Day: March 18, 2019

Decoding the Priyanka gamble (The Indian Express)

Written by Akhilesh Mishra “It is my hope that you (Modi) become Prime Minister again.” This was the parting wish of Mulayam Singh Yadav on the last day of the 16th Lok Sabha. How will this wish of the patriarch of Samajwadi Party resonate in Uttar Pradesh as the country officially enters poll season? It...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

From plate to plough: Fielding the right incentives (The Indian Express)

Written by Ashok Gulati, Ritika Juneja Just ahead of the announcement of the 2019 general election dates, the prime minister launched the centrally sponsored ‘Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi’ (PM-Kisan) scheme of Rs 75,000 crore for small and marginal farm families. On February 24, from Gorakhpur in Uttar Pradesh, he transferred the first instalment of...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Across the aisle: Mr Modi’s Balakot dream (The Indian Express)

Written by P Chidambaram The Election Commission sounded the bugle on Sunday, March 10, 2019. They had done their last act of favour to the government. The announcement was received with a huge sigh of relief by the people: there will be no more foundation stones, no more ordinances, and no more desperate ‘launch’ of...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में ‘विलेन’ बन रहा है चीन, गुस्से में भारत (दैनिक जागरण)

[पीयूष द्विवेदी]। बीते कुछ वर्षों के दौरान जम्मू कश्मीर के अलावा देश के अनेक हिस्सों में हुए अनेक आतंकवादी हमलों में आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद का नाम प्रमुखता से सामने आया है। इस संगठन का नेतृत्व करने वाले मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) द्वारा वैश्विक आतंकवादी घोषित करने की राह में...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

राजनीतिक दलों को लोक सभा चुनाव ‘आइडिया ऑफ इंडिया’ की रक्षा के नाम पर लड़ना चाहिए (दैनिक जागरण)

[ अश्विनी कुमार ]: निर्वाचन आयोग द्वारा चुनाव तिथियों की घोषणा के साथ ही 17वीं लोकसभा के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई। दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र एक बार फिर स्वयं को साबित करने जा रहा है जहां दस लाख से अधिक बूथों पर तकरीबन 90 करोड़ मतदाता नई सरकार चुनने के लिए मतदान...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अमेरिका के एक फैसले से भारत को हो सकता है बड़ा नुकसान, रोजगार पर भी संकट (दैनिक जागरण)

डॉ. जयंतीलाल भंडारी। कुछ समय पहले तक अमेरिका और चीन के मध्य ट्रेड वॉर गहराने का परिदृश्य उभर रहा था, लेकिन अब हालात बदल रहे हैं। बीते सप्ताह ट्रंप ने अमेरिकी संसद को एक पत्र के जरिये भारत को जनरलाइज्ड सिस्टम प्रिफरेंस (जीएसपी) कार्यक्रम से बाहर करने के अपने इरादे से अवगत कराया। इस कार्यक्रम...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आतंकी अजहर पर मेहरबान चीन: भारत को अपनी चीन नीति पर नए सिरे से विचार करना चाहिए (दैनिक जागरण)

[ संजय गुप्त ]: पाकिस्तान में पोषित और संरक्षित आतंकी संगठन जैश ए मुहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र की पाबंदी लगाने के लिए आए प्रस्ताव पर चीन ने एक बार फिर अड़ंगा लगा दिया। यह प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के तीन स्थाई सदस्यों फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका के साथ सभी अस्थाई...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

लोकपाल का गठन ऐसे समय में हो रहा है जब देश में आदर्श आचार संहिता अमल में आ चुकी है (दैनिक जागरण)

देश के पहले लोकपाल के तौर पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश पीसी घोष का नाम सामने आना एक अच्छी खबर तो है, लेकिन अगर उनके नाम की आधिकारिक घोषणा हो जाती है तो भी यह कहना कठिन है कि भ्रष्टाचार रोधी एक प्रभावी और विश्वसनीय व्यवस्था आकार लेने वाली है। एक तो अभी लोकपाल...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चुनाव के समय संकीर्ण राजनीतिक स्वार्थों के कारण नेताओं में दलबदल की बीमारी घेर लेती है (दैनिक जागरण)

आम चुनाव की घोषणा होते ही दलबदल शुरू हो जाना कोई नई-अनोखी बात नहीं, लेकिन यह भी साफ है कि अब यह काम बिना किसी शर्म-संकोच के हो रहा है। दो दिन पहले तक दल विशेष की भयंकर आलोचना करने वाले नेता जिस तरह बिना किसी हिचक के उसी दल में शामिल हो जा रहे...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Questionable economic data can hamper policies (Hindustan Times)

Last week, 108 economists and social scientists issued a joint statement which marks a watershed moment of sorts in India’s economic history. They were not arguing for or against an economic policy or viewpoint. Rather, the letter is written under the fear that such debates regarding the Indian economy might lose their gravitas in the...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register