर सिर चढ़कर बोला कि भाजपा 282 के आंकड़े तक पहुंच गई पर पंजाब का सियासी मिजाज कुछ अलग ही रहा। यहां आम आदमी पार्टी को लोगों ने सिर-आंखों पर बिठा लिया था। पार्टी पूरे देश में केवल चार सीटें जीतने में कामयाब रही और...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

वॉकओवर का खेल (नवभारत टाइम्स)

वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ प्रियंका गांधी को न उतारने के कांग्रेस के फैसले से एक बड़े तबके को निराशा हुई है। पिछले दिनों कांग्रेस के भीतर से ही यह चर्चा उठी थी कि नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक मजबूत उम्मीदवार के रूप में पार्टी प्रियंका गांधी को आगे ला सकती है। इस...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सनक को नेस्तनाबूद करना होगा (राष्ट्रीय सहारा)

सौरभ जैन हाल ही में बिहार के भागलपुर में 17 वर्षीय छात्रा के घर में घुस कर आरोपियों ने उस पर एसिड से हमला कर दिया। आरोपियों की मंशा सामूहिक दुष्कर्म की थी और वे यह सोच कर ही आए थे कि यदि सामूहिक दुष्कर्म के प्रयास में विफल हो जाते हैं तो छात्रा पर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

गैर-उच्च जातियां – सशक्तिकरण बड़ा मुद्दा (राष्ट्रीय सहारा)

एन.के. सिंह अगर आप किसी सड़क पर चलते आदमी या पोलिंग बूथ पर लाइन में खड़े वोटर से पूछेंगे कि मतदान के लिए क्या मुख्य मुद्दे हैं, तो वह कहेगा, ‘‘विकास, स्वास्य, शिक्षा, सफाई या रोजगार’। पर वह सच नहीं बोल रहा है, या उसे लगता है कि यही जवाब दिया जाता है। लेकिन भारत...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Anatomy of an attack (The Indian Express)

Written by Syed Ata Hasnain God has often been unkind kind to the island nation of 21 million people. Such a beautiful land and such good people but Sri Lanka seems doomed to its unfortunate fate of violence of different forms. The latest carnage involving bombings by as many as seven suspected suicide bombers, leading...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Wisdom From The Fringe (The Indian Express)

Written by Khaled Ahmed When you want to put a lock on the collective mind, you embrace “ideology”. This is a recipe for creating a uniform mind but you have to add a bit of punishment to make it hold. Religion comes in handy because it allows you to punish deviation. In case the state...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Ethics in the time of technology  (The Indian Express)

Written by Peter Ronald DeSouza  Consider this: An external advisory council, the Advanced Technology External Advisory Council (ATEAC) — essentially an ethics council to guide new technologies — set up by Google in the last week of March, being disbanded in the first week of April, within less than a fortnight. However, one wants to...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Democracy with deliverance (The Indian Express)

Written by Vinay Sahasrabuddhe For decades, issues like deepening democracy dominated the global discourse on democracy. But sadly, the reasons behind the inherent limitations of democracy in the context of its ability to deliver rarely got the attention they merit. The gap between reasonable popular expectations from democratic governance and the actual performance of elected...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register