Day: March 29, 2019

आचार बनाम प्रचार (जनसत्ता)

आजकल चुनावों में किस कदर धनबल का बोलबाला रहता है, यह छिपी बात नहीं है। निर्वाचन आयोग पैसा, शराब, नशीले पदार्थ, जेवरात वगैरह बांट कर मतदाताओं को रिझाने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने का प्रयास करता है, पर हकीकत यह है कि हर बार यह प्रवृत्ति कुछ बढ़ी हुई ही नजर आती है। इस बार...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सितारों के सहारे (जनसत्ता)

हाल ही में फिल्मी जगत की मशहूर नायिका उर्मिला मातोंडकर कांग्रेस में शामिल हुईं तो जयाप्रदा ने अब भाजपा का दामन थाम लिया। हेमा मालिनी, शत्रुघ्न सिन्हा, राज बब्बर, रवि किशन, दिनेशलाल यादव (निरहुआ) और गौतम गंभीर जैसे कई नाम ऐसे हैं जिन्होंने या तो फिल्मी दुनिया से अपनी पहचान बनाई है या फिर खेल...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पांच पीढ़ियों का न्यायिक अनुभव वाला लोकपाल (दैनिक ट्रिब्यून)

अरुण नैथानी भले ही देश ने पारदर्शी लोकतंत्र के रखवाले लोकपाल के लिये पांच दशक इंतजार किया हो, मगर देर आये दुरुस्त आये की तर्ज पर देश को एक लोकपाल मिला है जो निर्भीक व संवेदनशील फैसलों के लिये जाना जाता है। नि:संदेह उनके रक्त में न्यायिक संस्कार हैं। पांच पीढ़ियों का लगातार न्यायिक सेवा...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पर्यावरण के लिए बच्चों की वैश्विक मुहिम (दैनिक ट्रिब्यून)

प्रीतम सिंह दुनिया के इतिहास में नया अध्याय लिखा जा रहा है। पर्यावरण में आए बदलावों पर पहली बार भूमिकाएं बदलते हुए बच्चे अपने से बड़ों की अगुआई कर रहे हैं। आज हम लोग जिस किस्म की पर्यावरणीय एवं सामाजिक तबाही के कगार पर खड़े हैं, उसकी इतनी संभावना इससे पहले शायद ही कभी पृथ्वी...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जात-मुक्त बने समाज (दैनिक ट्रिब्यून)

सभी को समानता का अधिकार है लेकिन कुछ लोगों को बराबरी के इस हक में भी तरजीह दी जाती है क्योंकि जाति विशेष के कारण उनके नाम का डंका बजता है। परंतु अदालती मामलों में अब ऐसा नहीं चलेगा। पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट ने अपने ताजा आदेशों में फौजदारी मामलों की प्राथमिकी में अभियुक्त की...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ब्रेग्जिट की फांस (नवभारत टाइम्स)

ब्रेग्जिट के भंवर में ब्रिटेन कुछ ऐसा फंस गया है कि लाख कोशिश के बाद भी इससे निकल नहीं पा रहा। साल 2016 में 23 जून को हुए एक जनमत संग्रह में जब ब्रिटिश जनता ने 51.9 फीसदी के बहुमत से यह फैसला सुनाया कि ब्रिटेन को यूरोपीय समुदाय (ईयू) से बाहर निकल आना चाहिए,...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अंतरिक्ष में रक्षा (नवभारत टाइम्स)

भारत ने अंतरिक्ष में सुरक्षा के लिए एंटी सैटेलाइट मिसाइल तकनीक पहले ही विकसित कर ली थी, अब उसका परीक्षण भी कर लिया है। इस क्रम में आधिकारिक रूप से यह तकनीक हासिल करने वाला वह विश्व का चौथा देश बन गया है। अभी तक ऐसी मिसाइल के सफल परीक्षण केवल अमेरिका, रूस और चीन...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मिशन शक्ति- अंतरिक्ष में सामरिक बढ़त (राष्ट्रीय सहारा)

शशांक द्विवेदी सामरिक और अंतरिक्ष क्षेत्र में एक बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए भारत ने सैटेलाइट को मार गिराने वाली एंटी-सैटेलाइट मिसाइल की सफल लॉचिंग की है। भारतीय मिसाइल ने प्रक्षेपण के तीन मिनट के भीतर ही धरती की निचली कक्षा में 300 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित लो अर्थ ऑर्बिट में एक सैटेलाइट को...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Our silence on poverty (The Indian Express)

Written by Pratap Bhanu Mehta Any proposal to directly alleviate poverty in India brings out the inner lawyer in many of us. There are two characteristic tactics. One is to attack such measures by rhetorical re-description. Words like “dole” and “dependence” are bandied about as if money in the hands of the poor will somehow...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Their right to the city’ (The Indian Express)

Written by Eklavya Vasudev On March 18, the Delhi High Court held that slum dwellers are not secondary citizens but citizens with equal rights. Authorities can evict slum dwellers only when their occupation of the land is illegal. Any unannounced eviction without a resettlement and rehabilitation plan is also not permitted. The judgment by a...

This content is for Welcome Subscription Special  offer, Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register