Day: April 9, 2019

जांच की रफ्तार से एजेंसी कठघरे में (दैनिक ट्रिब्यून)

अनूप भटनागर केन्द्रीय जांच ब्यूरो एक बार फिर रसूख वाले व्यक्तियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच की रफ्तार को लेकर कठघरे में है। इस बार, समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह और उनके पुत्र अखिलेश यादव के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के आरोपों की जांच की प्रगति और शारदा चिटफण्ड...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मांग-निवेश बढ़ने से समृद्धि की राह (दैनिक ट्रिब्यून)

भरत झुनझुनवाला बीते दशक में हमारी विकास दर लगभग 7 प्रतिशत रही है। इससे देश की जनता संतुष्ट नहीं है। इसे बढ़ाने के लिए मांग और निवेश के सुचक्र को गति देनी होगी। बाजार में माल की मांग होगी तो निजी निवेश स्वयं आएगा। साथ-साथ टेलीफोन, हाईवे, रेल जैसी बुनियादी सुविधाओं में सरकारी निवेश होने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

भविष्य से खिलवाड़ (दैनिक ट्रिब्यून)

इसे विडम्बना ही कहा जाएगा कि गत शुक्रवार को केंद्रीय लोक सेवा आयोग की परीक्षा में अनुसूचित जाति के विद्यार्थी कनिष्क कटारिया ने अव्वल स्थान हासिल करके यह साबित किया कि अगर उन्हें भी प्रतिभा दिखाने के मौके उपलब्ध होंगे तो वे भी किसी से कम नहीं हैं। उसी हरियाणा सरकार के अनुसूचित एवं पिछड़ा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जुमलों से न ललचाइए उन्हें (राष्ट्रीय सहारा)

यह बताने वाले बहुत से सर्वे किए गए हैं कि इस बार के आम चुनावों में औरतें मदरे के मुकाबले ज्यादा संख्या में वोट कर सकती हैं। चुनाव आयोग का कहना है कि 2012 से 2018 के दौरान देश के 30 में से 23 राज्यों के विधानसभा चुनावों में औरतों ने पुरु षों के मुकाबले...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Analysis: कांग्रेस पार्टी का घोषणापत्र, भरोसा न जगाने वाली गुलाबी तस्वीर (दैनिक जागरण)

[ए. सूर्यप्रकाश]। कांग्रेस पार्टी ने हाल में अपना चुनावी घोषणापत्र जारी किया है। वह भारत की सबसे पुरानी पार्टी है और देश भर में उसका कुछ न कुछ आधार अभी भी है, लेकिन यह बात अलग है कि मौजूदा दौर में यह आधार इतना सिकुड़ गया है कि कई राज्यों में तो यह नाम मात्र...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

झांसे में न आएं (राष्ट्रीय सहारा)

अवधेश कुमार चुनावी और दलीय राजनीति की दर्दनाक सीमाएं बार-बार स्पष्ट हो रही हैं। दो घटनाओं को हम आधार बना सकते हैं। मीडिया में यह खबर अचानक सुर्खियां बन गई कि अमेरिका के रक्षा विभाग ने पाकिस्तान में एफ 16 विमानों की गिनती की है, और वह संख्या में पूरी पाई गई। इसके एक दिन...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

US vs Europe in India (The Indian Express)

Written by K. Sujatha Rao The forthcoming election is going to be an inflexion point for India’s health system story — how affordable, how accessible, how equal? Though health is not a political priority as yet, two visions of the future health policy seem to be clearly emerging. One, espoused by the BJP — a...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

For Meaningful Manifestos (The Indian Express)

Written by Arun Kumar General elections are the time for the political parties to vie with each other to produce more innovative and inclusive manifestos than their rivals. There is something for everyone, especially for the marginalised sections — women, Dalits, farmers, workers and so on. They also promise to end poverty, promote industry and...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

The Pune plan for China (The Indian Express)

Written by Gautam Bambawale Even as India heads into a general election, it is important to keep focus on and not lose track of how the country must shape its foreign policy over the coming five years. Suggestions, inputs, advice on these issues will be valuable to whichever government is formed. Within our larger foreign...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Diplomacy by stealth (The Indian Express)

Written by C. Raja Mohan “Absence of evidence”, former US defence secretary Donald Rumsfeld had said famously, is not “evidence of absence”. Rumsfeld was answering questions about the US inability to find weapons of mass destruction in Iraq. Washington, you might recall, had cited Iraq’s WMD as the principal justification for ousting Saddam Hussein’s regime...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register