Day: March 16, 2019

जोखिम के साथ बेहतर परिणाम की उम्मीद (दैनिक ट्रिब्यून)

आलोक पुराणिक कई लोगों की मानसिकता का विश्लेषण करें तो एक बात साफ होती है कि भविष्य को लेकर या तो बहुत आशंकाएं होती हैं या बहुत ही आशावाद। आप लोगों से बात करें तो दो किस्म की बातें साफ होती हैं। एक तो उस तरह के लोग मिलते हैं जो बताते हैं कि कुछ...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मध्यम वर्ग का दर्द भी कीजिए महसूस (दैनिक ट्रिब्यून)

जयन्तीलाल भंडारी इन दिनों आम चुनाव 2019 के लिए विभिन्न राजनैतिक दल अपने-अपने घोषणापत्र तैयार करने में जुट गए हैं। इन घोषणापत्रों में विभिन्न वर्गों को लुभाने के लिए चमकीली घोषणाएं शामिल की जाएंगी। ऐसे में विभिन्न राजनैतिक दलों के चुनावी घोषणापत्रों में मध्यम वर्ग के हितों के लिए भी उपयुक्त घोषणाएं अपेक्षित की जा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

The Persistent Ghost Of Manto (The Indian Express)

Written by Khaled Ahmed Pakistan, predictably, banned Nandita Das’s film “Manto” last year because “it does not subscribe to the correct version of the Partition”. Filmgoers were outraged in Lahore, Manto’s city, and even the Federal Minister for Information and Broadcasting, Fawad Chaudhry, was forced to make a somewhat inane defence of the film, saying,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Holding up the fourth branch (The Indian Express)

Written by Tarunabh Khaitan The independence and credibility of our (admittedly imperfect) state institutions have never been so thoroughly in doubt since the Emergency. Characterised as the fourth branch of the state — because of their distinctiveness from the executive, legislature and judiciary — these institutions are tasked with the protection of key constitutional values...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पैकिंग बताएगी गुणवत्ता (दैनिक ट्रिब्यून)

डेयरी उत्पाद हों या मिठाई की दुकान अथवा घर की कड़ाही में तली जाने वाली होली की गुझिया के लिए मावा। सबकी चिंता यही है कि बाजार में मिल रहा खोया कितना शुद्ध है। खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता सभी उपभोक्ताओं की चिंता का विषय है। दूध से बने पदार्थों जैसे कि पनीर, खोया, मावा, दही,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कट्टरपंथ का विस्फोट (नवभारत टाइम्स)

न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हुए आतंकी हमले से पूरी दुनिया सकते में है। यहां शुक्रवार को अल नूर मस्जिद और लिनवुड मस्जिद में नमाज पढ़ने गए लोगों पर हथियारबंद हमलावरों ने अंधाधुंध गोलीबारी की, जिसमें 50 के आसपास लोग मारे गए और कई घायल हो गए। न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न ने इसे आतंकवादी घटना...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Because we represent diversity (The Indian Express)

Written by New Zealand PM Jacinda Ardern It is with extreme sadness that I tell you that as at 7pm tonight (March 15, New Zealand time), we believe that 40 people have lost their lives in this act of extreme violence. There are also more than 20 seriously injured who are currently in Christchurch A&E....

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

A stunting reality (The Indian Express)

Written by Neerja Chowdhury As things stand, 2019 is likely to be an election driven by emotion. As Narendra Modi hit out at the Opposition that they were trying to “finish Modi” while he wanted to finish “terrorism, poverty and malnutrition”, it is probably the first time that a prime minister had put combating malnutrition...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कृपा की प्रतीक्षा ही क्यों? (राष्ट्रीय सहारा)

पुष्पेश पंत चीन ने एक बार फिर भारत के मुख पर करारा राजनियक तमाचा जड़ दिया है और वह भी तिलमिलाहट बढ़ाने वाली चुनावी घड़ी में। अजहर मसूद को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी करार देने वाले राष्ट्रसंघ के प्रस्ताव को उसने अपने वीटो से निरस्त कर दिया है। चीन का यह फैसला अप्रत्याशित नहीं था। अत: ज्यादा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पढ़िए यह रोचक स्टोरी- कैसे अपनी ही भविष्य की बर्बादी की नींव खोद रहा पाकिस्तान (दैनिक जागरण)

[कालू राम शर्मा]। पाकिस्तान की स्कूली शिक्षा, खासकर लड़कियों की शिक्षा के बारे में मलाला के जीवन से बहुत कुछ समझा जा सकता है। अक्टूबर 2012 में मात्र 14 बरस की उम्र में तालिबानी आतंकियों के हमले का शिकार बनी मलाला बुरी तरह से घायल हुई और अंतरराष्ट्रीय मीडिया की सुर्खियों में आ गई। वर्ष...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register